logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार : बघेल ने छत्तीसगढ़ी में दिया भाषण, किसानों को गणतंत्र दिवस पर एक और सौगात, कहा- चार चिन्हारी नरवा गरवा घुरुआ बारी सिर्फ नारा नहीं

70 वें गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के योगदान को स्मरण करते हुए कहा भारत के इतिहास में आजादी ​दिलाने में छत्तसीगढ़ के सेनानियों का बड़ा हाथ रहा है।

छत्तीसगढ़ समाचार : बघेल ने छत्तीसगढ़ी में दिया भाषण, किसानों को गणतंत्र दिवस पर एक और सौगात, कहा- चार चिन्हारी नरवा गरवा घुरुआ बारी सिर्फ नारा नहीं

गौरव शर्मा, रायपुर। 70 वें गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के योगदान को स्मरण करते हुए कहा भारत के इतिहास में आजादी ​दिलाने में छत्तसीगढ़ के सेनानियों का बड़ा हाथ रहा है।

राजधानी रायपुर के पुलिस परेड मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में cm ने अपने भाषण की शुरुआत छत्तीसगढ़ी से की। उन्होंने कहा कि सुराजी तिहार के पावन बेरा मा मोर जम्मो संगी-जहुंरिया, सियान-जवान, दाई-बहिनी अउ लइका मन ला गाड़ा-गाड़ा बधाई।

अपनी एक माह की उप​लब्धियां गिनाते हुए सीएम बघेल ने कहा, किसानों को कर्ज के कुचक्र से मुक्ति दिलाए बिना उनकी और गांव की स्थिति सुधरी नहीं जा सकती इसलिए हमने मंत्रिपरिषद की पहली बैठक में 1665000 किसानों का 6230 करोड़ का ऋण माफ किया। धान का समर्थन मूल्य बढ़ाने और कर्ज माफी के बाद अब किसानों का 2018 तक का 207 करोड़ का सिंचाई टैक्स माफ करने का ऐलान किया।

उन्होंने कहा रवि फसल के लिए बंद पड़ी सिंचाई से वार को तत्काल पूर्ण किया जाएगा। किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधारने के लिए दूरगामी परिणाम देने वाली योजना बनाने की आवश्यकता है इसलिए गांव के विकास के लिए ज्वेलरी एडिशन की नीति को अपनाई जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा गरबा घुरुआ बारी के नारे पर काम करेगी सरकार। यह केवल नारा नहीं गांव की समृद्धि का सुनिश्चित आधार होगा। कृषि विभाग का नाम बदलकर कृषि कल्याण और जैव प्रौद्योगिकी विकास विभाग किया गया है। जिसमें किसान कल्याण का लक्ष्य सदा हमारे नजरों के सामने रहे।

सीएम बघेल ने अपने भाषण कहा, पांचवी अनुसूची वाले क्षेत्रों में सरगुजा तथा बस्तर संभाग के जिलों की तरह कोरबा जिले में भी जिला केंद्र में भर्ती की सुविधा देने का निर्णय लिया है साथ ही सभी जिलों में भर्ती की अवधि दो वर्ष बढ़ा दी गई है।
झीरम घाटी से पीड़ित परिवारों को शीघ्र न्याय दिलाने SIT जांच
मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में कहा कि, कहा जाता है न्याय दिलाने में देरी अपने-आप में एक अन्याय है। प्रदेश के जनमानस में अनेक प्रसंगों को लेकर बेचैनी थी और उनकी न्याय पाने की उम्मीद भी धूमिल हो चली थी। हमने झीरम घाटी की दु:खदायी घटना में ​पीड़ित परिवारों को शीघ्र न्याय दिलाने की दिशा में मजबूत कदम उठाते हुए एसआईटी जांच की घोषणा की है।
भारत में सार्वजनिक वितरण प्रणाली को कमजोर आय वर्ग के लोगों के लिए आशा और आस्था का विषय बनाया गया था। लेकिन छत्तीसगढ़ में यह भी अन्याय का सबब बन गई थी और इसका संचालन करने वाली संस्था नागरिक आपूर्ति निगम (नान) की कार्यप्रणाली को लेकर अनेक प्रश्नचिन्ह लगे थे। इसलिए हमने 'नान घोटाले' की एसआईटी जांच की घोषणा की।
पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की कार्यवाही शुरू
सीएम बघेल ने कहा सशक्त और स्वस्थ लोकतंत्र के चार प्रमुख आधार माने गए हैं-विधायिका, न्यायपालिका, कार्यपालिका और पत्रकारिता। हमारा संकल्प है कि इन चारों आधारों को मजबूत करेंगे और सबको अपनी निर्धारित जिम्मेदारियों के निर्वाह हेतु आवश्यक वातावरण, संसाधन तथा सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे।
विगत कुछ वर्षो में प्रदेश में अभिव्यक्ति की आजादी पर खतरा बहुत बढ़ा है। मेरा मानना है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता लोकतंत्र की पहली शर्त है इसलिए हमने स्वतंत्र प्रेस के समर्थन में पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की कार्यवाही प्रारंभ कर दी है।
Share it
Top