logo

माशिम की कड़ाई, 10वीं-12वीं के 700 छात्रों के फॉर्म निरस्त, जांजगीर के 180 छात्रों के फॉर्म निरस्त नियम विरूद्ध दिया गया प्रवेश

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दसवीं बारहवीं के 700 छात्रों के फार्म निरस्त कर दिए हैं। ये ऐसे छात्र हैं, जो नियमित परीक्षार्थी के रूप में परीक्षा में बैठने के पात्र नहीं थे। इसके बाद भी स्कूलों द्वारा नियमविरूद्ध जाकर इन छात्रों के फार्म भर दिए गए।

माशिम की कड़ाई, 10वीं-12वीं के 700 छात्रों के फॉर्म निरस्त, जांजगीर के 180 छात्रों के फॉर्म निरस्त नियम विरूद्ध दिया गया प्रवेश
रायपुर। माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दसवीं बारहवीं के 700 छात्रों के फार्म निरस्त कर दिए हैं। ये ऐसे छात्र हैं, जो नियमित परीक्षार्थी के रूप में परीक्षा में बैठने के पात्र नहीं थे। इसके बाद भी स्कूलों द्वारा नियमविरूद्ध जाकर इन छात्रों के फार्म भर दिए गए।
माशिम द्वारा फॉर्म की स्क्रूटनी के बाद ये मामले सामने आए हैं। माशिम ने कड़ाई बरतते हुए ऐसे सभी छात्रों के फॉर्म निरस्त कर दिए हैं, जो अप्रात्र हैं। जिन छात्रों के फॉर्म निरस्त किए गए हैं, उनमें सबसे ज्यादा जांजगीर के छात्र हैं।

लगभग 180 छात्र जांजगीर जिले से हैं। निजी स्कूलों के छात्रों सहित सरकारी स्कूलों के छात्रों के फॉर्म भी ​​निरस्त किए गए हैं। गौरतलब है कि एक कक्षा में दो बार फेल होने के बाद तीसरे बाद छात्र को नियमित परीक्षार्थी के रूप में परीक्षा दिलाने की पात्रता नहीं होती है।
इसके अतिरिक्त भी कई मापदंड हैं, जो नियमित परीक्षार्थियों क लिए तय किए गए हैं। इतनी बड़ी संख्या में फॉर्म निरस्त होने के बाद माशिम अब सं​बंधित स्कूल के प्राचार्यों पर भी कार्रवाई के मूड में है।

5 फरवरी तक कर सकेंगे आवेदन
छात्रों का भविष्य बर्बाद ना हो, इसलिए माशिम ने इन छात्रों को मौका देने का फैसला ​किया है। ये छात्र 5 फरवरी तक प्राइवेट परीक्षार्थी के रूप में आवेदन कर सकेंगे। दसवीं बारहवीं की परीक्षा के लिए आवेदन करने की तिथि समाप्त हो चुकी है।
इसके बाद भी केवल इन छात्रों को ही विशेष अवसर दिया जा रहा है। फॉर्म निरस्तीकरण वाले छात्रों कीो निर्धारित तिथि पर आवश्यक दस्तावेज और शुल्क की राशि का अंतर जमा करने कहा गया है। इन छात्रों को निर्धारित तिथि त​क आवश्यक दस्तावेज और शुल्क की राशि का अंतर जमा करने काह गया है। इन छात्रों को आॅनलाइन आवेदन की सुविधा नहीं दी गई है। उन्हेें संभागीय कार्यालय अथवा रायपुर स्थित कार्यालय में आकर आवेदन करना होगा।
कार्रवाई होगी
जिन स्कूलों के छात्रों के फॉर्म निरस्त हुए हैं, उन स्कूलों के प्राचार्य के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी कर रहे हैं। बोर्ड कक्षाओं में किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगा। प्रो. वीके गोयल, सचिव माशिम
Share it
Top