logo
Breaking

हार से BJP में हाहाकार, कार्यसमिति के सदस्य डॉ शिवनारायण द्विवेदी ने दिया इस्तीफा

छत्तीसगढ़ में मिली हार के बाद से लगातार भाजपा खेमे में पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के बीच मतभेद की खबर सामने आई है। मतभेद के चलते भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य डॉ शिवनारायण दिवेदी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

हार से BJP में हाहाकार, कार्यसमिति के सदस्य डॉ शिवनारायण द्विवेदी ने दिया इस्तीफा

गौरव शर्मा, रायपुर: छत्तीसगढ़ में मिली हार के बाद से लगातार भाजपा खेमे में पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के बीच मतभेद की खबर सामने आई है। मतभेद के चलते भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य डॉ शिवनारायण दिवेदी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक द्वारा कार्यकर्ताओं की उपेक्षा और कार्यकर्ताओं पर हार ठिकरा फोड़ने वाले बयान से आहत होकर प्रदेश कार्यसमिति सदस्य ने इस्तीफा दिया है।

Image may contain: text

इस्तीफे के बाद मीडिया से बात करते हुए डॉ शिवनारायण द्विवेदी ने कहा कि सरकार का घमंड पार्टी को चुनाव में ले डूबी। ना सरकार में कार्यकर्ताओं को पूछता था और ना ही संगठन में कोई सुनवाई होती थी। द्विवेदी ने कहा कि

भाजपा घमंड से चूर थी और मंत्री लगता था भगवान हो गये हैं, कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही थी। मैंने भाजपा बड़ी उम्मीद के साथ शामिल हुआ था, लेकिन पार्टी में मेरी हैसियत बिल्कुल ना के बराबर की थी, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य बनाया, लेकिन बैठक में बुलाना तक मुनासिब नहीं समझते थे। घमंड तो इतना था कि पूछिये मत, इन्हें लगता था कोई हरा नहीं सकता। रायपुर पश्चिम में रहता हूं, पर राजेश मूणत ने एक बार भी मुझे चुनाव में काम के लिए फोन तक नहीं किया। इऩ 13 मंत्रियों ने मिलकर 15 सालों की सरकार को ध्वस्त किया, हार के लिए जिम्मेदार कार्यकर्ता नहीं ये पूरी सरकार है, लेकिन कमाल की बात ये है कि लोकसभा में भी हारे हुए लोगों को प्रभारी बना दिया गया, हम जैसों की कोई पूछ परख नहीं थी, इसलिए निराश होकर मैंने इस्तीफा दे दिया है

Share it
Top