logo
Breaking

पत्रकार से मारपीट का मामला शांत हुआ नहीं कि भाजयुमो नेताओं ने कर दी ये हरकत, थाने पहुंचा मामला

प्रतिकूल चुनावी नतीजों के बाद से जिला भाजपा इकाई की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। पहले दिनों जहां दर्री क्षेत्र के दो भाजयुमो नेता एट्रोसिटी, अपहरण व मारपीट के मामले में सलाखों के पीछे पहुंच चुके हैं, वही दो और नेताओ पर हरदीबाजार पुलिस ने एससी/एसटी एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला कायम किया है।

पत्रकार से मारपीट का मामला शांत हुआ नहीं कि भाजयुमो नेताओं ने कर दी ये हरकत, थाने पहुंचा मामला

उमेश यादव, कोरबा: प्रतिकूल चुनावी नतीजों के बाद से जिला भाजपा इकाई की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। पहले दिनों जहां दर्री क्षेत्र के दो भाजयुमो नेता एट्रोसिटी, अपहरण व मारपीट के मामले में सलाखों के पीछे पहुंच चुके हैं, वही दो और नेताओ पर हरदीबाजार पुलिस ने एससी/एसटी एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला कायम किया है। जातिगत वैमनस्यता फैलाने के आरोपी नेताओं में जिला किसान मोर्चा के महामंत्री रहे चुलेश्वर राठौर और भुवनेश्वर राठौर शामिल हैं। बता दें कि अभी राजधानी रायपुर सहित पूरे प्रदेश में बीजेपी नेताओं द्वारा पत्रकार से मारपीट करने मामला जोरों पर है। मामले को लेकर पत्रकार संघ आक्रोशित है और मारपीट करने वाले नेताओं को बर्खास्त करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं।

जानकारी के मुताबिक ग्राम छिंदपुर में विधायक पुरूषोत्तम कंवर क्षत्रीय राठौर समाज की हरदीबाजार इकाई की बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। इस बैठक में राठौर समाज के अलावा विधायक पुरूषोत्तम के साथ कंवर, पनिका, गो़ंड एवं सतनामी समाज के सामाजिक कार्यकर्ता बहोरन लाल पाटले भी उपस्थित थे। कार्यक्रम के दौरान फोटोग्राफी की गई और फेसबुक तथा वाट्सएप पर लोड किया गया। इस पर भाजपा नेता चुलेश्वर राठौर तथा भुवनेश्वर राठौर ने जातिगत टिप्पणी की।
इससे सतनामी समाज के लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया। रविवार को बाइसगवां सतनामी समाज छुइयापारा के अध्यक्ष अशोक पाटले की अगुवाई में काफी संख्या में महिला एवं पुरुष जयस्तंभ चौक हरदीबाजार में एकत्र हुए और विरोध प्रदर्शन कर रैली निकाल पुलिस चौकी पहुंचे। समाज के लोगों तथा भीम रेजिमेंट छत्तीसगढ़ ने भाजपा के दोनों नेता के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की मांग की। पत्र में कहा गया है कि दोनों व्यक्ति की टिप्पणी से समाज के लोग काफी आहत हैं।
अनुसूचित जाति का सदस्य जानते हुए भी अपमान करने की नीयत से घृणा, वैमनस्यता एवं भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए जानबूझकर लिखित में टिप्पणी की गई है। इससे समाज अपमानित महसूस कर रहा है। पुलिस कार्रवाई नहीं करती है तो समाज विशाल जनआंदोलन, धरना प्रदर्शन के लिए बाध्य होगा। मामले में हरदीबाजार पुलिस ने दोनों के खिलाफ मामला दर्ज कर विवेचना में लिया है।
Share it
Top