logo
Breaking

छत्तीसगढ़ समाचार : जंगल सफारी में 4 प्री-मैच्योर शावकों की मौत, डॉक्टर की लापरवाही के चलते हुई मौत

जंगल सफारी में गत दो महीने पहले शेर के चार शावकों की मौत के मामले में वहां के डॉक्टर द्वारा लापवाही बरतने का बड़ा खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है डॉक्टर की चूक के कारण ही शेरनी समय से पहले गर्भवती हो गई। जिसके बाद उसने पांच महीने चार शावकों को जन्म दिया जो वजन कम होने के कारण एक-एक कर मर गए।

छत्तीसगढ़ समाचार : जंगल सफारी में 4 प्री-मैच्योर शावकों की मौत, डॉक्टर की लापरवाही के चलते हुई मौत
जंगल सफारी में गत दो महीने पहले शेर के चार शावकों की मौत के मामले में वहां के डॉक्टर द्वारा लापवाही बरतने का बड़ा खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है डॉक्टर की चूक के कारण ही शेरनी समय से पहले गर्भवती हो गई। जिसके बाद उसने पांच महीने चार शावकों को जन्म दिया जो वजन कम होने के कारण एक-एक कर मर गए।
वहीं अब वन विभाग के अफसरों ने पशु​ चिकित्सा विभाग से प्रतिनियुक्ति पर आए डॉक्टर को हटाने की​ चिट्ठी लिखकर उनके खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की है। बता दें शेरनी ने गत 25 अक्टूबर को 700-800 ग्राम के चार शावकों को जन्म दिया था। इसमें से एक शावक की कुछ देर के भीतर ही मौत हो गई थी। बाकी बचे हुए तीन शावक एक-एक हफ्ते के अंतराल में मरते चले गए।
चारों की मौत होने के बाद वन विभाग के अफसरों ने जांच करवायी तो डॉ. राकेश वर्मा की बड़ी लापरवाही सामने आई। उन्होंने वन विभाग अफसरों को समय रहते न तो शेरनी के गर्भवती हाने की सूचना दी और न ही सुरक्षा के कोई इंतजाम किए।
यहां तक कि पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ कौशलेंद सिंह और जंगल सफारी की प्रभारी मर्सीबेला को भी खबर तब मिली जब शावकों का जन्म हो चुका था। शेरनी के पांच महीने के चार शावक देखकर अफसर खुद हैरान हो रह गए थे।
तुरंत ही पांच महीने के शावकों को अलग बाड़े में रखवाया गया था। इसके बाद उनके चेकअप के लिए सीनियर डॉ. जडिया को बुलवाया गया और उनकी निगरानी शावकों को रखा गया। लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। वहीं पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ कौशलेंद्र सिंह ने बताया कि डा. जडिया को जंगल सफारी में पदस्थ करने की सिफारिश की गई है।
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक शावकों की जन्म की सूचना मिलने के बाद ही डॉ. राकेश वर्मा छुट्टी पर चले गए थे। जांच पड़ताल के बाद पता चला कि जिम्मेदार अधिकारी की अनुमति के बना ही डॉ. वर्मा ने छोटे बच्चे होने के बाद भी शेरनी को शेर के साथ एक ही बाड़े में रखवा दिया था।
Share it
Top