logo
Breaking

अनोखी पहल: कुल्हड़ में 27 प्रकार की अलग-अलग स्वाद वाली चाय... ईरानी, तंदूरी और दार्जिलिंग लीफ चाय पिलाकर दे रहा स्वच्छता का संदेश

चाय पीने का असली मजा तो मिट्टी से बनाए गए कुल्हड़ वाले बर्तन में आता है। पियो और फेंको, मिट्टी का सामान-मिट्टी में मिल जाएगा तर्ज पर एक युवक ने रायपुर शहर में एक अनोखी पहल की है। वह चायपुरियन चाय ठेला खोलकर लोगों को 27 प्रकार की अलग-अलग स्वाद वाली चाय मिट्टी के कुल्हड़ में बेचकर स्वच्छता का संदेश दे रहा है।

अनोखी पहल: कुल्हड़ में 27 प्रकार की अलग-अलग स्वाद वाली चाय... ईरानी, तंदूरी और दार्जिलिंग लीफ चाय पिलाकर दे रहा स्वच्छता का संदेश
रायपुर। चाय पीने का असली मजा तो मिट्टी से बनाए गए कुल्हड़ वाले बर्तन में आता है। पियो और फेंको, मिट्टी का सामान-मिट्टी में मिल जाएगा तर्ज पर एक युवक ने रायपुर शहर में एक अनोखी पहल की है। वह चायपुरियन चाय ठेला खोलकर लोगों को 27 प्रकार की अलग-अलग स्वाद वाली चाय मिट्टी के कुल्हड़ में बेचकर स्वच्छता का संदेश दे रहा है।
मदकूदीप बरियाडीह का रहने वाले लोकनाथ निषाद ने दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना में होटल मैनेजमेंट का कोर्स 6 माह में पूरा किया। कोर्स करने के बाद बेरोजगारी के कारण बहुत दिनों तक रोजगार के लिए भटका।
उसके बाद उसका संपर्क बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने वाले रवि सिंह ठाकुर से हुआ। उसने लोकनाथ को चाय बेचकर जीवन जीने का रास्ता दिखाया और उसके लिए निगम प्रशासन से ठेला लेकर चाय ठेला खोला। इस ठेले का नाम चायपुरियन रखा गया है, जो महज कुछ ही सप्ताह में मशहूर होेने लगा है।
Image may contain: 1 person, sitting and food
लाेकनाथ निषाद ने बताया कि लोग पहले मिट्टी के बर्तनों में चाय और खाना बनाते थे, जिसका स्वाद बेहद ही लाजवाब होता था। मिट्टी के बर्तनों में खाना खाने व चाय पीने से शरीर पर अलग प्रभाव पड़ता है।
यह परंपरा समाप्त होने लगी है। इसलिए चायपुरियन चाय ठेला के माध्यम से लोगों को चाय पिलाने के साथ एक संदेश पहुंचाने का प्रयास कर रहा हूं, ताकि लोग प्लास्टिक के सामान से दूरी बनाकर स्वच्छ भारत मिशन में अपनी भूमिका निभा सकें।
27 फ्लेवर की चाय के दीवाने लोग
स्वच्छता का संदेश देने वाले इस चायपुरियन चाय ठेला में 27 फ्लेवर की चाय बनाई जाती है। इसमें अदरक-इलायची चाय, लोंग इलाइची, काली मिर्च-इलायची चाय, तेजपत्ता-इलायची चाय, सौंफ फ्लेवर चाय, मसाला चाय, कुल्हड़ चाय, तंदूरी चाय, चॉकलेट, कश्मीरी काहवा, ईरानी चाय है। इसके साथ गर्मी के सीजन के लिए आइस टी, लेमन हनी चाय, माइन्ट लेमन आईस टी, तुलसी चाय, पुदीना चाय, तुलसी-पुदीना चाय, दार्जिलिंग लीफ चाय, कॉफी, ब्लैक कॉफी, काली चाय, लेमन चाय, काली-अदरक चाय, काली-मसाला चाय, हनी-लेमन चाय, गुड़-इलायची चाय, ग्रीन चाय, हर्बल चाय शामिल है।

टीचर ने की युवक की मदद
बताया गया कि रवि सिंह ठाकुर दीन दयाल उपाध्याय के अंतर्गत ग्रामीण कौशल विकास योजना का प्रचार-प्रसार करने साल 2018 में बरियाडीह गांव आया था। इन्होंने लोकनाथ निषाद के लिए मोवा स्थित हॉस्टल में रहने की सुविधा दी और होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई भी करवाई। होटल मैनेजमेंट करने के बाद जब नौकरी नहीं मिली, तब रवि सिंह ने लाेकनाथ की मदद की और चायपुरियन चाय ठेला में काम दिया।

पेटीएम की है सुविधा
सोशल मीडिया की ताकत और उसके फायदे को देखते हुए ग्राहकों के लिए पेटीएम की सुविधा भी दी गई है। पेटीएम के माध्यम से ग्राहक चिल्हर नहीं होने पर ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं। इसके साथ चायपुरियन के नाम से फेसबुक पर भी आईडी बनाई है। इसके माध्यम से कुल्हड़ से चाय पीने के फायदे लोगों से साझा किया जाएगा।
Share it
Top