Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

रमन सिंह के बाद लगी इस्तीफों की झड़ी, जानें मुख्य सचिव के बाद छगन मूंदड़ा आज देंगे इस्तीफा

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में मंगलवार को बीजेपी का सूपड़ा साफ हो चुका है। महज 15 सीटों में सिमटी बीजेपी की सरकार जाते ही कई अधिकारियों के खेमे में भी हलचल मच गई है। मुख्यमंत्री पद से रमन सिंह के इस्तीफे देने के बाद कई अफसरों ने भी त्यागपत्र देना शुरू कर दिया है।

रमन सिंह के बाद लगी इस्तीफों की झड़ी, जानें मुख्य सचिव के बाद छगन मूंदड़ा आज देंगे इस्तीफा

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में मंगलवार को बीजेपी का सूपड़ा साफ हो चुका है। महज 15 सीटों में सिमटी बीजेपी की सरकार जाते ही कई अधिकारियों के खेमे में भी हलचल मच गई है। मुख्यमंत्री पद से रमन सिंह के इस्तीफे देने के बाद कई अफसरों ने भी त्यागपत्र देना शुरू कर दिया है।

बताया जा रहा है पूर्व सीएम के मुख्य सचिव अमन सिंह ने भी अपने पद से त्यागपत्र दे दिया है। उनका इस्तीफा भी स्वीकार कर लिया गया है। सीएसआईडीसी अध्यक्ष छगन मूंदड़ा आज देंगे इस्तीफा। उन्होंने कहा डॉ. रमन सिंह के इस्तीफे के बाद तो देना ही था इस्तीफा। इसी प्रक्रिया के तहत आज मैं भी पद से इस्तीफा दे दूंगा।

इसके पहले मंगलवार को मुख्यमंत्री के सलाहकार और स्टेट प्लानिंग कमीशन के डिप्टी चेयरमैन सुनील कुमार ने चुनाव नतीजे घोषित होने के पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विक्रम सिसोदिया, विवेक सक्सेना, अरूण बिसेन जैसे अधिकारी भी जल्द अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। बता दें कि यह सभी अधिकारी नौकरी छोड़कर पिछले दस साल से संविदा पर कार्य कर रहे थे। अमन सिंह का कार्यकाल 17 दिसंबर को खत्म हो रहा था। यही नहीं राजनीतिक तौर पर नियुक्त करीब 2 दर्जन से अधिक अध्यक्ष और सदस्यों को एक-दो दिन में अपना इस्तीफा सौंपना होगा।
छत्तीसगढ़ के प्रमुख सचिव अमन सिंह को छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह का सबसे भरोसेमंद व्यक्ति माना जाता रहा है। अमन सिंह का नाम देश के ताकतवर नौकरशाहों में शामिल है। उन्हें रमन सिंह का विश्वस्त रणनीतिकार कहा जाता है।
भारतीय राजस्व सेवा के अवकाश प्राप्त अधिकारी अमन सिंह राज्य के मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव के पद पर लंबे समय से तैनात हैं। लगातार 15 सालों तक राज्य में सत्ता में रहने वाली बीजेपी को सत्ता विरोधी लहर से बचाने के लिए अमन सिंह पर काफी दबाव था।
Next Story
Share it
Top