Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

छत्तीसगढ़ में सोनिया-राहुल पर बरसे मोदी, कहा- जमानत पर रिहा लोगों का प्रमाणपत्र नहीं चाहिए

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के लिए 20 नवंबर को होने वाले दूसरे और अंतिम चरण के मतदान से पहले यहां आयोजित एक चुनावी जनसभा में पीएम मोदी ने राहुल गांधी और सोनिया गांधी पर जमकर हमला किया।

छत्तीसगढ़ में सोनिया-राहुल पर बरसे मोदी, कहा- जमानत पर रिहा लोगों का प्रमाणपत्र नहीं चाहिए
X

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के लिए 20 नवंबर को प्रस्तावित दूसरे और अंतिम चरण के मतदान से पहले यहां आयोजित एक चुनावी जनसभा में मोदी ने विकास की मजबूती से वकालत की। मोदी ने कहा कि राज्य में भाजपा सरकार की तुलना में कांग्रेस सरकार के समय विकास की रफ्तार बहुत धीमी थी।

नोटबंदी का हिसाब मांगने पर राहुल-सोनिया पर सीधा निशाना साधते हुए मोदी ने सवाल किया कि जो मां-बेटे रुपयों की हेराफेरी के लिए जमानत पर घूम रहे हैं क्या वे उन्हें ईमानदारी का प्रमाणपत्र बांटेंगे?

पीएम मोदी ने गांधी परिवार के किसी सदस्य का नाम लिये बिना कहा कि वे नोटबंदी का हिसाब मांगते हैं। नोटबंदी के कारण फर्जी कंपनियों की पहचान हुई। और इसके कारण आपको जमानत मांगनी पड़ी। आप यह क्यों भूल जाते हैं कि नोटबंदी के कारण आपको जमानत मांगनी पड़ी।

इसे भी पढ़ें- वाराणसी को 2413 करोड़ की सौगात, पीएम ने कहा- अब सिर्फ विकास की राजनीति चाहती हैं जनता

गौरतलब है कि मोदी ने आठ नवंबर 2016 को बड़े नोटों के चलन पर पाबंदी लगा दी थी। मोदी की टिप्पणियां दिल्ली की एक अदालत द्वारा नेशनल हेराल्ड मामले में कथित वित्तीय अनियमितताओं के संबंध में दिसंबर 2015 में राहुल और सोनिया को जमानत देने के परोक्ष संदर्भ में की गईं।

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद ने मोदी की जमानत संबंधी टिप्पणियों को नामंजूर किया और कहा कि प्रधानमंत्री को अपने पद की गरिमा नहीं गिरानी चाहिए। भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए मोदी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 1985 की इस टिप्पणी का भी जिक्र किया कि एक रुपये में से केवल 15 पैसे गरीबों के कल्याण के लिए पहुंचते हैं। मोदी ने सवाल किया कि वह कौन सा 'पंजा' था जो बाकी के 85 पैसे को मार लेता था।

राजीव गांधी की टिप्पणी के संदर्भ में मोदी ने कहा कि नोटबंदी भ्रष्टाचार के कारण 'गायब होने वाले 85 पैसे वापस लेकर आई।' प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस को कभी ऐसा नेतृत्व नहीं मिला जिसने राष्ट्र के कल्याण के लिए जीने या मरने के संकल्प के साथ काम किया हो।

उन्होंने कहा कि अगर छत्तीसगढ़ अब भी राहुल गांधी नीत पार्टी द्वारा शासित होता, तो हो सकता है कि इस राज्य को विकास के वर्तमान स्तर तक पहुंचने में 50 साल लग जाते। उन्होंने कहा कि इसका कारण है। उनकी राजनीति एक परिवार से शुरू होकर उसी पर खत्म हो जाती है, जबकि हमारी राजनीति गरीबों की झोपड़ियों से शुरू होती है।

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़: नक्सलियों के मंसूबे नाकाम, ना री-पोलिंग और ना ही EVM लूट, शांतिपूर्ण रहा मतदान

पीएम मोदी ने कहा कि लोग उनसे पूछते हैं कि वे विकास कार्यों के लिए धन कहां से लाते हैं। उन्होंने कहा कि यह (धन) बिल्कुल उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि धन आपका है। पहले यह किसी के पलंग, अलमारियों में छिपा था। नोटबंदी की घोषणा के बाद यह सब बाहर आ गया।

कांग्रेस का नाम लिये बिना मोदी ने कहा कि इसके नेताओं का जनता की आकांक्षाओं से 'जुड़ाव नहीं' रह गया है। उन्होंने कहा कि इसलिए, वे (कांग्रेस नेता) नारे देंगे, लेकिन उनके पास इन्हें पूरा करने की नीतियां और मंशा नहीं है। ना ही कांग्रेस के पास ऐसा नेतृत्व है जो राष्ट्र के कल्याण के लिए जीने या मरने के संकल्प के साथ काम करे।

पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि जब कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ चुनावों के लिए अपना 36 सूत्री घोषणापत्र जारी किया तो 'नामदार' (राहुल गांधी) का 'सर' के रूप में 150 बार जिक्र किया गया जो दिखाता है कि उनके लिए (कांग्रेस) वह छत्तीसगढ़ से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि भाजपा विकास के साथ खड़ी होती है और इसकी प्रतिबद्धता के कारण विपक्ष यह नहीं समझ पा रहा है कि चुनावों में सत्तारूढ़ दल का मुकाबला कैसे किया जाए।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story