logo
Breaking

छत्तीसगढ़ के सीएम होंगे भूपेश बघेल, राहुल गांधी ने लगाई मुहर

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में दो- तिहाई बहुमत से जीत हासिल करने के बाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Congress) ने 15 साल के बाद सत्ता में वापसी की है।

छत्तीसगढ़ के सीएम होंगे भूपेश बघेल, राहुल गांधी ने लगाई मुहर

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ की कमान भूपेश बघेल के हाथों में सौंपी दी है। छत्तीसगढ़ चुनाव परिणाम 2018 में दो- तिहाई बहुमत से जीत हासिल करने के बाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian national Congress) ने 15 साल के बाद सत्ता में वापसी की है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम पर मुहर लगने के बाद छतीसगढ़ में कौन बनेगा मुख्यमंत्री इस दौड़ में टीएस सिंहदेव का नाम दूसरे नंबर पर चल रहा था, जबकि ताम्रध्वज साहू का नाम तीसरे नंबर चल रहा था।

भूपेश बघेल की जीवनी

छत्तीसगढ़ पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त 1961 को दुर्ग जिले के पाटन तहसील में हुआ।

भूपेश बघेल ने साल 1985 में उन्होंने यूथ कांग्रेस ज्वॉइन किया।

1993 में जब मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव हुए तो पहली बार पाटन विधानसभा से वे विधायक चुने गए।

इसके बाद भूपेश बघेल ने अगला चुनाव भी वे पाटन से ही जीते, जिसमें उन्होने बीजेपी के निरुपमा चंद्राकर को हराया।

मध्यप्रदेश में दिग्विजय सिंह की सरकार बनी और भूपेश बघेल कैबिनेट मंत्री बने।

साल 1990-94 तक जिला युवा कांग्रेस कमेटी दुर्ग (ग्रामीण) के वे अध्यक्ष रहे। 1994-95 में मध्य प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष चुने गए।

भूपेश बघेल को साल 1999 में मध्य प्रदेश सरकार में परिवहन मंत्री की जिम्मेदारी ने मिली।

साल 2000 में जब छत्तीसगढ़ राज्य बना और कांग्रेस की सरकार बनी तब जोगी सरकार में वे कैबिनेट मंत्री बने।

2003 में कांग्रेस जब सत्ता से बाहर हुई तो भूपेश को विपक्ष का उपनेता बनाया गया।

साल 2003 में हुए विधानसभा चुनाव में पाटन से भूपेश बघेल ने जीत दर्ज की।

2008 में बीजेपी के विजय बघेल से भूपेश बघेल चुनाव हार गए, फिर साल 2013 में पाटन से उन्होने जीत दर्ज की।

2014 में उन्हें छत्तीसगढ़ कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया।

टीएस सिंहदेव की जीवनी

* टीएस सिंहदेव ने 1983 में अंबिकापुर नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष चुने गए थे यहीं से इनके राजनीतिक जीवन की शुरुआत हुई थी।

* अध्यक्ष पद पर 10 साल तक रहे

* कांग्रेस ने 2013 चुनाव में हार के बाद टीएस सिंहदेव को विधायक दल का नेता बनाया था।

* जनवरी 2014 से टीएस सिंहदेव छत्तीसगढ़ विधानसभा में विपक्षी दल के नेता हैं और वह अंबिकापुर विधानसभा से निर्वाचित सदस्य हैं।

गौरतलब है कि कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों में से 68 सीट पर अपना कब्जा जमाया तो वहीं 15 साल से सत्ता में काबिज भारतीय जनता पार्टी (BJP) केवल 15 सीटे हासिल करने में सफल हो पाई है।

किस पार्टी को मिली कितनी सीटें..

पार्टी- सीटें

बहुजन समाज पार्टी (BSP)- 2

बीजेपी(BJP)- 15

कांग्रेस (Congress)- 68

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (j)- 5

Share it
Top