Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

CG Elections 2018: ''कोरबा'' में ये बनेगा मुख्य मुद्दा

औद्योगिक व ऊर्जानगरी का दर्जा प्राप्त कोरबा विधानसभा को मिनी भारत की संज्ञा भी दी जाती है। यहां भारत के लगभग सभी राज्यों के लोग निवासरत हैं और सबकी अपनी-अपनी अलग-अलग समस्याएं भी हैं।

CG Elections 2018:

औद्योगिक व ऊर्जानगरी का दर्जा प्राप्त कोरबा विधानसभा को मिनी भारत की संज्ञा भी दी जाती है। यहां भारत के लगभग सभी राज्यों के लोग निवासरत हैं और सबकी अपनी-अपनी अलग-अलग समस्याएं भी हैं।

कोरबा का अधिकांश भू-भाग यहां लगे संयंत्रों के हवाले है। लिहाजा उन क्षेत्रों में मूलभूल आवश्यकताओं सहित अन्य विकास कार्य संयंत्र प्रबंधन ही पूर्ण कराते हैं। शेष भू-भाग में कोरबा का शहरी इलाका और कुछ उपनगरीय क्षेत्र शामिल है।

इनमें स्लम बस्तियां भी हैं, जहां कई तरह की समस्याओं का अंबार है। विधानसभा कोरबा क्षेत्र की कई बदहाल सड़कों सहित बायपास सड़कों की जर्जर स्थिति से लोग हलाकान है।

पावरहब होने के कारण इस क्षेत्र में स्थापित संयंत्रों को कोयला आपूर्ति के लिए रेलवे द्वारा मुख्य शहर से होकर रेल पटरियां बिछाई गई हैं, जिनमें चौबीसों घंटे कोल मालगाड़ियों की आवाजाही लगी रहती है और इसके कारण सड़क आवागमन प्रभावित होता है।

अत: ओव्हरब्रिज सहित सीएसईबी चौक के पास वाईसेप ब्रिज की आवश्यकता महसूस की जा रही है। ये कुछ यहां के लोगों की बहुप्रतिक्षित मांगों में शामिल हैं। जिनका जवाब चुनाव के दौरान देना होगा।

ये रहेंगे प्रमुख मुद्दे

  • जिले में बढ़ रहे विशाक्त प्रदूषण से निजाद ।
  • संयंत्रों में स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार की मांग।
  • एसईसीएल व सीएसईबी प्रभावित भू-विस्थापितों की समस्याएं।
  • बहुप्रतिक्षित एल्युमिनियम पार्क की स्थापना।
  • बंद पड़े उर्वरक खाद कारखाना को शुरू कराना।
  • राजधानी तक सुपर फास्ट ट्रेन प्रारंभ कराना ।
  • मेडिकल व माईनिंग कॉलेज की स्थापना।
  • कोरबा से हवाई सेवा की सुविधा।

घोषणाओ में नहीं काम में मेरा विश्वास

मैं घोषाणाओं नहीं, काम में विश्वास करता हूं। विधायक निधी के रूप में सरकार से 75 लाख रुपए स्वीकृत होते हैं जो कि विधानसभा क्षेत्र का विकास करने के लिए नाकाफी होते हैं। फिर भी मैने अपनी विधायक निधी की एक-एक पाई क्षेत्र के विकास में खर्च की है।

क्षेत्र के विकास के लिए मेरा 20 सूत्रीय संकल्प पत्र है जिसमें हसदेव का शुद्धीकरण, हवाई सेवा, लघु उद्योगों की स्थापना, किसानों को उन्नत तकनीकी प्रशिक्षण एवं जिला खनिज न्यास व विभिन्न संयंत्रों की सीएसआर मत की राशि का शत प्रतिशत उपयोग कराना है।

जयसिंह अग्रवाल (विधायक)

अपनी ही समस्या में उलझे रहे विधायक

कोरबा विधानसभा क्षेत्र में जितने विकास कार्य आज दिख रहे हैं वे सभी भाजपा सरकार की देन है। वर्तमान विधायक जिन कार्यों को अपनी उपलब्धि मानते हैं, वे सभी कार्य नगर निगम के कार्य हैं, जिन्हें भाजपा के महापौर रहते पूरा कराया गया।

वर्तमान विधायक पर कई तरह के गंभीर आरोप लगे हैं, जिनकी जांच भी चल रही है। अपने कार्यकाल के दौरान विधायक जनता की नहीं बल्कि अपनी ही समस्याओं में उलझे रहे। हमने दो चुनाव कुछ गलतियां की हैं। जिन्हें सुधार कर जनता के बीच पहुंचेंगे।

जोगेश लांबा (पूर्व महापौर, भाजपा उम्मीदवार)

हिसाब-किताब करेंगे बराबर

भाजपा ने विकास के नए आयाम गढ़े हैं। कोरबा में खाद कारखाना, सहित रेल सुविधाओं का विस्तार और एजुकेशन हब प्रमुख मुद्दा होगा। हालांकि इनमें से अधिकांश मुद्दे केन्द्र के स्तर के हैं। फिर भी जनता के बीच यही प्रमुख मुद्दे हैं।

यदि कोरबा में खाद कारखाना शुरू हो जाए तो जिले के बेरोजगारों सहित निराश पड़ा उद्योग जगत खिल उठेगा। लोकतंत्र में मतदाताओं का फैसला सर्वोपरि होता है। आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को रिकार्ड मतों से पराजीत कर हिसाब-किताब बराबर किया जाएगा।

बनवारी लाल अग्रवाल,पूर्व विस उपाध्यक्ष

चारों विधानसभा में जीतेंगे

जिले की चारों विधानसभा में भाजपा का परचम लहराएगा। कटघोरा विधानसभा में हमारा विधायक है। रामपुर, पाली तानाखार और कोरबा विधानसभा सीट इस समय कांग्रेस के पास है जिसे जीतने व्यापक रणनीति बनाई गई है।

तीनों विधानसभा में जनता वर्तमान विधायक के कामकाज से असंतुष्ट है। जिसका लाभ भारतीय जनता पार्टी को मिलेगा। खासकर के कोरबा विधायक की कारगुजारियों को देखते हुए जनता ने उन्हें हटाने का मन बना लिया है।

अशोक चावलानी,( जिला अध्यक्ष, भाजपा)

भाजपा-कांग्रेस ने मिलकर छला

कोरबा की जनता को भाजपा और कांग्रेस ने मिलकर छला है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ की सरकार बनती है तो सबसे पहले एल्युमिनियम पार्क की मांग को पूरा किया जाएगा। मेडिकल कॉलेज सहित एजुकेशन हब भी प्राथमिकताओं में होंगे।

श्रमिकों को उनका वाजिब हक दिलाया जाएगा। रेल सुविधाओं में इजाफा के साथ-साथ जर्जर सड़कों से मुक्ति दिलाएंगे। संयंत्रों और कोयला खदानों में यदि स्थानीय युवाओं को रोजगार दिलाएंगे। यदि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ सत्ता में आती है तो कोरबा की जनता के साथ न्याय किया जाएगा।

रामसिंह अग्रवाल, (जकांछ प्रत्याशी)

जनता उतारेगी जमीन पर

जिले कोरबा विधानसभा में तीसरी बार भी जयसिंह अग्रवाल ही विधायक बनने जा रहे हैं। मुगालते में बैठे भाजपाइयों को जनता ही जमीन पर ला पटकेगी।भाजपाइयों में अहम चरम पर है।

विधानसभा चुनाव के दौरान हकीकत सामने आ जाएगी। भाजपा सरकार की गलत नीतियों का खामियाजा न केवल गरीब वर्ग बल्कि समाज का हर वर्ग भुगत रहा है। जनता ने भाजपा को सबक सिखाने मन बना लिया है। हमें काम करने भाजपा से सर्टीफिकेट की जरूरत नहीं है।

राजकिशोर प्रसाद, (कांग्रेस शहर अध्यक्ष)

2008 समीकरण: परिसीमन का कांग्रेस को मिला लाभ

प्रत्याशी पार्टी मत जीत का

जयसिंह अग्रवाल कांग्रेस 48277 अंतर

बनवारी लाल अग्रवाल भाजपा 47690 587

2013 समीकरण: प्रत्याशी बदलने से भाजपा को नुकसान हुआ

प्रत्याशी पार्टी मत जीत का

जयसिंह अग्रवाल कांग्रेस 72386 अंतर

जोगेश लांबा भाजपा 57937 14449

कांग्रेस से जयसिंह अग्रवाल और भाजपा की लंबी सूची

  • जकांछ ने चेम्बर ऑफ कामर्स कोरबा के अध्यक्ष रामसिंह अग्रवाल को टिकट दिया है।
  • कांग्रेस- जयसिंह अग्रवाल ही प्रबल दावेदार हैं। कोई राजनीतिक हलचल नहीं होती है तो जयसिंह अग्रवाल ही प्रत्याशी होंगे।
  • भाजपा- जोगेश लांबा, लखनलाल देवांगन, बनवारीलाल अग्रवाल, अशोक चावलानी, विकास महतो, मनोज पराशर व नवीन पटेल खास हैं।
  • बसपा ने भी इस बार अच्छी तैयारी की हुई है लेकिन प्रत्याशी कौन होगा इस पर मंथन जारी है।
  • आम आदमी पार्टी ने भी अनूप अग्रवाल को अपनी पार्टी का प्रत्याशी बनाया है।
Next Story
Share it
Top