logo
Breaking

Chhattisgarh Budget 2019 : राजिम कुंभ के नाम बदलने पर सदन में जमकर नोंक-झोंक, बृजमोहन अग्रवाल के तीखे सवाल का अमितेश शुक्ल ने दिया ये जवाब...

राजिम कुंभ के नाम बदलने के मुद्दे को लेकर सदन में आज विधायकों के बीच जमकर नोंक-झोंक हुआ. बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि क्या कुंभ कल्प बंद कर दिया गया?.

Chhattisgarh Budget 2019 : राजिम कुंभ के नाम बदलने पर सदन में जमकर नोंक-झोंक, बृजमोहन अग्रवाल के तीखे सवाल का अमितेश शुक्ल ने दिया ये जवाब...
रायपुर. राजिम कुंभ के नाम बदलने के मुद्दे को लेकर सदन में आज विधायकों के बीच जमकर नोंक-झोंक हुआ. बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि क्या कुंभ कल्प बंद कर दिया गया?. ताम्रध्वज साहू बोले कि हमने कुंभ बंद नहीं किया है बल्कि विधानसभा में विधेयक पेश कर नाम बदला है. हमने मेला बंद नहीं किया है. गजेटियर, मान्यताओं और छत्तीसगढ़ की परंपराओं के अनुसार ही हमने नाम बदला है.
बृजमोहन अग्रवाल ने पूछा कि छत्तीसगढ़ में कितने माघी पुन्नी मेले भरते हैं. हमने राजिम के महत्व को बताने के लिए कुंभ का स्वरुप दिया था. इस पर अमितेश शुक्ल ने कहा कि आपके कुंभ को तो शंकराचार्य जी भी नहीं मान रहे थे तो हम क्या मानते. बृजमोहन अग्रवाल ने पूछा कि सत्तापक्ष को कुंभ से क्या आपत्ति हो सकती है. अजय चंद्राकर ने कहा कि अगर संस्कृति मंत्री ने नाम बदलने के विधेयक में कहा कि कुंभ शब्द शास्त्रों के अनुरुप नहीं है तो बताना चाहिए कि शास्त्रों में क्या लिखा है. ताम्रध्वज साहू और अजय चंद्राकर के बीच तीखी नोंक-झोंक भी. इसी बीच प्रश्नकाल समाप्त हुआ.
इससे पहले विधानसभा बजट सत्र के आज चौथे दिन प्रश्नकाल शुरू होते ही विपक्ष ने दनादन सवाल दागने शुरू कर दिए. जेल में कैदियों की मौत पर सवाल उठते ही गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने जवाब देना शुरू किया. इस पर बृजमोहन अग्रवाल ने आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि सदन में गलत जवाब दिया जा रहा है. विपक्ष ने इस पर जाँच की भी मांग की. मंत्री ने भरोसा दिलाते हुए कहा कि सदन को एक एक कैदी के नाम और जेलवार जानकारी उपलब्ध करा देंगे. जवाब में कहीं भी गलत जानकारी नहीं है. विपक्ष प्रश्न संदर्भ समिति या सदस्यों की संयुक्त समिति से जांच कराने की मांग पर अड़ा रहा.
केशव चंद्रा ने पूछा कि 2016 से 2018-19 तक कितने कैदियों की मृत्यु हुई. गृहमंत्री ने जानकारी देते हुए कहा कि 2016-17 में 53 कैदी, 2017-18 में 57 कैदी और 2018-19 में कुल 44 कैदियों की मृत्यु हुई है. विपक्ष ने मंत्री के जवाब से असहमति जताते हुए विधानसभा की समिति से जांच कराने की बात कही. अजय चंद्राकर ने कहा कि मंत्री के जवाब में असहमति है. जांच कराई जाए. धर्मजीत सिंह बोले कि जांच कराया जाना चाहिए. बगैर किसी स्वास्थ्य सुविधा के कैदियों की मौत गंभीर विषय है.
बृजमोहन अग्रवाल बोले कि कैदियों की मौत बेहद गंभीर है. सरकार संवेदनहीन है. गलत जवाब दिया जा रहा है. सदन की समिति जांच करे. जांजगीर चांपा जिले में कैदी की मौत को लेकर भी सदन में सवाल उठाये गए.
इससे पहले विधानसभा बजट सत्र के आज चौथे दिन प्रश्नकाल शुरू होते ही कांग्रेस सदस्य मोहन मरकाम, अजीत जोगी और विनोद चंद्राकर ने दनादन सवाल दागने शुरू कर दिए. कांग्रेस सदस्य मोहन मरकाम ने पूछा कि क्या एनएच 30 में कोंडा नगर में बाईपास सड़क निर्माण के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया प्रारंभ की गई है.
गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने जानकारी देते हुए कहा कि उक्त बाय पास के निर्माण में 99 के कृषकों की 13.249 हेक्टेयर भूमि और 6 वन अधिकार पट्टा की 2.049 हेक्टेयर भूमि कुल 105 किसानों की 15.298 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाना है. बाईपास सड़क एनएच- 30 के कई गांवों से होकर गुजरेगी. अब तक इसे केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय से स्वीकृति नहीं दी गई है और न राशि खर्च की गई है.
अजीत जोगी ने पूछा कि वर्ष 2016 17 के बजट में शामिल मरवाही के किन किन पहुंच मार्गों की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई थी और किन-किन पहुंच मार्गों का निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया?
मंत्री ताम्रध्वज साहू ने जानकारी देते हुए कहा कि 4 कार्यों की स्वीकृति दी गई थी. इनमें 2 कार्य प्रगति पर है. 2 निविदा के स्तर पर है. अजीत जोगी ने पुनः पूछा कि क्षेत्र के लिए 9 कार्य स्वीकृत किए गए थे. उसे कब तक पूरा कर लिया जाएगा.
ताम्रध्वज साहू बोले कि वित्तीय उपलब्धता के आधार पर प्रशासकीय स्वीकृति दी गई है. समयसीमा बताना संभव नहीं है. विनोद चंद्राकर ने पूछा कि महासमुंद के थानों में 2014 से 2018 तक कितने प्रकरण दर्ज किए गए? कितने प्रकरण में चालान पेश किए गए? ताम्रध्वज साहू ने जानकारी दी कि महासमुंद के थानों में कुल 16727 प्रकरण दर्ज किए गए हैं. 15343 प्रकरणों में चालान पेश किया गया. 1758 प्रकरणों में खात्मा, 189 प्रकरणों में खारजी भेजी गई है.
Share it
Top