logo
Breaking

Chhattisgarh Live : वोटो की गिनती शुरू, भाजपा को 28, कांग्रेस को 57, जोगी+बसपा 5 सीट पर बढ़त

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के परिणाम (Chhattisgarh Election Result 2018 Live) के लिए मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हो गई है और इसी के साथ शुरुआती रुझान भी आना शुरू हो गए हैं।

Chhattisgarh Live : वोटो की गिनती शुरू, भाजपा को 28, कांग्रेस को 57, जोगी+बसपा 5 सीट पर बढ़त

Chhattisgarh Election Result 2018 Live Update

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के परिणाम (Chhattisgarh Election Result 2018 Live) के लिए मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हो गई है और इसी के साथ शुरुआती रुझान भी आना शुरू हो गए हैं। 1079 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। राज्य में 75 प्रतिशत वोटिंग हुई थी। ईवीएम मशीनों को मतदान केन्द्रों के हिसाब से बाहर निकाला जा रहा है और उन्हें मतगणना केन्द्रों में रखा जा रहा है। सबसे पहले डाक मतपत्रों (वोट पर्ची) की गिनती की जा रही है। चुनाव आयोग से हरी झंड़ी मिलने के बाद ही विजयी उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की जाएगी और प्रमाणपत्र तैयार किए जाएंगे।

Chhattisgarh Election Result 2018 Live Update

छत्तीसगढ़ में 90 सीटों पर वोटिंग हुई, शुरुआती रुझओं में भाजपा को 28, कांग्रेस को 57, जोगी+बसपा 5 सीट पर बढ़त मिलती दिख रही है।

कोरबा विधानभा से कांग्रेस करीब 1800 मतों से आगे,

कटघोरा से करीब 1900 मतों से कांग्रेस आगे,

रामपुर विधानसभा से भाजपा करीब 889 वोटो से आगे,

पालीतानाखार से कांग्रेस 1000 मतों से आगे

बैकुंठपुर विधानसभा सीट पहला राउंड भाजपा प्रत्याशी भैयालाल राजवाड़े 1734 वोट से आगे।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव नतीजों के शुरुआती रुझानों में टीएस सिंहदेव 5000 वोटों से आगे चल रहे हैं।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव नतीजों के शुरुआती रुझानों में कांग्रेस को बहुमत मिलती दिख रही है।

बस्तर से कांग्रेस ने दो सीटों पर बढ़त बना ली है। बताया जा रहा है कि विक्रम उसेंडी अंतागढ़ और भानुप्रतापुर से मनोज मंडावी आगे हैं।

छत्तीसगढ़ में भाजपा की साख और कांग्रेस के भविष्य के साथ ही जोगी कांग्रेस अस्तित्व भी तय होगा। मतगणना से आने वाले नतीजे चाहे जो भी हों, लेकिन नतीजों को लेकर नए राज्य छत्तीसगढ़ के पहले विधानसभा चुनाव 2003 की याद दिलाता है, जब कांग्रेस सरकार को करारी शिकस्त भाजपा ने दी थी।

तब छत्तीसगढ़ में कांग्रेस अजेय नजर आती थी, भाजपा संघर्ष करती दिखती थी और पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल अपनी सियासी जमीन तलाश करने में जुटे थे। श्री शुक्ल ने एनसीपी से छत्तीसगढ़ की सभी विधानसभा सीटों में चुनाव लड़ाकर कांग्रेस को बहुत हद तक नुकसान पहंचाया था, लेकिन केवल एक सीट ही उन्हें मिल पाई थी।

इस चुनाव ने श्री शुक्ल के भविष्य पर पानी फेर दिया। वे कांग्रेस में लौटने के लिए मजबूर हो गए। लेकिन कांग्रेस तब से लेकर अब तक राजनीतिक वनवास झेल रही है। 15 साल बाद जोगी के लिए भी ऐसी ही स्थिति राज्य में बनी है।

कांग्रेस से पिता पुत्र के निष्कासन के बाद उन्होंने बसपा गठबंधन के साथ राज्य में सियासी दांव खेलने में लगे हैं। अपने गठबंधन को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी यह दावा कर रहे हैं कि किंगमेकर की भूमिका में वे रहेंगे। उनके दावे में कितना दम है यह कल मतगणना में ही दिखेगा।

कांग्रेस का किसानों पर दांव

15 साल से सत्ता से बाहर कांग्रेस पार्टी विधानसभा के इस चुनाव में किसानों के कर्जा माफी और धान के 25 सौ रुपए समर्थन मूल्य को लेकर दांव खेल रही है। कांग्रेस को लग रहा है कि किसानों के मामलों के कारण उन्हें प्रदेश के 40 लाख किसानों का समर्थन मिल रहा है। कांग्रेस अब तक रुझानों के आधार पर सियासी गणित में चर्चा में है। पूरे मामले को लेकर कांग्रेस के बड़े नेता बड़े बदलाव के रूप में इस चुनाव के आने वाले नतीजों को देख रहे हैं। कांग्रेस के लिए यह बड़ा दांव है।

अपनी साख बचाने में लगी भाजपा

वर्ष 2003 में कांग्रेस की जोगी सरकार को पटखनी देकर तीन कार्यकाल से सत्ता संभाल रही भाजपा की रमन सरकार की साख दांव पर लगी है। रमन सरकार को अपने कार्यकाल में कराए गए विकास कार्यों पर भरोसा है। सरकार अबकि विकास के साथ युवाओं और ग्रामीणों को मोबाइल सेवा का उपहार देकर अपनी विश्वसनीयता बचाने संघर्ष कर रही है। भाजपा इस चुनाव में जो टारगेट लेकर चल रही है, उसे छू पाती है कि नहीं, यह सबसे बड़ा सवाल है।

जाेगी को उलटफेर का भरोसा

छत्तीसगढ़ में राजनीतिक पारी खेल रहे जोगी ने कांग्रेस से निकाले जाने के बाद एक नई पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस बनाकर खुद के भविष्य को जिंदा रखने का दांव खेलने बसपा सुप्रीमो मायावती और सीपीआईएम से मिलकर महागठबंधन बनाया है और मैदान पर उतरे हैं। जोगी ने स्वयं के पास 51 सीटें, बसपा को 35 सीटें और 4 सीट सीपीआई को दी है। इसी आधार पर वे छत्तीसगढ़ में 8 से 10 सीट पाकर उलटफेर करने का दावा कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ में दो चरण में मतदान हुए थे, 12 नवम्बर को पहला चरण में 18 सीटों पर, जबकि 20 नवम्बर को दूसरे चरण में 72 सीटों पर मतदान हुए थे और राज्य में 75 प्रतिशत वोटिंग हुई थी।

Share it
Top