logo
Breaking

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018: नहीं दिखा नक्सलियों की धमकी का असर, 57 प्रतिशत हुई वोटिंग

शाम 4:30 बजे तक 18 सीटों पर कुल मिलाकर 56.58 प्रतिशत मतदान हुआ। कोंडागांव में 61.47, केसकाल में 63.51, कांकेर में 62, बस्तर में 58, दंतेवाड़ा में 49, खैरागढ़ में 60.5, डोंगरगढ़ में 64 और खुज्जी में 65.5 प्रतिशत मतदान हुआ।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018: नहीं दिखा नक्सलियों की धमकी का असर, 57 प्रतिशत हुई वोटिंग
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के पहले चरण की 18 विधसानसभा सीटों पर मतदान सुबह सात बजे से शुरू हुआ और शाम तक चला। छत्तीसगढ़ चुनाव के पहले चरण में नक्सल प्रभावित इलाके बस्तर और राजनांदगांव के 8 जिलों जिनमें 18 विधानसभा सीटों पर वोट डाले गए।
शाम 4:30 बजे तक 18 सीटों पर कुल मिलाकर 56.58 प्रतिशत मतदान हुआ। कोंडागांव में 61.47, केसकाल में 63.51, कांकेर में 62, बस्तर में 58, दंतेवाड़ा में 49, खैरागढ़ में 60.5, डोंगरगढ़ में 64 और खुज्जी में 65.5 प्रतिशत मतदान हुआ।
आपको बता दें कि नक्सलियों ने मतदान को लेकर लोगों को धमकी दी थी कि कोई भी मतदान करने न जाए। आपको बता दें कि पिछले पंद्रह सालों से लगातार राज्य की कमान संभाल रहे मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह अपनी घरेलू सीट राजनांदगांव से चुनाव मैदान पर हैं। यहां से कांग्रेस ने कभी बीजेपी में रहीं करुणा शुक्ला को मैदान पर उतारा है।
गौरतलब है कि नक्सल प्रभावित बस्तर इलाके में 20.4 लाख मतदाता हैं। बस्तर के 12 विधानसभा क्षेत्रों में 1500 पोलिंग बूथ बनाये गए हैं। यहाँ सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक ही लोग वोट डाले जाएंगे। सुरक्षा के लिए 65 हजार जवानों की तैनाती की गई है।
वहीं राजनांदगांव में एक लाख 21 हजार मतदाता राजनीतिक दलों का भाग्य तय करेंगे। राजनांदगांव जिले की सभी छह सीटों पर करीब 11 लाख मतदाता नए विधायक को चुनेंगे।
Share it
Top