Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

CG Elections 2018: ''अंबिकापुर'' में ये बनेगा मुख्य मुद्दा

अंबिकापुर। सामान्य सीट वाली अम्बिकापुर विधानसभा क्षेत्र में नगर निगम का घनी आबादी वाला शहरी क्षेत्र है तो वहीं उदयपुर व लखनपुर का पिछड़ा वनांचल इलाका भी शामिल है।

CG Elections 2018: अंबिकापुर में ये बनेगा मुख्य मुद्दा
X

अंबिकापुर। सामान्य सीट वाली अम्बिकापुर विधानसभा क्षेत्र में नगर निगम का घनी आबादी वाला शहरी क्षेत्र है तो वहीं उदयपुर व लखनपुर का पिछड़ा वनांचल इलाका भी शामिल है। शासन द्वारा मेडिकल कॉलेज, सरगुजा विश्वविद्यालय, इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने के साथ ही महत्वपूर्ण सड़कों का निर्माण कराया जा रहा है। लेकिन कनेक्टिविटी अभी भी यहां की बड़ी समस्या बनी हुई है। इस चुनाव में शिक्षा, स्वास्थ्य, आवागमन सुविधा, औद्योगिक विकास और बेरोजगारी मुख्य मुद्दा होंगे।

स्वच्छता मॉडल व अमृत मिशन के अलावा नगरनिगम के खाते में कोई खास उपलब्धि नहीं है

पुराने बस स्टैण्ड में गोल बाजार, विभिन्न वार्डों में पार्क व व्यवसायिक कॉम्पलेक्स निर्माण सहित कई अन्य महत्वकांक्षी योजनाएं लंबित पड़ी हुई हैं। चुनावी दावों में शहरवासियों को कर राहत देने का वादा भी पूरा नहीं हो सका है। आय के श्रोतों का निर्माण नहीं होने से आर्थिक संकट बरकरार है। शहर की अंदरूनी सड़कें जर्जर हो गई है। जल निकासी के लिए जगह-जगह गड्ढे खोदे गए हैं लेकिन समय पर कार्य पूरे नहीं हो रहे हैं। निर्माण कार्यों की गुणवत्ता का लगातार ह्रास हो रहा है। शहर के लिए बेहदअहम माने जाने वाले ट्रांसपोर्ट नगर व गोकुल नगर के निर्माण की कोई चर्चा नहीं हैं।

खस्ताहाल सड़कें बड़ी समस्या

शहर व ग्रामीण सभी सड़कें खस्ताहाल हैं। पानी निकासी व विद्युत व्यवस्था भी ठीक नहीं हैं। स्वास्थ्य सुविधाएं और बेरोजगारी दूर करने कारगर पहल करने की जरूरत है। अंचल के क्षेत्रों में अभी भी पानी की समस्या है।

कनेक्टिविटी का ही प्रयास नहीं

कनेक्टिविटी के लिए जनप्रतिनिधियों ने कोई प्रयास नहीं किया। शहर की अंदरूनी जर्जर सड़कों का निर्माण कराने की पहल नहीं हो रही है। वहीं बाहरी सभी निर्माणाधीन सड़कों में आए दिन जानलेवा हादसे हो रहे हैं।

ढहाया जा रहा प्रजातंत्र का व्यवस्थागत ढांचा

वर्तमान में प्रजातंत्र का व्यवस्थागत ढांचा ढहाया जा रहा है। प्रदेश में अधिकारी तंत्र हावी है। अधिकारी तंत्र का ऐसा दुरूपयोग कभी नहीं हुआ। भाजपा सरकार विपक्ष के साथ सौतेला व्यवहार कर रहा है। इसलिए जो भी विकास हुआ खुद के संपर्क व प्रयासों से हुआ। शहर का स्वच्छता मॉडल और मेडिकल कॉलेज बड़ी उपलब्धियां हैं। खस्ताहाल रिंग रोड का निर्माण चल रहा है।
-टीएस सिंहदेव (विधायक व नेता प्रतिपक्ष)

भाजपा सरकार ने दी अनेकों सौगातें

भाजपा सरकार ने बिना किसी भेदभाव अंबिकापुर को विकास की अनेकों सौगातें दी है। इसमें काेई दो राय नही है पर क्षेत्रीय विधायक के संकल्प हीनता के अभाव में हम जिला अस्पताल को भी पूर्ण रूप से सुविधायुक्त नहीं बना पाए। रेलवे विस्तार, विश्वविद्यालय, इंजीनियरिंग काॅलेज के काम को पूरा नहीं करा पाए। शासन और जनता के बीच की कड़ी है विधायक।
अनुराग सिंहदेव (भाजपा प्रदेश मंत्री)

सिंहदेव ने किए हैं क्षेत्र में कई विकास कार्य

विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में श्री सिंहदेव ने अम्बिकापुर के साथ ही संभाग के हर क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनके प्रयासों से स्वास्थ्य, महिला सशक्तिकरण व विद्यार्थियों के हित में कई उल्लेखनीय कार्य हुए हैं। रेल सुविधाओं के विस्तार के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य किए हैं।
शफी अहमद, सभापति, ननि

विधायक ने विकास कार्य के लिए प्रयास नहीं किया

विधायक अपने कार्यकाल में कोई विकास कार्य को नहीं करा पाए हैं। कांग्रेस के शासन काल में भी क्षेत्र के विकास के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते थे लेकिन उन्होंने कभी कोई प्रयास नहीं किया। ननि चुनाव में संपति कर, समेकित कर व जलकर को आधा करने की घोषणा की थी लेकिन सत्ता में आते ही भूल गए।
निश्चल प्रताप सिंह, जिलाध्यक्ष भाजयुमो

विधानसभा क्षेत्र का विकास हुआ तो दिख क्यों नहीं रहा

स्वच्छता अभियान में राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल करने के कारण अम्बिकापुर ननि काफी चर्चा में है। लोगों का कहना है कि विकास के कार्य हुए हैं तो दिख क्यों नहीं रहे।

बिलासपुर-रायगढ़ हाइवे राहत से पहले परेशानी का कारण

क्षेत्र में आवागमन की सुविधा बड़ी चुनौती है। बिलासपुर-रायगढ़ हाइवे बन रहा है लेकिन निर्माण की धीमी रफ्तार लोगों के लिए राहत कमं परेशानी ज्यादा बन गई है। बारिश के दिनों में शहर के आसपास के इलाके मुख्यमार्ग से कट जाते हैं।

हवाई सेवा जल्द मिलेगी, पर राजधानी के लिए एक ही ट्रेन

राजधानी के लिए भी एक मात्र ट्रेन है। बड़े शहरों के साथ बरवाडीह, झारसुगुड़ा, कोरबा व रेनुकूट तक रेलवे लाइन की मांग दशकों से उठ रही है लेकिन कोई पहल नहीं हुई। फिलहाल क्षेत्र को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयारियां पूरी कर ली गई है।

एजुकेशन हब बनने की तैयारी लेकिन सुविधाओं की कमी

शहर एजुकेशन हब बनने की ओर अग्रसर है लेकिन तकनीकी शैक्षणिक संस्थान भवन व शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं। मेडिकल कॉलेज सहित कई शासकीय व नीजि अस्पताल हैं लेकिन विशेषज्ञ चिकित्सकों व संसाधनों की कमी है।

फसल अच्छी, किसानों को फूड प्रोसेसिंग यूनिट का इंतजार

क्षेत्र में भारी मात्रा में टमाटर, हरीमिर्च, आलू, आम, लीची, स्ट्राबेरी सहित अन्य फलों व सब्जियों खेती होती है। दशकों से क्षेत्र में फूड प्रोसेसिंग यूनिट सहित अन्य सहायक उद्योग लगाने की मांग चल रही है जिसमें कोई सफलता नही मिली है।

2008 समीकरण: जीत का अंतर काफी कम रहा

प्रत्याशी पार्टी मत जीत का
टीएस सिंहदेव कांग्रेस
56222 अंतर
अनुराग सिंहदेव भाजपा 55274 948

2013 समीकरण: मनीपावर व मशल पावर हार की वजह

प्रत्याशी पार्टी मत जीत का

टीएस सिंहदेव कांग्रेस 84668 अंतर
अनुराग सिंहदेव भाजपा 65110 19558

25 सालों तक यहां कांग्रेस के मदन गोपाल का कब्जा रहा

अम्बिकापुर विधानसभा सीट प्रारंभ में सामान्य थी तथा भाजपा प्रभुनारायण त्रिपाठी ने जीत हासिल की थी। इसके बाद यह सीट अजजा के लिए सुरक्षित हो गई। सुरक्षित सीट पर 25 वर्षों तक कांग्रेस के मदन गोपाल सिंह का कब्जा रहा। वर्ष 2003 के चुनाव में कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाले इस सीट पर भाजपा के कमलभान सिंह ने कब्जा जमाया। विधानसभा के परिसीमन के बाद 2008 में यह सीट सामान्य घोषित की गई। साल 2008 और 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टीएस सिंहदेव ने भाजपा के अनुराग सिंहदेव को पराजित कर जीत दर्ज की। लिहाजा पिछले एक दशक से इस विधानसभा में कांग्रेस की सत्ता बरकरार है।

ये चुनाव के बड़े मुद्दे

विधानसभा अन्तर्गत शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में मूलभूत समस्याओ का निराकरण नहीं होने से लोगों में नाराजगी है। क्षेत्र विकास का मुद्दा जोर पकड़ने लगा है। दोनों प्रमुख दल अब प्रभावी ढंग से अपने-अपने मुद्दों को उठा रहे हैं। रेलवे कनेक्टिविटी और सड़क परिवहन लोगों से जुड़ा मामला है। ये इस चुनाव में बड़ा मुद्दा होंगे।

जातीय समीकरण

अम्बिकापुर विधानसभा क्षेत्र में सामान्य वर्ग के मतदाताओं के अलावा मुस्लिम व क्रिश्चन धर्मावलंबियों की अच्छी-खासी आबादी है। अनुसूचित जनजाति गोड़, कवंर, उरांव और पिछड़ी जनजाति रजवार, यादव व साहू समाज के लोग निर्णायक भूमिका निभाते हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story