logo
Breaking

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 दूसरा चरण: चुनाव से पहले छावनी में तब्दील हुआ गढ़, चप्पे-चप्पे को फोर्स ने नापा

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के दूसरे चरण में 72 सीटों के लिए 20 नवंबर को मतदान से 48 घंटे पहले पुलिस और पैरामिलेट्री फोर्स 30 गाड़ियों के काफिले के साथ शहर के चप्पे-चप्पे तक पहुंची।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 दूसरा चरण: चुनाव से पहले छावनी में तब्दील हुआ गढ़, चप्पे-चप्पे को फोर्स ने नापा

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के दूसरे चरण में 72 सीटों के लिए 20 नवंबर को मतदान से 48 घंटे पहले पुलिस और पैरामिलेट्री फोर्स 30 गाड़ियों के काफिले के साथ शहर के चप्पे-चप्पे तक पहुंची। कॉलोनियों से मोहल्लों तक फोर्स ने सुरक्षा जांची और अपनी ताकत का एहसास कराया।

शहर में शांतिपूर्ण मतदान कराने का आश्वासन दिया। इसमें रैपिड एक्शन फोर्स, जिला पुलिस बल और पुलिस अफसर मौजूद रहे। दरअसल वोटिंग के दौरान सुरक्षा के लिए हफ्तेभर पहले पैरामिलेट्री फोर्स समेत अन्य बलों के जवान यहां पहुंच चुके हैं।

रविवार को सभी फोर्स को रिजर्व पुलिस लाइंस बुलाया गया, जहां उनको मतदान डयूटी की डिटेल बताई गई। इसके बाद वहां से फोर्स को शहर में रवाना किया गया। इसमें पैरामिलेट्री के साथ थाना प्रभारी और सीएसपी शामिल हुए।

30 गाड़ियों में 400 फोर्स

अफसरों के मुताबिक पैरामिलेट्री फोर्स और पुलिस के संयुक्त काफिले में करीब 16 थाना प्रभारी, 5 सीएसपी और 10 रैपिड एक्शन फोर्स, यानि कुल 30 गाड़ियों के काफिले के साथ फोर्स ने शहर में भ्रमण कर अपनी मुस्तैदी का नमूना दिखाया। इसमें करीब 200 रैपिड एक्शन फोर्स के जवान और अफसर मौजूद थे।

यहां से गुजरा काफिला

अफसराें के मुताबिक रिजर्व पुलिस लाइंस से काफिला निकला और टैैगोरनगर, कटोरा तालाब, आकाशवाणी चौक, ओसीएम चौक, कोतवाली चौक, तात्यापारा चौक, रामासागरपारा, राठौर चौक होते हुए गुढ़ियारी पहुंचा।

वहां से भनपुरी, खमतराई होतेे हुए कबीरनगर तक पहुंचा, वहां से डीडीनगर, भाठागांव, कुशालपुर, पुरानी बस्ती, टिकरापारा, राजेंद्रनगर, तेलीबांधा, पंडरी, फाफाडीह होते हुए जयस्तंभ चौक, कोतवाली से वापस रिजर्व पुलिस लाइंस पहुंचा। इस दौरान करीब 4 घंटे तक फोर्स ने भ्रमण किया।

विधानसभा चुनाव में मतदान के दौरान शांतिपूर्ण व्यवस्था के लिए फोर्स लगाई गई है। शहर में सुरक्षा जांचने पैरामिलेट्री और पुलिस बल का 30 गाड़ियों में काफिला निकला। (केके पटेल, सीएसपी, पुरानी बस्ती)

Share it
Top