logo
Breaking

छत्तीसगढ़ में भाजपा ने की 375 सभाएं, रमन सिंह ने की सबसे अधिक रैली, योगी-राजनाथ ने भी संभाला मोर्चा

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के दोनों चरणों को मिलाकर भाजपा के स्टार प्रचारकों ने रिकॉर्डतोड़ 375 सभाएं कीं। इनमें सबसे ज्यादा 69 सभाएं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की हुईं।

छत्तीसगढ़ में भाजपा ने की 375 सभाएं, रमन सिंह ने की सबसे अधिक रैली, योगी-राजनाथ ने भी संभाला मोर्चा

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के दोनों चरणों को मिलाकर भाजपा के स्टार प्रचारकों ने रिकॉर्डतोड़ 375 सभाएं कीं। इनमें सबसे ज्यादा 69 सभाएं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की हुईं।

केंद्रीय मंत्रियों और स्टार प्रचारकों में केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी की ज्यादा सभाएं हुईं। इनसे ज्यादा उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की दो दर्जन विधानसभाआें में सभाएं हुईं।

विधानसभा चुनाव में भाजपा ने इस बार बिलकुल अलग तरह की रणनीति पर काम किया। पहले चरण के चुनाव में जहां एक साथ सभी प्रत्याशियों के 26 अक्टूबर को नामांकन भरवाए गए, वहीं दूसरे चरण के लिए एक साथ 72 प्रत्याशियों ने एक नवंबर को नामांकन भरे।

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ में 'तेज सत्ता विरोधी लहर' पर सवार होकर सत्ता में लौटेगी कांग्रेस: वीरप्पा मोईली

इसी तरह से 29 अक्टूबर काे एक साथ सभी 18 विधानसभाआें में एकसाथ सभाएं की गईं। ऐसी ही तैयारी दूसरे चरण में 11 नवंबर को 72 विस की थी, लेकिन यह संभव नहीं हो सका तो हर दिन तीन से चार स्टार प्रचारकों के अलावा मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मिलाकर हर दिन दो दर्जन स्थानों पर लगातार सभाएं की गईं।

किसकी कितनी संभाएं

सभाआें के मामले में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बाजी मारी। उन्होंने पहले चरण के प्रचार में निकलने से पहले ही वादा किया था कि उनका उड़नखटाेला हर विस तक पहुंचने के बाद ही थमेगा। वे हर विस तक तो नहीं, लेकिन 69 विस क्षेत्रों तक जरूर पहुंचे। उनके अलावा उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ की सबसे ज्यादा 24 सभाएं हुईं।

इसी तरह से केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह की 14, स्मृति ईरानी की 20, मनोज तिवारी की 24, विष्णुदेव साय की 24, रामकृपाल यादव की 10, हेमामालिनी की 4, प्रकाश जावड़ेकर की तीन, रविशंकर प्रसाद की दो, अोडिशा के भाजपा के नेता प्रतिपक्ष केवी सिंहदेव की 17, रामविचार नेताम की 8, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास की 8, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा की 8, सुषमा स्वराज की दो सहित और कई स्टार प्रचारकों की सभाएं हुईं।

ये नहीं आ सके

स्टार प्रचारकों में शामिल केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, नितिन गडकरी, धर्मेंद्र प्रधान, जुएल उरांव, जगतप्रकाश नड्डा के अलावा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह नहीं आ सके। इनके न आ पाने का कारण भाजपा के नेता इनकी दूसरे राज्यों में व्यस्तता बताते हैं। नितिन गडकरी का दो बार कार्यक्रम बना और रद्द हुआ। उनके स्थान पर स्मृति ईरानी ने सभाएं कीं।

Share it
Top