Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

CG NEWS : अंतागढ़ टेपकांड मामले पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग

अंतागढ़ टेपकांड मामले पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा है। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस मामले में आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की है।

CG NEWS : अंतागढ़ टेपकांड मामले पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग

रायपुर. अंतागढ़ टेपकांड मामले पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा है। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस मामले में आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की है। सामाजिक कार्यकर्ता ममता शर्मा, अनिल अग्रवाल, राकेश चौबे, कुणाल शुक्ला, उचित शर्मा, अभिषेक प्रताप सिंह, व्यासमुनि द्विवेदी,नागेंद्र दुबे ने अपने ज्ञापन में लिखा है कि अंतागढ़ टेप कांड में 4 साल बाद अंततः रायपुर पुलिस द्वारा जुर्म दर्ज किया गया है। उपरोक्त संदर्भ में हम लोग आपके संज्ञान में लाना चाहते हैं कि अंतागढ़ टेप कांड के प्रमुख आरोपी क्रमशः मंतूराम पवार तथा डॉ पुनीत गुप्ता तथा राजेश मूणत की अग्रिम जमानत रायपुर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट द्वारा निरस्त करी जा चुकी है,साथ साथ अन्य दो आरोपियों अजीत जोगी,अमित जोगी द्वारा किसी भी प्रकार का अग्रिम जमानत आवेदन किसी भी न्यायालय में नहीं दिया गया है।

अंतागढ़ टेप कांड के पांचों प्रमुख आरोपी अजीत जोगी,अमित जोगी,मंतूराम,राजेश मूढ़त,डॉ पुनीत गुप्ता राजधानी रायपुर में पुलिस के ही सामने खुलेआम कानून का माखौल उड़ाते हुए घूम रहे हैं, इनके रसूख तथा धनबली होने के चलते अग्रिम जमानत निरस्त हो जाने के बावजूद पुलिस इन्हें गिरफ्तारी से सिर्फ इसलिए छूट दे रही है जिससे यह सभी आरोपी हाईकोर्ट में भी जमानत हेतु विकल्प तलाश लें।
सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाते हुए अपने ज्ञापन में आगे लिखा है कि पुलिस का यह दोगला चेहरा है,एक तरफ वह गरीब,मजदूर,किसान,पत्रकार, को छोटे मोटे जुर्म में झूठा फंसा कर तत्काल गिरफ्तार कर लेती है परंतु अंतागढ़ टेप कांड के धनबली रसूखदार राजनीतिक लोगों को संरक्षण देती है।
महोदया,आपसे विनम्र निवेदन है कि अंतागढ़ टेप कांड के प्रमुख आरोपियों क्रमशः अजीत जोगी,अमित जोगी,मंतूराम,पुनीत गुप्ता,राजेश मूढ़त की गिरफ्तारी हेतु आदेशित करें जिससे इन लोग गवाहों को प्रभावित न कर सकें,सबूतों से छेड़छाड़ न कर सकें।
Next Story
Share it
Top