logo
Breaking

कड़ी सुरक्षा के बीच NIA कोर्ट में पेश किया गया सेंट्रल का अफसर

सोमवार को कड़ी सुरक्षा के बीच सेंट्रल के अफसर नक्सली को डोंगरगढ़ पुलिस ने बिलासपुर स्थित एनआईए कोर्ट में पेश किया गया। एसडीओपी ने पूछताछ कर माल बरामद करने के लिए अफसर काे पुलिस रिमांड में लेने के लिए आवेदन दिया गया।

कड़ी सुरक्षा के बीच NIA कोर्ट में पेश किया गया सेंट्रल का अफसर

सोमवार को कड़ी सुरक्षा के बीच सेंट्रल के अफसर नक्सली को डोंगरगढ़ पुलिस ने बिलासपुर स्थित एनआईए कोर्ट में पेश किया गया। एसडीओपी ने पूछताछ कर माल बरामद करने के लिए अफसर काे पुलिस रिमांड में लेने के लिए आवेदन दिया गया। कोर्ट ने मामले की गंभीरता को देखते हुए अफसर को 31 दिसंबर तक पुलिस रिमांड में सौंप दिया है।

न्यायलयीन सूत्रों के मुताबिक, 23 दिसंबर को राजनांदगांव जिला के डोंगरगढ़ पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली एक व्यक्ति नक्सली सामाग्री लेकर महाराष्ट्र से राजनांदगांव कवर्धा क्षेत्र में आने वाला है। सूचना पर थाना बागनदी क्षेत्र के चाबुकनाला मोड़ के पुलिस द्वारा लगाए गए एमसीपी चेकिंग लगाया गया।
मुखबिर के बताए हुलिया के अनुसार बाइक सवार हाउस नम्बर 181, गली नम्बर 6 हेमा नगर चिल्का नगर, बोडुप्पल हैदराबाद आंध्र प्रदेश स्थायी पता खुत्तापेटा ईस्ट गोदावरी आंध्र प्रदेश निवासी एन वेंकेट राव उर्फ मूर्ति पिता स्व. साहेब वेंकेट 54 साल को रोककर तलाशी ली गई, जिससे उसके पास से नक्सली सामाग्री मिला।
आरोपी वेंकेट भारत सरकार के केन्द्रीय उपक्रम नेशनल जियोफिजिकल रिसर्च इंस्टीटयूट हैदराबाद में सीनियर टेक्नीकल आफिसर के पद पर कार्यरत है। डोंगरगढ़ पुलिस ने अपराध क्रमांक 51 / 18 धारा 4 - 5 विस्फोटक पदार्थ अधिनियम एवं धारा 38, 39 - 2 विधि के विरूद्ध क्रियाकलाप अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था।
24 दिसंबर को डोंगरगढ़ एसडीओपी मणिशंकर चंद्रा के नेतृत्तव में सशस्त्र बल के साथ गोपनीय तरीके से प्राइवेट दो गाड़ियों के कड़ी सुरक्षा के बीच बिलासपुर स्थित एनआईए कोर्ट में पेश किया। एसडीओपी की ओर आरोपी से पूछताछ कर सामान बरामद करने के लिए पुलिस रिमांड की मांग की गई।
कोर्ट ने मामले की गंभीरता को देखते हुए आरोपी आफसर को 31 दिसंबर तक पुलिस रिमांड में डोंगरगढ़ पुलिस को सौंप दिया गया है।

इस आधार पर मांगा गया पुलिस रिमांड
आरोपी शहरी और ग्रामीण नक्सली संगठनों के मध्य को - आर्डिनेशनल का एक अहम सदस्य है, जिससे और पूछताछ कर अहम जानकारी प्राप्त करने एवं नक्सलियों के आने वाले समय में अहम रणनीतियों के जानकारी लेने प्राप्त करना है। जिससे शासन एवं पुलिस दल की होने वाली क्षति को रोका जा सके।
इससे पूछताछ में इसके द्वारा नीरी गेस्ट हाउस नागपुर में रूकना बताया गया है। जहां से इनके सामान एवं अन्य दस्तावेज लैपटाप बरामद करना है, साथ ही ये एनजीआरआई राष्ट्रीय भु - भौतिक अनुसंधान हैदराबाद में कार्यरत है, वहां एवं इनके निवासी स्थान में जाकर तलाशी लेना है। जिसके लिए समय की आवश्यकता है।

आरोपी से ये बरामद हुआ
नक्सली सामग्री एक काले भूरा रंग का बैग, जिसमें अंग्रेजी में लिबिया लिखा हुआ, अंदर डेटोनेटर 23 नग, वाकीटाकी 2, वाकीटाकी चार्जर 2, नक्सली पर्चा 18, पुस्तक 8 जिसमें बुक में आपरेशन ग्रीनहंट एड अटैक आन एडवाइस, ब्लैड रेड रिवर, कोटा नीलिमा विडोस आफ विदभा, गरमीत कैनवास इंडियन आर्मी विजन 2020, बाकागढ़ एंड लिजेंट आफ किशन जी, रेड स्टार ओवर इंडिया, तेलगू भाषा का एक बुक जो रिवजनी जम माओवादी, तेलगू भाषा का एक बुक खूंटे एरीनर वनल तेलग भाषा में लिखा एवं एक नग भूरे रंग का कवर लगा मोबाइल जिसके अंदर पर्चे में 1988 लिखा है।
मिलने की अनुमति निरस्त
अधिवक्ता ने कोर्ट में आवेदन प्रस्तुत कर आरोपी वेंकेट से प्रतिदिन मिलने देने की अनुमति मांगी गई। कोर्ट ने उनके आवेदन को खारिज करते हुए विधि परामर्श के लिए मिलने देने की अनुमति दी है। बताया जाता है आरोपी पत्नी हेम ललिता आंध्रप्रदेश में अधिवक्ता है और उसके ओर से पैरवी करने के लिए एनआईए कोर्ट आई थी। आरोपी पति को पुलिस कड़ी सुरक्षा के बीच डोंगरगढ़ रवाना हुई तो उसके आंखे छलक गई।
Share it
Top