logo
Breaking

छत्तीसगढ़/ 62 साल बाद पता चला बायीं नहीं, दायीं ओर है दिल!

कुदरत के चमत्कार का एक उदाहरण कैलाश कश्यप के रूप में सामने है। जिन्होंने अपने जीवन के 62 साल गुजार दिए, लेकिन उन्हें यह तक अहसास नहीं था कि उनका दिल बायीं ओर के बजाय दायीं तरफ है।

छत्तीसगढ़/ 62 साल बाद पता चला बायीं नहीं, दायीं ओर है दिल!

कुदरत के चमत्कार का एक उदाहरण कैलाश कश्यप के रूप में सामने है। जिन्होंने अपने जीवन के 62 साल गुजार दिए, लेकिन उन्हें यह तक अहसास नहीं था कि उनका दिल बायीं ओर के बजाय दायीं तरफ है। वे जब अपनी शारीरिक कमजोरी की शिकायत लेकर प्रदेश के सुपर स्पेशलिटी डीकेएस अस्पताल पहुंचे, तब उन्हें इसकी जानकारी मिली।

अस्पताल के पांच डॉक्टरों की टीम ने कैलाश का सफल एंजियोग्राम किया। रायपुर के मालवीय रोड में रहने वाले कैलाश कश्यप अपने दिल की इस स्थिति से बेखबर थे। उन्हें सीने में दर्द उठने के साथ ही सांस फूलने की समस्या हो रही थी। इसकी शिकायत लेकर उन्होंने अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई में अपनी जांच कराई। यहां डॉक्टर ने उनका ईसीजी किया।
इस दौरान जांच में कैलाश के बायीं ओर से दिल के धड़कने के संकेत नहीं मिल रहे थे। बाद में एग्जामिन एक्स-रे करने पर दिल के बायीं ओर ना होने की स्थिति डॉक्टर को मालूम हुई। डॉक्टर बजरंग बंसल का कहना है कि सोनोग्राफी करने पर पता चला कि जो लिवर दायीं तरफ होता है, वह बायीं तरफ था।
साथ ही कैलाश का स्टमक स्प्लीन बायीं तरफ होना चाहिए, जो दायीं ओर पाया गया। ईसीजी में डॉक्टर को हार्ट फेलियर और आर्टरीज में ब्लॉकेज की स्थिति में डॉक्टर बजरंग बंसल औ छत्तीसगढ़/,बायीं,नहीं,,दायीं र उनकी टीम ने मिलकर उनका सफल एंजियोग्राम किया।
Share it
Top