logo
Breaking

बिलासपुर में गरमाई बंगले की सियासत, जूनियर जोगी के बंगले पर विधायक शैलेष पांडेय की नजर

न्यायधानी में विधायक निवास को लेकर सरकारी बंगले की सियासत तेज हो गई है। बंगले की सियासत में अब पूर्व विधायक अमित जोगी के आवास मरवाही सदन पर खतरा मंडराने लगा है

बिलासपुर में गरमाई बंगले की सियासत, जूनियर जोगी के बंगले पर विधायक शैलेष पांडेय की नजर

न्यायधानी में विधायक निवास को लेकर सरकारी बंगले की सियासत तेज हो गई है। बंगले की सियासत में अब पूर्व विधायक अमित जोगी के आवास मरवाही सदन पर खतरा मंडराने लगा है।दरअसल बिलासपुर विधायक शैलेश पाण्डेय ने अब मरवाही सदन बंगले को बिलासपुर विधायक सदन के रूप में अपने लिए मांग की है। उनका कहना है कि मैं बिलासपुर का निर्वाचित विधायक हूँ। लाजमी है कि मुझसे मिलने आने वाली जनता की सुविधा को ध्यान में रखना मेरी पहली प्राथमिकता है। वर्तमान में मैं सकरी स्थित अपने निजी निवास से अपना काम कर रहा हूँ, जो की बिलासपुर से लगभग 5 से 7 किलोमीटर की दूरी पर है। अगर जनता ने मुझे अपना प्रतिनिधी चुना है तो उनको मुझसे मिलने के लिए ज्यादा दूरी तय करने की जरुरत नहीं पड़नी चाहिए। लिहाजा शहर के मध्य ही मुझे बँगला एलाट होना चाहिए

जिस तरह मरवाही के पूर्व विधायक अमित जोगी को जो बँगला आबंटित किया गया है, वो शहर का हृदय स्थल है। इस बंगले से कमिश्नर, आईजी, कलेक्टोरेड, एसपी सहित जिले भर के सरकारी कार्यालय लगे हुए हैं। इसके अलावा नेहरु चौक और नगर निगम कार्यालय चंद कदम पर है। यहाँ बिलासपुर की जनता का हर दिन आना और जाना लगा रहता है। ऐसे में उन्हें मुझसे मिलने के लिए भटकना ना पड़े। लिहाजा अब मरवाही के पूर्व विधायक अमित जोगी को जो बँगला आबंटित किया गया है, उसे खाली कराया जाएँ और बिलासपुर विधायक सदन के लिए दिया जाना चाहिए।
गौरतबल है कि बिलासपुर विधायक शैलेश पाण्डेय ने कहा कि- पिछले 10 दिनों से बँगला आबंटित करने के लिए संभाग आयुक्त टीसी महावर को आवेदन दिया गया है। इसके बाद भी मुझे बंगला नहीं दिए जाना गलत है। अगर उन्हें बँगला नहीं मिल रहा है तो अमित जोगी का बँगला खाली करा कर मुझे क्यों नहीं दे देते है। लेकिन अब देखना होगा कि अब बंगले की सियासत पर आगे—आगे होता है क्या...?
Share it
Top