logo
Breaking

नए साल में बड़ी राहत, कहीं से खरीदें गाड़ी, तत्काल मिलेगा वाहन का ट्रांसफर सर्टिफिकेट

अब लग्जरी गाड़ियों के शौकीन को नए साल में परिवहन विभाग बड़ी राहत देगा। किसी भी जिले से गाड़ी खरीदकर दूसरे जिले में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट नहीं लेना पड़ेगा। राज्यभर के किसी भी जिले से गाड़ी खरीदने पर शोरुम में ट्रांसफर सर्टिफिकेट बना दिया जाएगा।

नए साल में बड़ी राहत, कहीं से खरीदें गाड़ी, तत्काल मिलेगा वाहन का ट्रांसफर सर्टिफिकेट

अब लग्जरी गाड़ियों के शौकीन को नए साल में परिवहन विभाग बड़ी राहत देगा। किसी भी जिले से गाड़ी खरीदकर दूसरे जिले में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट नहीं लेना पड़ेगा। राज्यभर के किसी भी जिले से गाड़ी खरीदने पर शोरुम में ट्रांसफर सर्टिफिकेट बना दिया जाएगा।

यही नहीं, शोरुम से ही वाहन स्वामी को उस जिले के सीरीज का वाहन नंबर भी जारी कर दिया जाएगा, जिस जिले में उसे गाड़ी का रजिस्ट्रेशन कराना होगा। वाहन-4 साफ्टवेयर के माध्यम से गाड़ियों की डिटेल ऑनलाइन संबंधित आरटीओ दफ्तर भेज दी जाएगी। साथ ही पुरानी गाड़ियां खरीद कर दूसरे राज्यों में रजिस्ट्रेशन कराने एनओसी नहीं लेनी होगी।

संभावना है, नए साल में जनवरी के पहले हफ्ते से यह सिस्टम शुरु हो जाएगा। इससे राजधानी से गाड़ियों के खरीदकर दूसरे जिले में रजिस्ट्रेशन कराने वालों काे एनआेसी के लिए चक्कर लगाने से निजात मिल जाएगी।

ऐसे काम करेगा सिस्टम
जानकारी के मुताबिक राजधानी या फिर किसी अन्य जिले से गाड़ी खरीदने पर शो-रूम में गाड़ी की पूरी डिटेल वाहन-4 साफ्टवेयर पर अपलोड की जाएंगी। जिस जिले में गाड़ी का रजिस्ट्रेशन कराना हाेगा, उसकी डिटेल भरनी होगी, जिसके बाद ऑटोमेटिक उस जिले की सीरीज का वाहन नंबर जनरेट हो जाएगा, जो वाहन स्वामी को शो-रूम से तत्काल मिल जाएगा।
पहले ऐसी थी प्रक्रिया
जानकारी के मुताबिक, राजधानी से वाहन खरीद कर दूसरे जिले में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट लेना पड़ता था। शो-रूम से गाड़ी के दस्तावेज वाहन स्वामी को मिल जाते थे, जिसका गाड़ी खरीदी वाले जिले के आरटीओ दफ्तर में आवेदन कर ट्रांसफर सर्टिफिकेट बनाया जाता था। इसे वहां के आरटीओ दफ्तर में जमा करने के बाद गाड़ी का रजिस्ट्रेशन कर वाहन नंबर जारी किया जाता था।
सिर्फ राजधानी में बनते हैं 10 हजार टीसी
जानकारी के मुताबिक राजधानी के शो-रूम से दूसरे जिलों से ग्राहक लग्जरी कार खरीदते हैं। यहां से करीब हर महीने 10 हजार ऐसी गाड़ियाें की बिक्री होती थी, जिसका पंजीयन दूसरे जिलों में कराना होता था। यानी 10 हजार ट्रांसफर सर्टिफिकेट हर महीने राजधानी के आरटीओ दफ्तर से जारी होता है।

शो-रूम से जारी किया जा सकेगा
वाहन-4 साफ्टवेयर के माध्यम से कहीं से भी गाड़ी खरीदने पर शो-रूम से ट्रांसफर सर्टिफिकेट जारी किया जा सकेगा। जनवरी के पहले हफ्ते में यह सिस्टम लागू कर दिया जाएगा।
- ओपी पाल, एडिशनल कमिश्नर, ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट
Share it
Top