Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रायपुर में मनाया गया बैसाखी का त्यौहार, सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए की अरदास

मान्यता है कि 1699 में आनंदपुर साहिब में गुरु गोविंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी। पढ़िए पूरी खबर-

रायपुर में मनाया गया बैसाखी का त्यौहार, सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए की अरदास
X

रायपुर। खालसा पंथ का स्थापना दिवस बैसाखी पर्व मनाया गया। सिक्खों के पांचवें गुरु गुरु गोविद सिंह के प्रकाश पर्व के मौके पर सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुए सुबह देवेंद्र नगर गुरुद्वारा में कोरोना के संक्रमण को प्रदेश व देश से रोकने के लिए साधसंगत की तरफ से ज्ञानी सुरजीत सिंग द्वारा अरदास की गई।

गौरतलब है कि सिख समाज में बैसाखी का पर्व खालसा पंथ के सर्जना दिवस के रूप में मनाया जाता है। मान्यता है कि 1699 में आनंदपुर साहिब में गुरु गोविंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी। इस दिन उन्होंने सर्वप्रथम पांच (पंज) प्यारों को अमृतपान करवा कर खालसा बनाया और उसके बाद उन पांच प्यारों के हाथों स्वयं भी अमृत चखा था।

इस मौके पर देवेंद्र नगर की संगत के रूप में पार्षद बंटी होरा एवं परिवार, सुरेंद्र सिंह, कंवलजीत सिंह परिवार, गुरमीत सिंग छाबड़ा, भाटिया परिवार, गुरुद्वारे के प्रधान दिलेर सिंह होरा, गुरुचरण सिंह होरा एवं प्रीतपाल सिंह होरा ने प्रदेश वासियों को गुरुपर्व की बधाई दी है तथा वाहेगुरू से अरदास की गई कि कोरोना के संक्रमण से ईश्वर हमारे प्रदेश को मुक्त करें।

Next Story