logo
Breaking

अंतागढ़ टेप कांड : तीन नए नाम का खुलासा, अमीन और फिरोज के क्रास बयान में पुष्टि

अंतागढ़ विधानसभा के उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी मंतूराम पवार के खरीद-फरोख्त मामले में फिरोज सिद्दीकी और अमीन मेमन के क्रास बयान में चौंकाने वाले सबूत स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम को मिले हैं।

अंतागढ़ टेप कांड : तीन नए नाम का खुलासा, अमीन और फिरोज के क्रास बयान में पुष्टि

अंतागढ़ विधानसभा के उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी मंतूराम पवार के खरीद-फरोख्त मामले में फिरोज सिद्दीकी और अमीन मेमन के क्रास बयान में चौंकाने वाले सबूत स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम को मिले हैं। अब इस केस में तीन और नए चेहरे आ गए हैं, जो खरीद-फरोख्त की अहम कड़ी हैं। अमीन और फिरोज ने इन तीनों का नाम पहले बता चुके थे, लेकिन बयान में थोड़ा अंतर था, इसलिए शुक्रवार को दोनों गवाहों को एसआईटी ने बुलाया और तीनों की भूमिका को लेकर करीब 70 से अधिक सवाल किए।

भूमिका स्पष्ट होने के बाद उनके नामों को जांच में शामिल किया गया है। अब उन्हें नोटिस जारी करने की तैयारी है। दरअसल केस के अहम गवाह अमीन मेमन और फिरोज सिद्दीकी को एसआईटी ने बुलाया। करीब 4.30 बजे से 5.30 बजे तक उनसे पूछताछ की गई। करीब घंटेभर में सिर्फ बिखरी कड़ियों को जोड़ने की कोशिश की गई।

अब फिरोज सिद्दीकी का बयान दर्ज कराया जाएगा। वहीं गवाह अमीन मेमन ने हरिभूमि को बताया कि अंतागढ़ टेपकांड में तीन और नाम थे, जिनकी भूमिका स्पष्ट करने एसआईटी ने बुलाया था और मेरे व फिरोज सिद्दीकी के क्रास बयान में उनकी भूमिका स्पष्ट हो गई है।

टेपकांड में हो चुकी है एफआईआर

गौरतलब है कि अंतागढ़ टेपकांड में पंडरी पुलिस स्टेशन में पूर्व विधायक मंतूराम पवार, पूर्व मंत्री राजेश मूणत, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, पूर्व विधायक अमित जोगी और डा. पुनीत गुप्ता के खिलाफ केस दर्ज किया गया है, जिसमें अपराधिक षडयंत्र रचने, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और धोखाधड़ी समेत कई धाराएं शामिल हैं। अब एसआईटी को सभी आरोपों को कोर्ट में साबित करने सबूतों की बेहद जरुरत है, इसलिए पूछताछ की रफ्तार बढ़ा दी गई है।

7 करोड़ में डील का खुलासा

स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम की पूछताछ में फिरोज खान अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी के मैदान से हटने को लेकर 7 करोड़ रुपए की डील होने का खुलासा कर चुके हैं। इसमें करीब 3 करोड़ 50 लाख रुपए मंतूराम तक भिजवाने की बात स्वीकार की थी। हालांकि मंतूराम पवार इस आरोप से इनकार कर चुके हैं।

अंतागढ़ उपचुनाव में फूटा था कांड

गौरतलब है, साल 2014 में राज्य के अंतागढ़ उपचुनाव में मंतूराम पवार कांग्रेस की तरफ से अधिकृत प्रत्याशी बनाए गए थे, लेकिन पवार ने नामांकन दाखिल करने के बाद नाटकीय तरीके से चुनाव मैदान छोड़ दिया था। पार्टी को सूचना दिए बगैर उन्होंने नामांकन वापस ले लिया। इसे लेकर डॉ. पुनीत गुप्ता, पूर्व विधायक मंतूराम, पूर्व मंत्री राजेश मूणत समेत अन्य के खिलाफ पंडरी थाने में केस दर्ज किया गया है। इस मामले में अब तक फिरोज सिद्दीकी, अमीन मेमन, गिरीश देवांगन, पूर्व विधायक मंतूराम पवार से पूछताछ हो चुकी है। अमीन मेमन का कोर्ट में 164 का बयान दर्ज हो चुका है।

Share it
Top