logo
Breaking

और मच जाता चारो ओर कोहराम, अगर....... आगे पटरी नहीं थी

सुकमा -मुठभेड़ में अपने 15 साथियों की मौत से बौखलाए नक्सली दक्षिण बस्तर में लगातार वारदातों को अंजाम दे रहे हैं

और मच जाता चारो ओर कोहराम, अगर....... आगे पटरी नहीं थी

सुकमा -मुठभेड़ में अपने 15 साथियों की मौत से बौखलाए नक्सली दक्षिण बस्तर में लगातार वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। बुधवार की देर शाम बचेली मार्ग पर दो यात्री बसों समेत 3 वाहनों में आगजनी के बाद माओवादियों ने किरन्दुल जा रही पैसेंजर ट्रेन को निशाना बनाने की कोशिश की। कमालूर व दंतेवाड़ा के बीच नक्सलियों ने पटरी उखाड़ दी।

बताया जा रहा है कि हादसे के वक्त ट्रेन की स्पीड कम रहने से बड़ा हादसा टल गया और ट्रेन पटरी छोड़ते हुए डिरेल हो गई। हादसे में रेल में सवार कुछ यात्रियों को हल्की चोटें लगने की खबर है। दंतेवाड़ा एएसपी गोरखनाथ बघेल ने बताया कि धुरली के पास बुधवार की शाम 3 गाड़ियों को आग के हवाले करने के बाद नक्सलियों ने इस वारदात को अंजाम दिया।
दंतेवाड़ा के एएसपी के मुताबिक वाहनों में आगजनी के बाद किरन्दुल जा रही पैसेंजर ट्रेन सुरक्षागत कारणों से दंतेवाड़ा वापस आ रही थी। इसी बीच रात करीब 9 बजे कमालूर के पास नक्सलियों ने रेलवे ट्रेक उखाड़कर ट्रेन को निशाना बनाने का प्रयास किया। घटना की सूचना मिलने के बाद रेलकर्मी ट्रेक को दुरूस्त करने मौके पर रवाना हो चुके हैं।
बता दें कि केके रेललाइन नक्सलियों के सॉफ्ट टारगेट में रही है। खासकर कमालूर व कुपेर इलाके में माओवादी दर्जनों बार रेलवे ट्रेक को निशाना बना चुके हैं। ऐसी घटनाओं में मालगाड़ियों का परिचालन बंद होने से रेलवे को करोडों का नुकसान उठाना पड़ता है। ताजा घटनाक्रम के बाद बुधवार रात से रेललाइन पर आवागमन ठप है।
Share it
Top