logo
Breaking

चुनाव के बाद अब बदलाव की बयार, भाजपा-कांग्रेस बदल सकते हैं प्रदेश अध्यक्ष

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव 2018 के नतीजे आने के बाद सरकार बदलने के साथ ही राज्य में बदलाव की बयार शुरू हो गई है। राज्य में नए मुख्यमंत्री का नाम तय होने के बाद आने वाले दिनों में कई बड़े पदों पर बदले हुए चेहरे नजर आएंगे। सियासी हल्कों में अब इस बात की चर्चा तेज हो रही है।

चुनाव के बाद अब बदलाव की बयार, भाजपा-कांग्रेस बदल सकते हैं प्रदेश अध्यक्ष

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव 2018 के नतीजे आने के बाद सरकार बदलने के साथ ही राज्य में बदलाव की बयार शुरू हो गई है। राज्य में नए मुख्यमंत्री का नाम तय होने के बाद आने वाले दिनों में कई बड़े पदों पर बदले हुए चेहरे नजर आएंगे। सियासी हल्कों में अब इस बात की चर्चा तेज हो रही है।

राज्य में जिस संभावित बदलाव की सबसे अधिक चर्चा है, उसमें कहा जा रहा है कि प्रदेश में भाजपा की करारी शिकस्त के बाद अब प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक को बदला जा सकता है। वे प्रदेश के उन चुनिंदा भाजपा नेताओं में शामिल हैं, जो कांग्रेस की आंधी के बावजूद अपनी सीट बिल्हा से भारी मतों से जीतकर आए हैं। बदले हुए हालात में उनकी भूमिका भी बदल सकती है।
सूत्रों का कहना है कि हार की समीक्षा होने के बाद प्रदेश अध्यक्ष को बदला जा सकता है। हालांकि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने नतीजे आने के बाद खुद ही हार की जिम्मेदारी ली है। लिहाजा श्री कौशिक को हार के लिए जिम्मेदार नहीं माना जा रहा है।
दूसरी ओर कांग्रेस में भूपेश बघेल पांच साल से प्रदेश अध्यक्ष के रूप में काम कर रहे हैं। अब पार्टी की सत्ता में वापसी के साथ उन्हें मुख्यमंत्री पद का सबसे प्रबल दावेदार माना जा रहा है। अगर वे मुख्यमंत्री चुने गए तो जाहिर है अध्यक्ष का पद उन्हें छोड़ना होगा, यह दायित्व किसी अन्य नेता को मिल सकता है।
नेता प्रतिपक्ष की दौड़ अब भाजपा में
15 साल की सत्ता गंवाने के बाद भाजपा को अब विपक्ष में बैठना है। पार्टी केवल 15 सीटें जीत पाई है। इस विधायक दल का नेता राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष होंगे।
बताया गया है कि भाजपा विधायक दल की बैठक होने के बाद विधायक दल का नेता चुना जाएगा। इस संबंध में विधानसभा सचिवालय को सूचना दी जाएगी।
विधानसभा द्वारा नेता प्रतिपक्ष चयन की घोषणा कर दी जाएगी, लेकिन इससे पहले भाजपा को भी कवायद करनी होगी। दरअसल भाजपा में नेता प्रतिपक्ष पद के भी कई दावेदार हैं। ये कयास ही है कि कोई भी इस पद के लिए चुना जा सकता है।
भाजपा विधायक दल में डॉ. रमन सिंह, ननकी राम कंवर, धरमलाल कौशिक, बृजमोहन अग्रवाल, पुन्नूलाल मोहले, अजय चंद्राकर व शिवरतन शर्मा शामिल हैं।
इनमें में कोई भी इस पद के लिए उपयुक्त हो सकता है, लेकिन नेता प्रतिपक्ष का चयन भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व की सहमति से होगा।
Share it
Top