logo
Breaking

छत्तीसगढ़ चुनाव: 5 हजार बसें लगी चुनाव में, स्कूल प्रबंधन ने जारी किए निर्देश

72 सीटों के लिए होने वाले दूसरे चरण के विधानसभा चुनाव के लिए मतदान दलों और फोर्स के मूवमेंट के लिए बड़े पैमाने पर बसों का अधिग्रहण शुरू हो गया। बताया जा रहा है 5 हजार से हजार बसें अब तब अधिगृहीत की जा चुकी हैं।

छत्तीसगढ़ चुनाव: 5 हजार बसें लगी चुनाव में, स्कूल प्रबंधन ने जारी किए निर्देश

72 सीटों के लिए होने वाले दूसरे चरण के विधानसभा चुनाव के लिए मतदान दलों और फोर्स के मूवमेंट के लिए बड़े पैमाने पर बसों का अधिग्रहण शुरू हो गया। बताया जा रहा है 5 हजार से हजार बसें अब तब अधिगृहीत की जा चुकी हैं। इनमें से 4 हजार यात्री बसें तथा करीब एक हजार स्कूल बसें हैं।

अगले दो-तीन दिन में आधी से ज्यादा स्कूल बसें सरकारी अमले के पास होगी। शहर में स्कूल-कॉलेज और अन्य शैक्षणिक संस्थानों की करीब आठ हजार बसें हैं। 17 से 19 नवंबर तक इन शैक्षणिक संस्थानों की आधी से ज्यादा बसें बच्चों को स्कूल से घर और घरों से स्कूल लाने और छोड़ने के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगी। इसकी सूचना स्कूल प्रबंधन ने पालकों को दे दी है कि वह दो दिन तक स्वयं बच्चों को लाने व ले जाने की व्यवस्था करें।

एक जहां कुछ पालकों ने स्कूल प्रबंधन को लिखित में अपनी असमर्थता जताई है। ज्यादातर ऐसे पालक हैं, जिनमें पति-पत्नी दोनों कामकाजी हैं। उन्होंने साफ तौर पर कह दिया है कि गाड़ी नहीं होने पर वे बच्चों को स्कूल नहीं भेज पाएंगे। वहीं स्कूल प्रबंधन ने भी साफ तौर पर व्यवस्था देने में अपनी भी असमर्थता जता दी है।
राज्य में आठ हजार से ज्यादा यात्री बसें हैं। इनमें से रोड पर रोज करीब 7 हजार बसें चलती हैं। अभी करीब साढ़े 4 हजार बसें कम हो गई हैं। दो-ढाई हजार बसें ही चल रही हैं। आधी से भी कम यात्री बसों के सड़क पर बच जाने से लगभग सभी रूट पर भीड़ काफी बढ़ गई है।
राजधानी आरटीओ पुलक भट्टाचार्य ने कहा है कि यह सही है ​कि बसों की कमी के चलते कुछ दिन के लिए लोगों को काफी असुविधा होने वाली है। लेकिन सप्ताहभर के बाद सारी दिक्कतें दूर हो जाएंगी। राज्यभर की सभी यात्री बसें तथा शैक्षणिक संस्थानों की बसें 23 नंवबर से उपलब्ध हो जाएंगी।
Share it
Top