Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तीरथगढ़ जल प्रपात में अचानक बढ़ा पानी, फंसे 7 पर्यटकों को रेस्क्यू कर सुरक्षित निकाला गया

बस्तर संभाग के तीरथगढ़ जल प्रपात में अचानक पानी बढ़ जाने के कारण वहां घूमने गए 7 पर्यटक फंस गए। जिसके बाद केशलूर एसडीओपी युगलैंडन यार्क ने स्टाफ के साथ मिलकर काफी मशक्कत के बाद वहां से सुरक्षित निकाला।

तीरथगढ़ जल प्रपात में अचानक बढ़ा पानी, फंसे 7 पर्यटकों को रेस्क्यू कर  सुरक्षित निकाला गया

बस्तर संभाग के तीरथगढ़ जल प्रपात में अचानक पानी बढ़ जाने के कारण वहां घूमने गए 7 पर्यटक फंस गए। जिसके बाद केशलूर एसडीओपी युगलैंडन यार्क ने स्टाफ के साथ मिलकर काफी मशक्कत के बाद वहां से सुरक्षित निकाला। बताया जा रहा है सभी पर्यटक रायपुर के रहने वाले हैं। घटना गुुरुवार रात की बतााई जा रही है। बता दें दो साल पहले भी इसी जगह पर जबलपुर से आए 5 पर्यटक फंस गए थे।

गुरुवार देर शाम करीब 7 बजे तीरथगढ़ घूमने गए 7 पर्यटक बाढ़ के पानी में फंस गए। करीब 4 घंटे तक सभी पर्यटक जिंदगी और मौत के बीच जूझते रहे। 3 घंटे काफी मशक्कत करने के बाद जवान पर्यटकों को निकालने में सफल हो पाए। हालांकि इस घटना ने पर्यटन स्थलों पर सुरक्षा की व्यवस्था के दावों की भी पोल खोल दी है।

पर्यटकों के अनुसार शाम सात बजे तक स्थिति आम दिनों के जैसी ही समान्य थी, लेकिन करीब सवा सात बजे अचानक बाढ़ आई। पानी का बहाव इतना तेज था कि 5 मिनट में ही वहां बना पुल डूबने लगा। पर्यटकों को वहां से निकलने का कोई रास्ता नहीं सूझा। इसके बाद जानकारी मिलने पर जवानों ने रेस्क्यू कर सभी को सुरक्षित निकाला।

छत्तीसगढ़ का नियाग्रा कहलाने वाले चित्रकोट जलप्रपात और तीरथगढ़ जल प्रपात के खूबसूरत नजारे को करीब से देखने के लिए हजारों की तादाद में पर्यटक हर साल यहां पहुंचते हैं। देश और विदेशों तक अपनी अलग पहचान रखने वाले बस्तर के जलप्रपात इस समय लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रहे है। मालूम हो कि हर साल देश-विदेश से कई सैलानी बस्तर की खूबसूरती देखने हर साल यहां आते है। बारिश के मौसम में इस नजारे को देख लोगों भी दंग रह जाते हैं।


बस्तर के कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में मुंगेर नाले से उदगम हुए तीरथगढ जलप्रपात इस समय अपने पूरे शबाव पर है। पानी की तेज बहाव वाली धाराएं जहां मन को रोमांचित कर रही हैं। देश और विदेशों तक अपनी अलग पहचान रखने वाले बस्तर के जलप्रपात इस समय लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं। हालांकि कुछ दिन पहले पानी अधिक होने के चलते तीरथगढ़ जलप्रपात में पर्यटकों को जाने से रोक दिया गया था। मालूम हो कि हर साल देश-विदेश से कई सैलानी बस्तर की खूबसूरती देखने हर साल यहां आते है।

Next Story
Share it
Top