Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बालोद में मिले कोरोना के 4 नए मरीज, सबकी ट्रैवल हिस्ट्री रेड जोन मुंबई से, एक्टिव केस-18

बालोद जिले में प्रवासी मजदूरों से कोरोना का संक्रमण का खतरा बढ़ चुका है. जिले में आज 4 नए और मरीज मिलने के बाद संख्या 18 हो चुकी है. सभी का इलाज रायपुर एम्स में चल रहा है. आज मिले 4 नए मरीजों में दो युवक. एक महिला और एक युवती 21 साल की है. इन सभी की ट्रैवल हिस्ट्री भी रेड जोन मुंबई से है.

बालोद में मिले कोरोना के 4 नए मरीज, सबकी ट्रैवल हिस्ट्री रेड जोन मुंबई से, एक्टिव केस-18

बालोद. बालोद जिले में प्रवासी मजदूरों से कोरोना का संक्रमण का खतरा बढ़ चुका है. जिले में आज 4 नए और मरीज मिलने के बाद संख्या 18 हो चुकी है. सभी का इलाज रायपुर एम्स में चल रहा है. आज मिले 4 नए मरीजों में दो युवक. एक महिला और एक युवती 21 साल की है. इन सभी की ट्रैवल हिस्ट्री भी रेड जोन मुंबई से है.

आपको बता दें कि डौंडीलोहारा ब्लॉक जो रेड जोन घोषित हो चुका है. ब्लाक के ग्राम जूनापानी से एक युवक कोरोना पॉजिटिव आया. वही ग्राम जेवरतला से एक महिला कोरोना संक्रमित है. महिला वर्तमान डौंडीलोहारा के जनपद सदस्य राजेश साहू की पत्नी है. जो मुंबई से अपने परिवार सहित आई थी और वर्तमान में स्कूल में क्वारनटाईन थी. वही गुंडरदेही ब्लॉक जो ग्रीन जोन था. अब वह ऑरेंज और की ओर बढ़ चुका है.

जहां गुंडरदेही ब्लॉक के ग्राम कंलगपुर में 21 साल की एक युवती और कजराबाँधा में 36 साल का एक युवक कोरोना पॉजिटिव आया. जिनकी ट्रेवल्स हिस्ट्री मुंबई है. वहीं इनके संपर्क हिस्ट्री को निकाल कर इन्हें एस्म भेजा गया. बालोद जिले में कुल एक्टिव केस 18 हो गए हैं. ऐसे में जिला प्रशासन सतर्कता और निगरानी बढ़ा दी है. आपको बता दें कि बालोद जिले में 1455 क्वारनटाइन सेंटर बनाए गए हैं. गांव के स्कूल या सामुदायिक भवन में जहां 5 हजार से अधिक प्रवासी मजदूर हैं. वही अभी कई मजदूरों का सैंपल टेस्ट आना बाकी है.

आज जो 4 कोरोना संक्रामितो आये उनका सैंपल 17 मई को एम्स गया था जो आज 22 मई को रिपोर्ट आया है. मामले में कलेक्टर रानू साहू ने कहा कि बालोद जिला पूरी तरह सुरक्षित है. जो भी कोरोना संक्रमित आ रहे हैं वह बाहर से आए मजदूर ही हैं. अधिकतर मुंबई से आये मजदूर है. बालोद जिले में इसे फैलने नहीं दिया जाएगा और पूरी तरह बालोद को सुरक्षित रखा जाएगा. कोरोना पॉजिटिव आये ये सभी मजदूर क्वारेंटाइन सेंटरों में थे.

Next Story
Top