Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हॉस्पिटल में नौकरी लगाने के नाम पर 125 लोगों से 16 करोड़ की ठगी, आरोपी गिरफ्तार

आरोपी अस्पताल का संचालक होने के साथ ही वर्ल्ड वेल्थ हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन संस्था का चेयरमैन भी है। जिसने अपने एक अन्य साथी के साथ मिलकर करीब 125 लोगों से तकरीबन 16 करोड़ रुपए ठगे। ठगी के पैसों से आरोपी ने चिकित्सा के महंगे उपकरण खरीदीे थे। फिलहाल आरोपी के खिलाफ जरुरी कार्रवाई कर रही है।

हॉस्पिटल में नौकरी लगाने के नाम पर 125 लोगों से 16 करोड़ की ठगी, आरोपी गिरफ्तार

कोरबा. उरगा में संचालित श्री हाॅस्पीटल में नौकरी लगाने के नाम पर करोड़ों रुपयों की ठगी करने वाले आरोपी को पुलिस ने छपरा से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी को कोरबा में लाकर प्रेस वार्ता के माध्यम से पुलिसे ने पूरे मामले की विस्तार से जानकारी दी। आरोपी अस्पताल का संचालक होने के साथ ही वर्ल्ड वेल्थ हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन संस्था का चेयरमैन भी है। जिसने अपने एक अन्य साथी के साथ मिलकर करीब 125 लोगों से तकरीबन 16 करोड़ रुपए ठगे। ठगी के पैसों से आरोपी ने चिकित्सा के महंगे उपकरण खरीदीे थे। फिलहाल आरोपी के खिलाफ जरुरी कार्रवाई कर रही है।

नौकरी की तलाश में दर दर की ठोंकरे खाने वाले युवाओं को बेहतर रोजगार देने का लालच देकर रुपयों की ठगी करने के मामले में पुलिस ने एक शातिर ठग को बिहार के छपरा से गिरफ्तार किया है। आरोपी का नाम वासुदेव गुप्ता है,जो वर्ल्ड वेल्थ हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन संस्था का चेयरमेन है। जिसने उरगा में संचालित श्री हाॅस्पीट के संचालक चंद्रशेखर पांडेय के साथ मिलकर अस्पताल में नौकरी लगाने के नाम करोड़ों रुपयों की ठगी है। जनवरी 2019 में अस्पताल प्रबंधन ने श्री हाॅस्पीटल उरगा में रिक्त 970 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन निकाला था।

नौकरी के लिए आवेदन करने वाले युवाओं से 70 हजार रुपयों की सिक्योरिट मनी भी जमा करा ली गई। परीक्षा का आयोजन कर योग्य उम्मीदवारों का चयन तो कर लिया गया लेकिन उन्हें नौकरी नहीं दी गई। इतना ही नहीं सिक्योरिटी राशि को मांगने पर आना कानी की जाती थी। पैसों के लिए चक्कर काटने के बाद भी जब सफलता हाथ नहीं लगी तब पंडित रविशंकर शुक्ल नगर में रहने वाली महिला रेहाना खान ने पुलिस से शिकायत कर दी जिसने अपने तीन बच्चों के नौकरी के लिए दो लाख 10 हजार रुपए सिक्योरिटी मनी जमा कराई थी। महिला की शिकायत पर पुलिस ने आरोपियों की खोजबीन की और बिहार के छपरा जिले से मुख्य आरोपी को पकड़ लिया। पुलिस ने बताया,कि आरोपियों ने लगभग 125 लोगों से 16 करोड़ रुपयों की ठगी की है जिसके पैसों से उसने महंगे चिकित्सा उपकरणों की खरीदी की थी। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 420 के तहत कार्रवाई करते हुए दोनों को न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। वहीं मामला सामने आने के बाद उरगा में संचालित श्री अस्पताल को सील कर दिया गया है।

Next Story
Top