logo
Breaking

नाबालिग से किया दुष्कर्म, कोर्ट ने दी दस साल की सजा

मंदिर हसौद की 15 वर्षीय किशोरी से दुष्कर्म के आरोप में रायपुर कोर्ट में गुरुवार को एक आरोपी को 10 वर्ष सश्रम कारावास की सजा हुई है। साथ ही 2000 रुपए जुर्माना भी देना होगा।

नाबालिग से किया दुष्कर्म, कोर्ट ने दी दस साल की सजा

मंदिर हसौद की 15 वर्षीय किशोरी से दुष्कर्म के आरोप में रायपुर कोर्ट में गुरुवार को एक आरोपी को 10 वर्ष सश्रम कारावास की सजा हुई है। साथ ही 2000 रुपए जुर्माना भी देना होगा। आरोपी किशोरी को शादी का झांसा देकर साथ लेकर भागा था। पुलिस ने 6 माह बाद पीड़िता को आरोपी के कब्जे से बरामद किया।

विशेष लोक अभियोजक गाजेंद्र सोनकर ने बताया कि आरोपी बल्ला चेलक (24) ग्राम मुरैठी, थाना मंदिरहसौद, जिला रायपुर का निवासी है। उसने 11 जुलाई 2016 को 15 वर्षीय किशोरी को उनके परिजनों की अनुमति के बगैर साथ लेकर भाग गया। घटना सुबह साढ़े 9 बजे की है, किशोरी शौच के लिए अपने घर से निकली थी। आरोपी उसे अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर भाग निकला। परिजनों की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।
बाद में विवेचना के दौरान 8 दिसंबर 2016 को पुलिस ने आरोपी के कब्जे से उसे बरामद किया। आरोपी की गिरफ्तारी के बाद पाक्सो की स्पेेशल जज नाइंथ एडीजे तजेश्वरी देवी देवांगन की कोर्ट में मामला चला। दोनों पक्षाें को सुनने के बाद एडीजे श्रीमती देवांगन ने आरोपी को दोषी करार देते हुए विभिन्न धाराओं की सजा सुनाई। इसमें आईपीसी की धारा 363 के तहत 3 वर्ष सश्रम कारावास व 500 रुपए जुर्माना, आईपीसी की धारा 366 के तहत 5 वर्ष सश्रम कारावास व 500 रुपए जुर्माना तथा पाक्सो की धारा 6 के तहत 10 वर्ष कारावास व 1000 रुपए जुर्माने की सजा शामिल है।
Share it
Top