Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लोकसभा चुनाव के दौरान सफल रहा सी-टाप्स एप्लीकेशन, भारत निर्वाचन आयोग ने की तारीफ - सुब्रत साहू

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने कहा है कि प्रदेश में निर्वाचन के दौरान मतदान दलों की हर पल की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सी- टाप्स यानी छत्तीसगढ़ – ट्रेकिंग ऑफ पोलिंग प्रोसेस साफ्टवेयर एप्लीकेशन काफी कारगर साबित हुआ है।

लोकसभा चुनाव के दौरान सफल रहा सी-टाप्स एप्लीकेशन, भारत निर्वाचन आयोग ने की तारीफ - सुब्रत साहू

रायपुर। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने कहा है कि प्रदेश में निर्वाचन के दौरान मतदान दलों की हर पल की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सी- टाप्स यानी छत्तीसगढ़ – ट्रेकिंग ऑफ पोलिंग प्रोसेस साफ्टवेयर एप्लीकेशन काफी कारगर साबित हुआ है। विधानसभा निर्वाचन की तरह ही लोकसभा निर्वाचन के तीनों चरणों में इसकी सहायता से मतदान दलों की रवानगी से लेकर मतदान स्थल पहुँचने, मतदान केन्द्र से मतदान के संबंध में निश्चित अंतराल में रिपोर्टिंग तथा दलों की मतगणना केन्द्र वापसी तक की जानकारियाँ लगातार मिलती रहीं, जो इस एप्लीकेशन की सफलता को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि एप्लीकेशन की उपयोगिता और सफलता को देखते हुए भारत निर्वाचन आयोग ने इसकी सराहना की है। Also

साहू ने इस बात से इंकार किया है कि सी-टाप्स एप्लीकेशन का प्रयोग विफल रहा है। उन्होंने कहा कि रायपुर समेत पूरे प्रदेश में भी लोकसभा निर्वाचन के दौरान सी-टाप्स एप का उपयोग किया गया। इस दौरान कुछ पीठासीन अधिकारी सी-टाप्स एप्लीकेशन में जानकारी समय पर फीड नहीं कर पाए। उन पीठासीन अधिकारियों को बुलाकर डाटा फीड कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि लोकसभा निर्वाचन 2019 के तृतीय चरण में रायपुर जिले में कुल 1,865 मतदान केन्द्रों के मतदान दलों में से 1,422 मतदान केन्द्र के पीठासीन अधिकारियों ने mobile app में मतदान संबंधी वास्तविक गतिविधियों की प्रविष्टि C-TOPPS Aplication में कर दी थी , शेष 443 की ही जानकारी दर्ज नहीं हो पाई थी उन्हें बुलाकर जानकारी दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं।

प्रदेश में तीसरे चरण के मतदान में शामिल 14 जिलों के 15,408 मतदान केन्द्रों में से कुल 11,138 मतदान केन्द्रों से मतदान दिवस में ली जाने वाली प्रत्येक 02-02 घंटे की रिपोर्ट सतत् रूप से प्राप्त हो रही थी, जो इस Application के तकनीकी रूप से सफलतापूर्वक कार्य करने का प्रमाण है। इस दौरान सूरजपुर, बलरामपुर, रायगढ़, जशपुर, कोरिया, बिलासपुर, मुंगेली, दुर्ग, बेमेतरा एवं बलौदाबाजार जिलों के 95 प्रतिशत से अधिक पीठासीन अधिकारियों द्वारा C-TOPPS Aplication में चाही गई जानकारियाँ दर्ज कर दी गई थीं। साहू ने बताया कि तीसरे चरण में केवल कुछ ही पीठासीन अधिकारी जिनके द्वारा समय पर प्रविष्टियाँ नहीं की गई थीं, उनसे वांछित प्रविष्टियां आज 28 अप्रैल तक करा लिए जाने के निर्देश सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को दिए हैं।

छत्तीसगढ़ प्रदेश में विकसित मोबाइल एप्लीकेशन C-TOPPS में सभी पीठासीन अधिकारियों, रूट अधिकारियों और सेक्टर अधिकारियों के मोबाईल नंबर उपलब्ध थे, जिसका उपयोग आवश्यकतानुसार संपर्क करने में किया गया, इस महत्वपूर्ण Aplication की उपयोगिता को सार्थक करता है। छत्तीसगढ़ इंफोटेक सोसाइटी (चिप्स) द्वारा तैयार इस एप का विमोचन तत्कालीन मुख्य निर्वाचन आयुक्तओम प्रकाश रावत ने एक नवंबर 2018 को किया था। इस मोबाइल एप का उपयोग विधानसभा निर्वाचन -2018 के दौरान भी प्रदेश में सफलतापूर्वक किया गया था। C-TOPPS Aplication में उपलब्ध ट्रैकिंग सुविधा का उपयोग कर मतदान अधिकारी आसानी से अपने गंतव्य तक पहुंच पाए । इस Aplication ने Real time में मतदान दलों के मतदान केन्द्र में पहुंचने के साथ ही मतदान पश्चात् सामग्री वापसी केन्द्र में पहुंचने की जानकारी संबंधित आर.ओ. डी.ई.ओ. एवं सी.ई.ओ. छ.ग. राज्य को उपलब्ध कराया।

Share it
Top