Top

"गांधी टोपी लगाकर अन्ना हजारे ने जनता के भरोसे को तोड़ने का काम किया"

हरिभूमि ब्यूरो/ रायपुर | UPDATED Oct 4 2017 12:38AM IST

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे की यात्रा से पहले ही प्रदेश की सियासत गर्म होती नजर आ रही है। प्रदेश के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जहां उन्हें छत्तीसगढ़ के भ्रष्ट अफसरों के संबंध में पुलिंदे साैंपने की तैयारी की है, वहीं कांग्रेस ने पूछा है कि इन मामलों पर भी क्या वे सत्याग्रह करेंगे? 

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा, अन्ना हजारे छत्तीसगढ़ में व्याप्त भ्रष्टाचार, कमीशनखोरी, भ्रष्ट अफसरशाही के खिलाफ आंदोलन करेंगे। 

उन्होंने कहा, नागरिक आपूर्ति निगम में 35 हजार करोड़ का घोटाला, लोकनिर्माण, स्वास्थ्य, शिक्षा समेत सैकड़ों भ्रष्टाचार के आरोप इस राज्य सरकार पर हैं। इनके खिलाफ भी आंदोलन करना चाहिए। 

उन्होंने कहा, अन्ना हजारे समाजिक कार्यकर्ता होने का दिखावा करते हैं। जिस जनलोकपाल बिल के नाम पर संघ-भाजपा के सहयोगी बनकर यूपीए सरकार के खिलाफ जंतर-मंतर में अनशन किया, सत्ता परिर्वतन के 3 साल बाद भी उस मुद्दे पर कोई आवाज उठाने की जहमत तक नहीं की। 

भाजपा अन्ना हजारे के लोकपाल बिल का समर्थन करती रही, लेकिन तीन वर्षों से अधिक समय बीत जाने के बाद ना अन्ना हजारे को जनलोकपाल याद रहा, ना झूठे वायदे कर सत्ता पर काबिज प्रधानमंत्री और भाजपा को ही इसकी याद आई। दरअसल अन्ना हजारे ने गांधी टोपी लगाकर जनता के भरोसे को तोड़ने का कार्य किया है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
anna hazare satyagrah in chhattisgarh

-Tags:#Anna Hazare#Congress#Satyagrah#
mansoon
mansoon
mansoon

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo