logo
Breaking

आप 12वीं पास के बाद इन कोर्सों में ले सकते हैं एडमिशन, बेहतर होगा करियर

अधिकतर छात्रों को अपने करियर की फिल्ड चुनने में दिक्कत होती है। छात्रों को अपनी रुचि के अनुसार फिल्ड चुनना चाहिए।

आप 12वीं पास के बाद इन कोर्सों में ले सकते हैं एडमिशन, बेहतर होगा करियर

अधिकतर छात्रों को अपने करियर की फिल्ड चुनने में दिक्कत होती है। छात्रों को अपनी रुचि के अनुसार फिल्ड चुनना चाहिए। यदि आपकी रुचि मेडिकल क्षेत्र में है तो हमारे करियर एडवाइजर ज्ञान प्रकाश आपको सुझाव देंगे की आपका कौनसे कोर्स करने से आपको बेहतर हो सकते है।

मैं बॉयो ग्रुप से इंटर में पढ़ रही हूं। मैं यह जानना चाहती हूं कि करियर के लिहाज से बीएससी नर्सिंग या बीफार्मा में से क्या करना ज्यादा ठीक रहेगा? कृपया दुविधा का समाधान करें -आश्मीन सिन्हा

अच्छे करियर की संभावना तो दोनों में है, लेकिन बीएससी नर्सिंग की तुलना में बीफार्मा का स्कोप कहीं अधिक है। नर्सिंग कोर्स करने के बाद आप सरकारी या निजी हॉस्पिटल्स में काम पा सकती हैं, जबकि फार्मा कोर्स करने के बाद हॉस्पिटल्स के अलावा मेडिसिन मैन्यु्फेक्चरिंग कंपनियों में विभिन्न पदों (जैसे-रिसर्च, मार्केटिंग-सेल्स, एनालिसिस आदि) पर काम करने का विकल्प होता है।

और उच्च योग्यता हासिल करने के बाद आप औषधि निर्माता कंपनियों में हायर पोस्ट पर जॉब पा सकती हैं। इसके अलावा, केंद्र और राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग, हॉस्पिटल्स में भी अच्छा अवसर मिल सकता है।

यह भी पढ़ेंः Career Advice: डिजास्टर मैनेजमेंट कोर्स में बनाएं अपना करियर, दोनों सेक्टरों में बढ़ रही है मांग

मैंने पढ़ा है कि अब साल में दो बार नीट का एग्जाम होगा। तो क्या एक ही साल में दो बाद एडमिशन लेने का मौका मिलेगा? इसके बारे में विस्तार से बताएं कि अब क्या नियम होंगे? -जान्हवी, भोपाल

भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक अलग एजेंसी के जरिए अगले सत्र से नीट और जेईई को साल में दो बार आयोजित कराने की बात तो कही है, लेकिन ऐसा सिर्फ स्टूडेंट्स की सुविधा को ध्यान में रखकर किया जा रहा है ताकि जो स्टूडेंट बोर्ड एग्जाम की पढ़ाई के प्रेशर में अप्रैल/मई में इस एग्जाम में शामिल न हो सकें, वे सितंबर/अक्टूबर में दोबारा होने वाली परीक्षा में शामिल हो सकें।

दो बार एडमिशन मिलने के बारे में सरकार या किसी सरकारी एजेंसी द्वारा अभी कुछ भी नहीं कहा गया है। ऐसे में इस बात की कम ही संभावना है कि दो बार के एग्जाम के आधार पर दो बार एडमिशन का मौका मिले।

मैंने एमए हिस्ट्री से करने के बाद स्लेट क्लीयर किया है। मैं यह जानना चाहता हूं कि क्या इस आधार पर मैं दूसरे प्रदेशों के कॉलेजों/विश्वविद्यालयों में भी असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए अप्लाई कर सकता हूं या फिर मुझे नेट भी क्लीयर करना होगा? -अतुल सिंह, फरीदाबाद

स्लेट/सेट के आधार पर आप केवल उसी राज्य में अप्लाई कर सकते हैं, जिस राज्य में आपने इस टेस्ट को क्वालिफाई किया है। अन्य राज्यों के कॉलेजों में आवेदन के लिए आपको यूजीसी-नेट क्वालिफाई करना होगा।

दरअसल, स्लेट की सुविधा राज्यों के अभ्यर्थियों को सहयोग करने के लिए ही शुरू की गई थी। बेहतर होगा कि आप नेट की तैयारी करके उसे क्लीयर करने का प्रयास करें। इसमें कोई मुश्किल नहीं आएगी।

यह भी पढ़ेंः Career Advice: अगर आपको भी बनना है 'एनएसजी कमांडो', इस तरह से करें तैयारी

मैं बैंक सर्विस की तैयारी कर रहा हूं। मैं यह जानना चाहता हूं कि क्या रीजनल रूरल बैंक में वही वेतन और भत्ते मिलते हैं, जो नेशनलाइज्ड बैंक में मिलते हैं या इसमें कुछ अलग नियम होता है? -छत्रसाल

रीजनल रूरल बैंक (आरआरबी) में नेशनलाइज्ड बैंकों की तुलना में थोड़ी कम सैलरी मिलती है। हालांकि यह अंतर ज्यादा नहीं होता। उदाहरण के लिए आईबीपीएस से सेलेक्ट होने वाले आरआरबी स्केल वन ऑफिसर की स्टार्टिंग में इनहैंड सैलरी जहां करीब 30 हजार से 35 हजार के बीच (पेस्केल 14500-25700 के तहत भतों और एचआरए लेकर) होती है, वहीं आईबीपीएस पीओ की ग्रॉस सैलरी करीब 38703 (पेस्केल 23700 के तहत) होती है।

Share it
Top