Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय इस क्षेत्र में होगा देश का पहला विश्वविद्यालय

शारीरिक शिक्षा में डिग्री व डिप्लोमा देने के बाद पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय अब स्पोर्ट्स कोचिंग में भी डिप्लोमा कोर्स शुरू करने की तैयारी में है।

पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय इस क्षेत्र में होगा देश का पहला विश्वविद्यालय

शारीरिक शिक्षा में डिग्री व डिप्लोमा देने के बाद पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय अब स्पोर्ट्स कोचिंग में भी डिप्लोमा कोर्स शुरू करने की तैयारी में है। रविवि ऐसा करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय बन जाएगा। प्रदेश में अब तक किसी भी विश्वविद्यालय में स्पोर्ट्स कोच के लिए किसी तरह के प्रशिक्षण या कोर्स की व्यवस्था नहीं है।

विभिन्न खेलों के कोच के लिए स्पेशल डिप्लोमा व डिग्री कोर्स शुरू होने का फायदा स्थानीय छात्रों को मिलेगा एवं खेलों के विशेषज्ञ कोर्स प्रदेश को मिल सकेंगे। अब तक प्रदेश के विश्वविद्यालयों में बीपीएड व एमपीएड ही संचालित होते रहे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार देश में पटियाला एनएएस, ग्वालियर एलएनआईपीसी, स्वर्णिम गुजरात व तमिलनाडु स्पोर्ट्स युनिवर्सिटी सहित गिनती के ही संस्थानों में ही यह कोर्स संचालित हैं।

रविवि अगले शैक्षणिक सत्र से इसे शुरू करने की तैयारी में है। यदि वक्त पर मसौदा तैयार हो जाता है, तो इसे शैक्षणिक सत्र 2018-19 में ही इन कोर्स में प्रवेश प्रारंभ हो जाएंगे। इसके लिए इन विश्वविद्यालयों से सिलेबस, प्रवेश प्रक्रिया एवं कोर्स संबंधित अन्य जानकारियां मांगी गई हैं।

यह भी पढ़ेंः खुशखबरी: इंजीनियरिंग छात्रों के लिए प्रारम्भ होगा स्टार्टअप कोर्स

सिलेबस के अध्ययन के बाद फैसला

सर्टिफिकेट कोर्स इन स्पोर्ट्स कोचिंग एवं पोस्ट ग्रेज्यूएट डिप्लोमा इन स्पोर्ट्स कोचिंग ये दो कोर्स शुरू किए जाएंगे। पोस्ट ग्रेज्यूएट डिप्लोमा इन स्पोर्ट्स कोचिंग की अवधि एक वर्ष की होगी।

छात्र इसे अधिकतम दो वर्षों में उत्तीर्ण कर सकेंगे। सर्टिफिकेट कोर्स इन स्पोर्ट्स कोचिंग की अवधि 3 से 6 महीने की होगी। इन कोर्स के लिए सीटों की संख्या अभी निर्धारित नहीं की गई है।

दोनों कोर्स में 20 से 30 सीटें संभावित हैं। देश की दूसरी विश्वविद्यालयों में पढ़ाए जा रहे सिलेबस का अध्ययन किया जा रहा है। इसके बार रविवि के लिए कोर्स निर्धारित होगा।

यह भी पढ़ेंः खुशखबरी: अब विद्यार्थियों को JEE में रैंक के आधार पर मिलेगी छात्रवृत्ति

राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी होना आवश्यक

सर्टिफिकेट एवं डिप्लोमा दोनों ही कोर्स में प्रवेश आसान नहीं होगा। इसमें प्रवेश पाने के इच्छुक छात्रों के लिए राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी होना अनिवार्य है। इन सीटों पर एडमिशन के लिए प्रवेश परीक्षा होगी। मेरिट के आधार पर सीट अलॉट होगी।

महिलाओं के लिए सीटें आरक्षित करने पर भी विचार हो रहा है। इसमें क्रिकेट, फूटबॉल, स्विमिंग, हैंडबॉल, वॉलीबॉल सहित अन्य खेल शामिल रहेंगे। जिन खेल का चुनाव किया जाएगा, उसकी स्पेशिफिकेशन जानकारियां डिप्लोमा एवं सर्टिफिकेट कोर्स के अंतर्गत छात्रों को दी जाएंगी।यह अभी प्रक्रियाधीन है।

Next Story
Top