logo
Breaking

JEE एडवांस की ऑनलाइन परीक्षा आज, 30 फीसदी छात्रों ने किया ड्रॉप आउट

जेईई एडवांस का आयोजन 20 मई को किया जाएगा। इसके लिए रायपुर में तीन परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। जेईई एडवांस परीक्षा का आयोजन आईआईटी कानपुर करा रहा है।

JEE एडवांस की ऑनलाइन परीक्षा आज, 30 फीसदी छात्रों ने किया ड्रॉप आउट

जेईई एडवांस का आयोजन 20 मई को किया जाएगा। इसके लिए रायपुर में तीन परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। जेईई एडवांस परीक्षा का आयोजन आईआईटी कानपुर करा रहा है।

सरोना स्थित आईओएन डिजिटल सेंटर में दो व रुंगटा कॉलेज में एक सेंटर बनाया गया है। इन केंद्राें में सुरक्षा के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। यह परीक्षा कंप्यूटर आधारित परीक्षण (सीबीटी) प्रणाली के तहत होगी।

इस बार जेईई एडवांस केवल ऑनलाइन मोड में आयोजित की जा रही है। जबकि जेईई मेन ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही मोड में हुई थी।

यह भी पढ़ेंः दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी में नौकरी पाने का सुनहरा मौका, सैलरी होगी बेहतरीन

गौरतलब है, जेईई मेन परीक्षा 2018 में निर्णायक अंक प्राप्त कर टॉप 2 लाख 24 हजार छात्रों में शामिल होने वाले अभ्यर्थी जेईई एडवांस 2018 के लिए पात्र घोषित किए गए थे।

परिणाम घोषित होने के बाद 2 मई से आवेदन प्रारंभ हुए थे। छात्रों को आवेदन करने 7 मई का वक्त दिया गया था। परीक्षा दो पाली में सुबह 9 से 12 बजे और दोपहर 2 से 5 बजे तक होगी।

यह भी पढ़ेंः खुशखबरीः IGNOU का कैंपस प्लेसमेंट अभियान 18 मई से होगा शुरु, ये कंपनियां देंगी नौकरियां

10 जून को परिणाम

जेईई एडवांस परीक्षा देने वाले छात्रों को 25 मई को उत्तर की कॉपी मिल जाएगी। इसके बाद 29 मई को परीक्षा की सही उत्तर कुंजी जेईई एडवांस की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी की जाएगी।

इसके बाद छात्र अपने संभावित प्राप्तांकों का अनुमान लगा पाएंगे। 10 जून 2018 को छात्रों का आधिकारिक परिणाम परिणाम रैंक के साथ जारी होगा।

इसके बाद नेशनल इंस्टिट्यूट्स में प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ होगी। इसके लिए प्रवेश पत्र 14 मई को जेईई की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी कर दिए गए थे। प्रवेश पत्र में किसी प्रकार की त्रुटि होने पर छात्रों को संपर्क करने कहा गया था।

यह भी पढ़ेंः खुशखबरीः IGNOU का कैंपस प्लेसमेंट अभियान 18 मई से होगा शुरु, ये कंपनियां देंगी नौकरियां

पहली बार 30 प्रतिशत ड्रॉप आउट

जेईई एडवांस के लिए क्लालिफाई करने वाले 2 लाख 24 हजार छात्रों में से 30 प्रतिशत छात्रों ने इसके लिए आवेदन ही नहीं किया है। ऐसा पहली बार है जब इतनी बड़ी संख्या में छात्रों ने ड्रॉप आउट किया हो।

इस बार जेईई मेंस का कट ऑफ भी पिछले साल की तुलना में काफी कम गया था। छात्रों की संख्या और परफॉर्मेंस को देखते हुए इस बार एडवांस में भी प्रतिस्पर्धा कम होने की बात कही जा रही है।

Share it
Top