Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

छत्तीसगढ़ PSC का बुरा हाल, एक लाख में से 300 भी नहीं कर पा रहे हैं एग्जाम पास

पीएससी में 23 फीसदी अंक भी हासिल नहीं कर पा रहे हैं परीक्षार्थी

छत्तीसगढ़ PSC का बुरा हाल, एक लाख में से 300 भी नहीं कर पा रहे हैं एग्जाम पास
बिलासपुर. छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षाओं में हर साल करीब एक लाख परीक्षार्थी बैठते हैं और पद रहते हैं 300। इसके बाद भी हालत यह है कि पिछले पांच सालों से पीएससी के पूरे पद नहीं भरे जा रहे हैं। परीक्षार्थी 23 फीसदी अंक भी हासिल नहीं कर पाते हैं। यह खुलासा स्वयं आयोग के परीक्षा नियंत्रक द्वारा जारी पत्र से हुआ है।
परीक्षा नियंत्रक के अनुसार आयोग को अहर्ता प्राप्त उम्मीदवार नहीं मिल रहे हैं, इसलिए पद रिक्त रखे जा रहे हैं। आलम यह है कि पीएससी 2015 में 352 में से 341 पद ही भरे जा सके। यही हालत पीएससी 2014 में रही जिसमें 325 में से 309 और पीएससी 2013 में 169 में से 165 पद ही भरे जा सके हैं। पीएससी जैसी प्रतिष्ठित परीक्षा में पद खाली रहने के मामले 8शेष पेज 07 पर में अब सवाल खड़ा हो गया है कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित राज्य सेवा परीक्षाओं को सबसे प्रतिष्ठित माना जाता है। इसमें चयन को लेकर परीक्षार्थी दिन-रात एक करते हैं। इस बीच पीएससी के परीक्षा नियंत्रक के पत्र ने बवाल मचाने वाला काम किया है।
परीक्षा नियंत्रक ने बकायदा पत्र जारी कर यह कहा है कि पिछले कुछ सालों से पीएससी को योग्य उम्मीदवार नहीं मिल रहें इसलिए कई पद खाली जा रहें हैं और ऐसा पिछले पांच सालों से हो रहा है। 23 प्रतिशत अंक तक के योग्य नहीं छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा परीक्षाओं में चयन के लिए न्यूनतम प्राप्तांक 23 प्रतिशत रखा गया है।
जानकारों के मुताबिक एससी-एसटी, दिव्यांग, एक्स सर्विसमैन वर्ग के उम्मीदवार इस 23 प्रतिशत अंक भी प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं और इन्हीं वर्ग के पद हर साल खाली जा रहे हैं। हालांकि पीएससी ने अपने पत्र में यह उल्लेख नहीं किया है कि किस वर्ग के पद खाली रह गए हैं। उम्मीदवार नहीं मिलते पीएससी का चयन वर्गवार किया जाता है। कई वर्गों में अर्ह उम्मीदवार नहीं मिलते हैं इसलिए पद खाली रखना होता है। हालांकि परीक्षा नियंत्रक इस बारे में और बेहतर बता सकते हैं।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top