logo
Breaking

सीबीएसई इस वजह से स्कूल टीचर्स को देगा विशेष प्रशिक्षण

सीबीएसई बोर्ड ने सेंटर फॉर एक्सिलेंस की शुरुआत की हैं।

सीबीएसई इस वजह से स्कूल टीचर्स को देगा विशेष प्रशिक्षण

स्कूलों में पढ़ाई का स्तर सुधारने और शिक्षकों को लेटेस्ट तकनीक से परिचित कराने सीबीएसई स्कूल टीचर्स के लिए विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू कर रहा है। अध्ययन-अध्यापन के स्तर को सुधारने सीबीएसई द्वारा कई प्रयास किए जा रहे हैं।

इसी कड़ी में यह फैसला लिया गया है।इसके लिए बोर्ड ने सेंटर फॉर एक्सिलेंस की शुरुआत भी की है। सीबीएसई ने सात साल बाद फिर दसवीं में बोर्ड एग्जाम के नियम लागू कर दिए हैं।

इन बदलावों के कारण ही शिक्षकों को विशेष ट्रेनिंग की सुविधा दी गई है। इसके लिए सीबीएसई ने दिसंबर 2017 से मार्च 2018 तक का ट्रेनिंग शेड्यूल भी जारी कर दिया है।

सीबीएसई का मानना है कि इस तरह की ट्रेनिंग से टीचर्स का अपडेशन होता है, जिससे टीचिंग की नई टेक्नोलॉजी की जानकारी मिलती है।

यह ट्रेनिंग एक अहम रोल प्ले करती है। इससे जहां टीचर्स को पढ़ाने के नए तरीके को समझने का मौका मिलता है, वहीं बच्चों को भी नई तकनीक द्वारा सीखने का अवसर प्राप्त होता है।

यह भी पढ़ेंः खुशखबरी: नए साल में पुलिस विभाग करेगा इतने पदों पर भर्ती।

बताई जाएगी यूनिक टेक्निक

आजकल क्लासरूम में जो सब्जेक्ट या टॉपिक्स पढ़ाए जाते हैं, उनके बारे में स्टूडेंट पहले ही इंटरनेट या कोचिंग में पढ़ चुके होते हैं। ऐसे में ट्रेनिंग के जरिए टीचर्स को सब्जेक्ट या टॉपिक को समझाने की यूनिक टेक्निक बताई जाती है।

इसके जरिए स्टूडेंट्स पहले से पढ़ चुके टॉपिक को भी नए सिरे से समझ सकते हैं। बच्चों का ध्यान सब्जेक्ट पर फोकस करवाना टीचर्स के लिए बहुत मुश्किल होता है।

क्लास का एनालिसिस इस तरह से करना होता है, जिससे बच्चों का फोकस सब्जेक्ट पर बना रहे। इस तकनीक पर भी ट्रेनिंग में बहुत काम होता है।

यह भी पढ़ेंः खुशखबरी: इस साल IT सेक्टर में है भरपूर नौकरियां, इन वजहों से बढ़ी है रोजगार की संभावनाए

ये विषय हैं शामिल

इस तरह की ट्रेनिंग में हिंदी, अंग्रेजी और मैथेमेटिक्स जैसे बेसिक सब्जेक्ट्स सहित इस ट्रेनिंग शेड्यूल में क्लासरूम मैनेजमेंट, करियर गाइडेंस, लाइफ स्किल्स, स्ट्रेस मैनेजमेंट, रीमॉडल्ड स्ट्रक्चर ऑफ एसेसमेंट, इंक्लूजन एंड इंक्लूजिव स्ट्रेटजी, जेंडर सेंस्टिविटी और आईटी जैसे विषय शमिल किए गए हैं।

प्रशिक्षण के इच्छुक शिक्षक सीबीएसई की अाधिकारिक वेबसाइट के जरिए संपर्क कर सकते हैं।

Share it
Top