logo
Breaking

CBSE NET 2018: जानिए एग्जाम का पूरा पैटर्न, हम दे रहे हैं यूजफुल इंफॉर्मेंशंस

सीबीएसई ने जेआरएफ और असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए होने वाले यूजीसी नेट का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। आवेदन की ऑनलाइन प्रक्रिया 6 मार्च से शुरू हो चुकी है। आवेदन की अंतिम तिथि 5 अप्रैल, 2018 है। परीक्षा 08 जुलाई, 2018 को होगी। क्या है इस एग्जाम का पैटर्न और कैसे करें इसकी बेहतर तैयारी, इस बारे में हम दे रहे हैं आपके लिए बहुत यूजफुल इंफॉर्मेंशंस।

CBSE NET 2018: जानिए एग्जाम का पूरा पैटर्न, हम दे रहे हैं यूजफुल इंफॉर्मेंशंस

सीबीएसई ने जेआरएफ और असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए होने वाले यूजीसी नेट का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। आवेदन की ऑनलाइन प्रक्रिया 6 मार्च से शुरू हो चुकी है। आवेदन की अंतिम तिथि 5 अप्रैल, 2018 है। परीक्षा 08 जुलाई, 2018 को होगी।

क्या है इस एग्जाम का पैटर्न और कैसे करें इसकी बेहतर तैयारी, इस बारे में हम दे रहे हैं आपके लिए बहुत यूजफुल इंफॉर्मेंशंस-

जेआरएफ (जूनियर रिसर्च फैलोशिप) हासिल करने और असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए होने वाले यूजीसी नेट एग्जाम में इस बार कुछ बदलाव किए गए हैं। इस बार परीक्षा में तीन की बजाय केवल दो ही पेपर होंगे।
पहला पेपर जनरल एप्टीट्यूड टेस्ट का होगा और दूसरा पेपर कैंडिडेट्स द्वारा चयनित विषय पर होगा। जनरल एप्टीट्यूड टेस्ट में दो अंक के 50 सवाल होंगे। दूसरे पेपर में दो अंक के 100 सवाल होंगे।

क्वालिफिकेशन

किसी भी मान्यताप्राप्त संस्थान से मास्टर या इसके समकक्ष किसी डिग्री में 55 प्रतिशत अंकों के साथ पास होना जरूरी है। ओबीसी, एससी, एसटी और पीडब्ल्यूडी कैंडिडेट्स को अंकों में 5 प्रतिशत की छूट दी गई है। ये कैंडिडेट्स 50 प्रतिशत अंकों के साथ नेट की परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।
मास्टर्स डिग्री के फाइनल ईयर में पढ़ रहे कैंडिडेट्स भी नेट के लिए आवेदन कर सकते हैं। जिन कैंडिडेट्स के पास पीएचडी की डिग्री है और उन्होंने 19 सितंबर, 1991 तक अपनी मास्टर्स की डिग्री पूरी कर ली है, उन्हें भी अंकों में 5 प्रतिशत तक की छूट दी गई है।

आयु-सीमा

नेट परीक्षा में शामिल होने के लिए कोई अधिकतम आयु-सीमा नहीं तय की गई है। सिर्फ जेआरएफ के लिए 30 वर्ष अधिकतम आयु-सीमा तय की गई है। वहीं, ओबीसी, एससी, एसटी, दिव्यांग एवं महिलाओं के लिए ऊपरी आयु सीमा में 5 साल की छूट का प्रावधान है। जूनियर रिसर्च फेलोशिप और यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने की पात्रता के लिए हर साल जुलाई और दिसंबर में यह परीक्षा आयोजित की जाती है।
यूजीसी के दिशा- निर्देश के मुताबिक, कॉलेजों और यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर आवेदन के लिए न्यूनतम पात्रता मानदंड में नेट पास करना जरूरी है। 11 जुलाई, 2009 से पहले एमफिल या पीएचडी के लिए पंजीकृत कैंडिडेट्स अगर सहायक प्रोफेसर पद की पात्रता के लिए निर्धारित अन्य शर्तों को पूरा करते हैं, तो उनके लिए इस पद के लिए अनिवार्य नेट की परीक्षा पास करना जरूरी नहीं है।

एग्जाम पैटर्न

इस बार परीक्षा में तीन की बजाय केवल दो ही पेपर होंगे। पहला पेपर जनरल एप्टीट्यूड टेस्ट होगा और दूसरा पेपर कैंडिडेट्स द्वारा चयनित विषय पर होगा। परीक्षा में कुल 300 अंक के प्रश्न पूछे जाएंगे। जनरल एप्टीट्यूड टेस्ट में दो अंकों के 50 सवाल होंगे। इस पेपर के लिए कैंडिडेट्स को 9:30 से 10:30 तक का समय दिया जाएगा।
वहीं, दूसरे पेपर में दो नंबर के 100 सवाल होंगे और इसके लिए कैंडिडेट्स को 11 बजे से 1 बजे तक का समय दिया जाएगा। पहला पेपर सभी के लिए कॉमन होता है, इसमें पूछे जाने वाले सवाल जनरल नेचर के होते हैं। इसमें कैंडिडेट्स की टीचिंग/ रिसर्च एप्टीट्यूड को परखा जाता है। इसमें रीजनिंग, जनरल अवेयरनेस आदि से सवाल पूछे जाते हैं। दूसरे पेपर में कैंडिडेट्स द्वारा चयन किए गए विषय पर आधारित सवाल होंगे। दोनों ही पेपर के सभी सवाल ऑब्जेक्टिव टाइप होंगे।

आवेदन प्रक्रिया

यूजीसी नेट की परीक्षा 8 जुलाई को होगी। इसके लिए लिए 5 अप्रैल, 2018 तक आवेदन कर सकते हैं। कैंडिडेट्स 6 अप्रैल तक आवेदन शुल्क जमा करा सकते हैं। इस बार आवेदन शुल्क भी 600 रुपए की जगह 1000 रुपए लगेंगे। सामान्य कैटेगरी के कैंडिडेट्स के लिए आवेदन शुल्क 1000 रुपए, ओबीसी के लिए 500 रुपए और एससी और एसटी कैटेगरी के कैंडिडेट्स के लिए 250 रुपए है।
आवेदन करने के लिए यूजीसी नेट की वेबसाइट www.cbsenet.nic.in पर जाएं। साइट ओपन होने के बाद अप्लाई ऑनलाइन के लिंक पर क्लिक करें। फिर दिए गए दिशा-निर्देश के अनुसार अपना विवरण भरें। फॉर्म जमा करने के बाद भविष्य में रेफरेंस के लिए एक कॉपी सेव कर रख लें।

हरिभूमि की ओर से करियर एक्सपर्ट अनिल सेठी बता रहे हैं, कैसे करे नेट-जेआरएफ की पढ़ाई-

  • नेट एग्जाम क्लियर करने के लिए कैंडिडेट को दोनों पेपर को क्वालिफाई करना जरूरी होता है यानी, दोनों पेपर्स में आपको न्यूनतम पासिंग मार्क्स लाना जरूरी है। इसलिए अपने सभी पेपर्स की तैयारी आप एक प्लानिंग के साथ बैलेंस बनाकर करें, ताकि दोनों पेपर्स को समान रूप से तैयारी के लिए समय दे सकें।
  • अगर जेआरएफ के लिए सेलेक्ट होना चाहते हैं, तो आपको थोड़ा और ज्यादा मेहनत और कड़ी तैयारी करने की जरूरत है, क्योंकि फैलोशिप के लिए सफल कैंडिडेट्स में से टॉप के सिर्फ 15 फीसदी लोगों को ही लिया जाता है। इसलिए यदि इसमें आप सेलेक्ट होना चाहते हैं, तो परीक्षा को अच्छे अंक से क्वालिफाई करना जरूरी है।
  • इसके लिए अपनी तैयारी ऐसी करें, ताकि एग्जाम में कम से कम 65 प्रतिशत या उससे अधिक अंक हासिल कर सकें। यूजीसी नेट में चुने गए विषयों की तैयारी कैंडिडेट ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के टेक्स्ट बुक से ही करें और इसे बारीकी से समझकर पढ़ें।
  • सेलेक्टिव होकर बिल्कुल पढ़ाई न करें, क्योंकि इन पेपर्स में ऑब्जेक्टिव टाइप के ही प्रश्न पूछे जाते हैं, जिसे आप यदि गहराई के साथ रुचि लेकर पढ़ेंगे, तभी हल कर पाएंगे।
  • बीते वर्षों के क्वैश्चन पेपर्स से प्रैक्ट्सि करें, ताकि इन्हें हल करने की ट्रिक सीख सकें। कैंडिडेट्स के लिए बाजारों में उपलब्ध मॉक टेस्ट सीरीज की भी मदद ले सकते हैं। इसके अलावा, पुराने पेपर्स से भी अभ्यास करें। ये पेपर आपको सीबीएसई की वेबसाइट पर भी मिल जाएंगे या किसी कोचिंग संस्थान से भी हासिल कर सकते हैं।
Share it
Top