logo
Breaking

Career Advice : आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में भविष्य बनाने के लिए करें ऑनलाइन कोर्स

आज के समय में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) सेक्टर का तेजी से विस्तार हो रहा है। गार्टनर की एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2020 तक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सेक्टर में 20 लाख से ज्यादा नई नौकरियां सामने आएंगी।

Career Advice : आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में भविष्य बनाने के लिए करें ऑनलाइन कोर्स

आज के समय में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) सेक्टर का तेजी से विस्तार हो रहा है। गार्टनर की एक रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2020 तक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (artificial intelligence) सेक्टर में 20 लाख से ज्यादा नई नौकरियां (New Jobs) सामने आएंगी। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस(artificial intelligence) ने आज के दौर में व्यक्ति के काम को आसान करने के साथ-साथ करियर के लिए नई राह भी दिखाई है।

यदि आपकी गणित (Maths) में अच्छी पकड़ है और आप इनोवेटिव हैं तो आप आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) सेक्टर में अपना बेहतरीन करियर बना सकते हैं। जानिए, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस करियर के बारे में...

सवाल - आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या होता है? इसमें करियर बनाने के लिए क्या करना होगा? -छत्रसाल, छतरपुर

उत्तर - आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) का अभिप्राय ऐसी एडवांस टेक्नोलॉजी से है, जो इंसानों की तरह सोच-समझकर तेजी से काम कर सके। हाल में इसका उदाहरण न्यूज रोबो, एआई पर आधारित रोबोट वेटर, सिक्योरिटी गार्ड आदि के रूप में देखने को मिला था। एआई का चलन तेजी से बढ़ रहा है।

माना यह भी जा रहा है कि इसकी वजह से बहुत सारे काम एआई पर आधारित मशीनें/रोबोट करने लगेंगे। ऐसे में एआई के जानकारों की मांग हर जगह बढ़ रही है। हालांकि हमारे देश में अभी कुछ आईआईटी में ही इसके फुलफलेज्ड कोर्स की शुरुआत हुई है। अभी बीटेक और कुछ प्रमुख कोर्सों के तहत इसे एक स्पेशलाइजेशन के रूप में पढ़ाया जा रहा है।

उम्मीद है कि निकट भविष्य में इस कोर्स का प्रसार होगा और संस्थानों द्वारा इसके शॉर्ट टर्म कोर्स भी शुरू किए जाएंगे। अगर आप इस क्षेत्र में करियर बनाने के इच्छुक हैं, तो आपको आईटी इंजीनियरिंग का कोर्स चुनना होगा। ऐसा संभव नहीं है, तो आप देश-विदेश के संस्थानों से ऑनलाइन कोर्स भी कर सकते हैं। अगर आप इस विषय में अपनी जानकारी इंडस्ट्री की जरूरतों के अनुरूप कर लेते हैं, तो निश्चित रूप से इससे करियर में लाभ मिलेगा।

सवाल - मैं बीए कर रही हूं। कृपया बताएं कि प्राइमरी टीचर बनने के लिए बीएड करना ठीक रहेगा या बीटीसी? -आरती अस्थाना,ई-मेल से

उत्तर - अगर आप खुद को सिर्फ प्राइमरी टीचर तक ही सीमित रखना चाहती हैं, तो इसके लिए बीटीसी पर्याप्त है। हालांकि अब इसके बाद भी सीटीईटी/टीईटी या समकक्ष प्रतियोगी परीक्षा क्वालिफाई करने की जरूरत होती है। हां, अगर आप बीएड कर लेती हैं, तो आपके सामने प्राइमरी से लेकर दसवीं तक की कक्षाओं के लिए सहायक अध्यापक बनने का कहीं बेहतर विकल्प होगा।

सवाल - आईएएस बनने के लिए सिविल सर्विसेस का फॉर्म मैंने भर दिया है। बीए पार्ट थ्री में हूं। इसकी तैयारी किस तरह करूं, जिससे पहले प्रयास में ही सेलेक्ट हो जाऊं? -विवेक दहिया, जींद

उत्तर - पहले प्रयास में सेलेक्ट होने के लिए सही दिशा में फोकस्ड गहन तैयारी होना जरूरी है। फिलहाल पहले चरण में प्रारंभिक परीक्षा होगी, जो स्क्रीनिंग परीक्षा है। इसमें सामान्य अध्ययन का अनिवार्य और सीसैट का क्वालिफाइंग पेपर होता है। इन दोनों प्रश्नपत्रों को आसानी से पास करने के लिए जरूरी है कि आप सिलेबस को अच्छी तरह समझते हुए मॉक पेपर्स को हल करने का लगातार अभ्यास करें।

जब आप लगातार लगभग 90 प्रतिशत तक सवालों को आसानी से हल करने लगें, तो समझ सकते हैं कि आप पहले चरण को आसानी से पार कर पाएंगे। हां, चूंकि प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा के बीच ज्यादा अंतराल नहीं होता है, इसलिए अभी से मुख्य परीक्षा के एक वैकल्पिक विषय और सभी अनिवार्य प्रश्नपत्रों की भी साथ-साथ तैयारी करनी चाहिए।

सामान्य अध्ययन के लिए एनसीईआरटी की किताबें, अखबारों-पत्रिकाओं मंन प्रकाशित होने वाले आलेख नियमित रूप से पढ़ने चाहिए। इसके अलावा, प्रभावी निबंधात्मक उत्तर लिखने का भी जमकर अभ्यास करना चाहिए।

सवाल - मैं बीएससी (एजी) का छात्र हूं। नेट/जेआरएफ क्वालिफाई करना चाहता हूं। कृपया मार्गदर्शन करें। -आशीष, ई-मेल से

उत्तर - यूजीसी/सीएसआईआर द्वारा आयोजित जेआरएफ (जूनियर रिसर्च फेलोशिप) के लिए संबंधित विषय में पोस्ट ग्रेजुएशन करना होता है। अगर एग्रीकल्चर में ही रुचि है, तो आप इसी विषय में पोस्ट ग्रेजुएशन (एमएससी) करके जेआरएफ के लिए आवेदन कर सकते हैं।

पीजी के आखिरी वर्ष में भी आप संबंधित परीक्षा दे सकते हैं। पहले से इस परीक्षा की जानकारी के लिए ऑनलाइन सिलेबस देखें और उसे समझते हुए अपनी तैयारी को आगे बढ़ाने का प्रयास करें। इस परीक्षा का आयोजन अब भारत सरकार द्वारा नवगठित नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा किया जा रहा है।

Share it
Top