logo
Breaking

शिक्षा विभाग का फैसला, एक ही दिन होगी प्री बोर्ड और प्रैक्टिकल परीक्षाएं

जिला शिक्षा विभाग के अजीबोगरीब फरमान से बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्र परेशान हैं। शिक्षा विभाग ने प्री बोर्ड और प्रैक्टिकल परीक्षा एक साथ लेने का फैसला तो किया ही है,

शिक्षा विभाग का फैसला, एक ही दिन होगी प्री बोर्ड और प्रैक्टिकल परीक्षाएं

जिला शिक्षा विभाग के अजीबोगरीब फरमान से बोर्ड परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्र परेशान हैं। शिक्षा विभाग ने प्री बोर्ड और प्रैक्टिकल परीक्षा एक साथ लेने का फैसला तो किया ही है, अब उसी तिथि में उसी समय पर प्रोजेक्ट वर्क भी कराया जा रहा है।

यही नहीं बच्चों को सुबह 9 बजे स्कूल पहुंचने कहा गया है और शाम को 4.30 बजे तक रोका जा रहा है। आदेश में यह भी कहा गया है कि प्री बोर्ड की परीक्षा जिस दिन होगी, उस दिन क्लास भी लगेगी। परीक्षा के बाद उस दिन हुए पेपर को उसी दिन हल कराया, जो भी कमजोर छात्र होंगे उनके लिए विशेष कक्षाएं लगाने का आदेश भी जारी किया गया है। प्री बोर्ड के पहले दिन बच्चे इससे काफी परेशान रहे।

बोर्ड परीक्षा का परिणाम सुधारने व विद्यार्थियों में परीक्षा पूर्व तैयारी के लिए शिक्षा विभाग प्री बोर्ड परीक्षा आयोजित कर रहा है। इसके लिए 5 से 10 फरवरी की तिथि तय की गई है। इन्हीं तिथियों में 10 वीं और 12 वीं दोनों क्लासों की परीक्षाएं ली जाएंगी।
दूसरी तरफ शिक्षा विभाग ने इन्हीं बोर्ड की कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षा लेने का आदेश भी 27 जनवरी से 15 फरवरी का तय किया है। एक साथ दोनों परीक्षाएं लेने के आदेश से स्टूडेंट के साथ ही स्कूल के प्राचार्य भी परेशान हैं।
इसमें तीसरा आदेश इस तिथि पर प्रोजेक्ट बनाने का भी जारी कर दिया गया है। इस आदेश के अनुसार सुबह 9 से 10 बजे तक प्रोजेक्ट वर्क, 12 से 3 बजे तक प्रैक्टिकल और प्री बोर्ड की परीक्षा और उसके बाद उस पेपर का हल 4.30 बजे तक कराया जा रहा है। अब लगभग आठ घंटे की स्कूल टाइमिंग से बच्चे पहले दिन काफी परेशान रहे।

उसी दिन हल कराया जा रहा प्रश्नपत्र

जिला शिक्षा विभाग ने प्री बोर्ड परीक्षा के लिए पूरी तैयारी करते हुए आवश्यक गाइड लाइन भी जारी किया है। इसके तहत 10 वीं अौर 12 वीं दोनों क्लासों की परीक्षाएं दोपहर 12 से 3.15 बजे तक ली जा रही हैं।
साथ ही परीक्षा के बाद कक्षाएं नियमित रूप से संचालित करने का आदेश भी जारी किया गया है। परीक्षा के बाद उस दिन हुए पेपर को उसी दिन हल कराया जा रहा है, जो भी कमजोर छात्र होंगे उनके लिए विशेष कक्षाएं लगाईं जाएंगी।

परिणाम सुधारने शिक्षा विभाग की कवायद

बोर्ड परीक्षा का परिणाम सुधारने व विद्यार्थियों में परीक्षा पूर्व तैयारी के लिए शिक्षा विभाग लगातार कवायद कर रहा है। इसी के तहत सभी शासकीय स्कूलों में प्री बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन किए जाने का फैसला लिया गया है।
परीक्षा के जरिए बच्चों को बोर्ड परीक्षाओं के पैटर्न और इससे संबंधित जानकारी मिल सकेगी, इसके प्रयास किए जा रहे हैं। हालांकि बिलासपुर में यह परीक्षा एक ही बार ली जा रही है, जबकि रायपुर सहित अन्य जिलों में प्री बोर्ड परीक्षा जनवरी और फरवरी में दो बार ली जा रही है।

बोर्ड परीक्षा का बदला है सिलेबस

दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीइस बार दसवीं में नया सिलेबस लागू हुआ है। बच्चों का प्रश्न पत्र न बिगड़े इस लिहाज से यह मॉक टेस्ट की तरह होगा। प्रश्न पत्र भी विशेषज्ञों की राय लेकर सेट किया जाएगा।
परीक्षा के बाद बच्चों में जो कमियां दिखेंगी उनके मुताबिक ही बच्चों के सिलेबस की भरपाई की जाएगी। इससे बच्चों का सेल्फ कॉन्फिडेंस कमजोर न हो, इसलिए उनके कमजोर पक्षों को जानकार उसकी भरपाई अतिरिक्त कक्षाएं देकर कराई जाएगी।

नहीं होगी परेशानी

प्री बोर्ड की समय सारिणी जारी कर दी गई है। प्राचार्यों को स्कूल स्तर पर अपने हिसाब से प्रैक्टिकल कराने कहा गया है। प्रोजेक्ट वर्क के लिए सिर्फ एक घंटा ही देना है, इसमें परेशानी नहीं होगी।
Share it
Top