Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बिहारः टॅार्च की रोशनी में इलाज करने वाली महिला की मौत, परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप

मृतक महिला के परिजनों का आरोप है कि इस मौत के लिए प्रशासन की अनदेखी और लापरवाई जिम्मेदार है। परिजनों का आरोप है कि हम मृतक महिला के इलाज से संतुष्ट नहीं थे। जिसके चलते हमने महिला को बेहतर इलाज मुहिया कराने के लिए एक नीजी अस्पताल में भी भर्ती कराया था।

बिहारः टॅार्च की रोशनी में इलाज करने वाली महिला की मौत, परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप
बिहार के एक अस्पताल में टॅार्च की रोशनी में महिला के इलाज करने के बाद कल कथित महिला ने दम तोड़ दिया है। मृतक महिला के परिजनों ने मौत पर दुख जाहिर करते हुए प्रशासन पर महिला की मौत का दोषी बताया है।
मृतक महिला के परिजनों का आरोप है कि इस मौत के लिए प्रशासन की अनदेखी और लापरवाई जिम्मेदार है। परिजनों का आरोप है कि हम मृतक महिला के इलाज से संतुष्ट नहीं थे। जिसके चलते हमने महिला को बेहतर इलाज मुहिया कराने के लिए एक नीजी अस्पताल में भी भर्ती कराया था।
अस्पताल के डाक्टर लगातार हमसे महिला के स्वास्थय को लेकर यह कहता रहा कि अब महिला की तबीयत पहले से ठीक है। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल प्रशासन ने हमसे ओर दो दिन तक इंतजार करने के लिए कहा था। ओर फिर अचानक से अस्पतान प्रशासन ने हमें महिला को तुरंत पटना ले जाने के लिए कहा।

हम हड़बड़ी में महिला को पटना लेकर के आए जहां हमें पता चला कि बीमार महिला के शरीर की अंदरुनी हड्डिया टूटी हुई है और इसके साथ ही महिला को कुछ अंदरुनी चोंटे भी आई हुई है। हमें कुछ समझ में नहीं आया ओर अंत में महिला ने कल रात दम तोड़ दिया है।
मृतक महिला के परिजनों का आरोप है कि हमने इसे लेकर पुलिस में शिकायत भी की थी लेकिन अभी तक इस मामले में कोई भी मामला दर्ज नहीं किया गया है।
आपको बता दे कि मृतक महिला वही है जिसे लेकर सोशल मीडिया में एक वीडियो काफी वायरल हुआ था। जिसमें डाक्टर बीमार महिला का इलाज एक टॅार्च की रोशनी में करते दिख रहे थे। वीडियो के सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद प्रशासन को काफी अलोचना का सामना भी करना पड़ा था।
गौरतलब है कि बिहार के सहरसा स्थित सदर अस्पताल में टॉर्च की रोशनी में एक महिला का ऑपरेशन करने का वीडियो सामने आया था। यह वीडियो देश और राज्य की स्वास्थ्य और बिजली व्यवस्था की पोल भी खोल रहा था। डॉक्टर टॉर्च की रोशनी में महिला को टांके लगा रहा है। ऑपरेशन के समय अस्पताल में बिजली नहीं है और ना ही जनरेटर की व्यवस्था है।
Next Story
Top