Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बिहार में इफ्तार पार्टी के बाद सीएम नीतीश कुमार को लालू का न्योता, सुशील मोदी के बुलावे से हुए दूर

बिहार के सीएम नीतीश कुमार की मोदी कैबिनेट में जगह न मिलने को लेकर चल रही सियासी उठापटक के बीच लालू प्रसाद यादव की पार्टी ने उन्हें न्योता दिया है। लोकसभा चुनाव में नाकाम रही राजद ने नीतीश को राजद के साथ गठबंधन में वापस आने का न्योता दिया है।

बिहार में इफ्तार पार्टी के बाद सीएम नीतीश कुमार को लालू का न्योता, सुशील मोदी के बुलावे से हुए दूर

बिहार के सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की मोदी कैबिनेट में जगह न मिलने को लेकर चल रही सियासी उठापटक के बीच लालू प्रसाद यादव की पार्टी ने उन्हें न्योता दिया है। लोकसभा चुनाव में नाकाम रही राजद ने नीतीश को राजद के साथ गठबंधन में वापस आने का न्योता दिया है। मालूम हो कि नीतीश साल 2017 में महागठबंधन से अलग होकर भाजपा के साथ हो गए थे। नीतीश को महागठबंधन में शामिल होने का न्योता राजद के उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने सोमवार को पटना में दिया।

लालू प्रसाद यादव के बेहद करीबी माने जाने वाले रघुवंश प्रसाद सिंह ने पत्रकारों से कहा कि अब समय आ गया है कि एक बार फिर से एकजुट होकर भाजपा के खिलाफ हम सभी मोर्चा संभालें। उन्होंने कहा कि भाजपा आने वाले दिनों में भी नीतीश कुमार का केवल अपमान ही करेगी। सिंह ने कहा कि यह आमंत्रण सभी गैर भाजपाई दलों के लिए है, केवल नीतीश के लिए ही नहीं।

लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड बहुमत के साथ जीत दर्ज करने के बाद भाजपा ने अपने सभी सहयोगी दलों को एक-एक मंत्री पद का ऑफर दिया था, लेकिन इसको लेकर नीतीश नाराज दिख रहे हैं उन्होंने कहा था कि सांकेतिक भागेदारी में जाने का क्या मतलब, हम ऐसे ही भाजपा के साथ हैं। नीतीश की नाराजगी तब जाहिर हुई जब उन्होंने कहा कि हम भाजपा के साथ हैं लेकिन आने वाले दिनों में कभी भी मोदी कैबिनेट में हमारे एक भी सांसद शामिल नहीं होंगे।

नीतीश की पार्टी जदयू ने साल 2017 में महागठबंधन का दामन छोड़कर भाजपा में शामिल हुई थी लेकिन उस समय भी भाजपा ने जदयू को मंत्रिमंडल में जगह नहीं दिया, इस बार सीएम नीतीश को उम्मीद थी 17 में से 16 सीटों पर उनकी पार्टी ने जीत दर्ज की है और उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह से वापस लौटने के बाद पटना एयरपोर्ट पर सीएम नीतीश ने कहा था कि अगर कोई यह दावा करता है कि बिहार में हुई जीत एनडीए की जीत है तो वह उसका भ्रम है, यह बिहार के लोगों की जीत है। हालांकि सीएम नीतीश ने अभी तक एनडीए से अलग होने को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, उन्होंने सोमवार को भी कहा था कि वे एनडीए के साथ हैं और आगे भी बने रहेंगे।

Next Story
Top