Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पीएम मोदी 10 अप्रैल को मधेपुरा रेल इंजन कारखाने का करेंगे उद्घाटन, नई हमसफर ट्रेन को भी दिखा सकते हैं हरी झंडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के मधेपुरा में नवनिर्मित इंजन कारखाना 10 अप्रैल राष्ट्र को समर्पित कर सकते हैं। साथ ही वह वहां एसेंबल किये गये उच्च शक्ति वाले पहले विद्युत रेल इंजन को रिमोट कंट्रोल से झंडी दे कर कारखाने रवाना करेंगे।

पीएम मोदी 10 अप्रैल को मधेपुरा रेल इंजन कारखाने का करेंगे उद्घाटन, नई हमसफर ट्रेन को भी दिखा सकते हैं हरी झंडी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के मधेपुरा में नवनिर्मित इंजन कारखाना 10 अप्रैल राष्ट्र को समर्पित कर सकते हैं। साथ ही वह वहां एसेंबल किये गये उच्च शक्ति वाले पहले विद्युत रेल इंजन को रिमोट कंट्रोल से झंडी दे कर कारखाने रवाना करेंगे। रेल सूत्रों ने यह जानकारी दी।

मोदी उस दौरान स्वच्छ भारत मिशन के हिस्से ‘चलो चंपारण अभियान' कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मोतिहारी में होंगे। वहीं से वह मधेपुरा के नवस्थापित कारखाने में बने पहले 12,000 अश्व शक्ति (हार्स पावर) क्षमता के बिद्युत चालित रेल इंजन कोरिमोट कंट्रोल से रवाना करने का संकेत देंगे।

रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री का उस समय चंपारण में रहने का कार्यक्रम है और अन्य बातों के अलावा मधेपुरा में पहला इलेक्ट्रिक इंजन कारखानेके पहले इंजन के प्रस्थान की घोषणा उसका हिस्सा हो सकता है।'

यह भी पढ़ें- पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर राहुल गांधी ने ट्विटर पर उड़ाई PM की खिल्ली, डाला फनी वीडियो

रेलवे तथा फ्रांस की कंपनी एल्सताम की साझेदारी में में यहदेश में पहला संयुक्तरेल इंजन कारखाना है। इसके लिए 2015 में समझौता हुआ और रेल क्षेत्र में यह अब तक का सबसे बड़ा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश है।

परियोजना के तहत संयुक्त उद्यम कंपनी इसमें 1,300 करोड़ रुपए का पूंजी निवेश कर रही है। इसमें रेलवे 26 प्रतिशत की भागीदार है और 100 करोड़ रुपए की शेयरपूंजी का योगदान कर रही है। भारतीय रेल इस कारखाने से 11 साल में 800 इंजन खरीदेगी।

वर्ष 2019 तक पहले पांच इंजन एसेंबल किये जाएंगे जबकि शेष 800 इंजन का विनिर्माण मेक इन इंडिया के तहत किया जाएगा। कारखाने में 2021-22 से सालाना 100 इलेक्ट्रिक इंजन का विनिर्माण किया जाएगा।

मंत्रालय के मुताबिक 20,000 करोड़ रुपए से अधिक अनुमानित लागत वाले इस कारखाने में 35 से अधिक इंजीनियरों का दल दिन-रात इंजन एसेंबल के काम में लगा है। लगभग 250 एकड़ क्षेत्र में फैली कारखाने की आधारशिला 2007 में तत्कालिन रेल मंत्री लालू प्रसाद ने रखी थी।

कटिहार-दिल्ली नई हमसफर एक्सप्रेस को दिखा सकते हैं हरी झंडी

प्रधानमंत्री 10 अप्रैल को ही कोसी की जनता के लिए नए हमसफर ट्रेन को हरी झंडी दिखा सकते हैं। इस ट्रेन से कोसी क्षेत्र का राजधानी दिल्ली से सीधा संपर्क हो जाएगा। ये कटिहार-दिल्ली हमसफर ट्रेन सप्ताह में दो दिन सोमवार और गुरुवार को कटिहार से वाया-सहरसा चलेगी। वहीं दिल्ली ये ट्रेन मंगलवार और शुक्रवार को कटिहार के लिए चलेगी।

यह भी पढ़ें- युवराज सिंह और उनकी बीवी हेजल के बीच बिगड़े संबंधों का इस VIDEO ने खोला सच

2008 में आई कुसहा त्रासदी के बाद मधेपुरा और पूर्णिया के बीच रेलखंड क्षतिग्रस्त हो गया था जिसे पिछले साल चालू कर दिया गया। ये ट्रेन और मधेपुरा रेल इंजन फैक्ट्री बाढ़ की त्रासदी झेलने वाले कोसी क्षेत्र के जनता के लिए एक सौगात होगी।

अभी मधेपुरा के लोगों के लिए दिल्ली जाने के लिए सहरसा आना पड़ता है। इस ट्रेन के चालू हो जाने से मधेपुरा के लोगों को ट्रेन पकड़ने के लिए सहरसा नहीं जाना पड़ेगा। साथ ही इस रेलखंड का विद्युतीकरण भी कर दिया गया है।

Next Story
Top