Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गुरु गोविन्द सिंह की 350वीं जयंती: नीतीश कुमार ने पटना साहिब में प्रकाश उद्द्यान केंद्र का शुभारंभ किया

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज की 350वीं जयंती के अवसर पर पटना साहिब में बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र एवं उद्यान योजना का रिमोट के माध्यम से शुभारंभ किया।

गुरु गोविन्द सिंह की 350वीं जयंती: नीतीश कुमार ने पटना साहिब में प्रकाश उद्द्यान केंद्र का शुभारंभ किया

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज की 350वीं जयंती के अवसर पर पटना साहिब में बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र एवं उद्यान योजना का रविवार को रिमोट के माध्यम से शुभारंभ किया।

पटना साहिब के बाजार समिति परिसर में गुरू के बाग में गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज की 350वीं जयंती के अवसर पर बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र एवं उद्यान योजना का रविवार को रिमोट के माध्यम से शुभारंभ किया गया।

नीतीश ने कहा कि यहॉ जो बहुद्देशीय प्रकाश केंद्र बनने जा रहा है, इसका नामकरण प्रकाश पुंज होना चाहिए। यहाँ चार द्वार बनेंगे, जिसका नाम होगा बाबा अजीत सिंह द्वार, बाबा फतेह सिंह द्वार, बाबा जुझार सिंह द्वार और बाबा जोरावर सिंह द्वार।

इसे भी पढ़ें- भाजपा 2019 का चुनाव जीतेगी, अगले 50 साल तक देश में राज करेगी: अमित शाह

इसके अतिरिक्त यहाँ पाँच तख्त होंगे। तख्त श्री पौता साहिब, तख्त श्री नांदेड़ साहिब, तख्त श्री केशगढ़ साहिब, तख्त श्री हेमकुंड साहिब और इसका तलहट होगा तख्त श्री पटना साहिब।

उन्होंने कहा कि यह जो पूरा स्ट्रक्चर बनेगा वह चारों तरफ से खुला रहेगा। यह एक ऐसा केंद्र बनेगा कि प्रकाश पुंज का निरीक्षण करने वालों को सिख धर्म और गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकेगी।

नीतीश ने कहा कि इसका नाम प्रकाश पुंज रखने के पीछे मकसद है कि यह ज्ञान की भूमि है। उन्होंने कहा कि 54.16 करोड़ रूपये की लागत से 18 माह के अंदर इसे पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस का भारत बंद आज: शिवसेना बंद में नहीं लेगी हिस्सा, मनसे होगी शामिल

नीतीश ने कहा कि उनकी इच्छा है कि 14 महीने बाद 2020 में होने वाले प्रकाश पर्व के पूर्व इसका काम पूर्ण कर लिया जाए ताकि उस समय इसका उद्घाटन किया जा सके। पटना साहिब एक ऐतिहासिक स्थल है जो गुरु के बाग के बगल में है।

उन्होंने कहा कि बिहार में सांस्कृतिक भवनों के निर्माण की दिशा में अनेक काम किये गये हैं तथा किए जा रहे हैं। बिहार संग्रहालय, सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र परिसर में ज्ञान भवन, बापू सभागार एवं सभ्यता द्वार के अलावे अन्य कई भवन भी बनाये गये हैं। बोधगया में बहुत बड़ा कन्वेंशन सेंटर बनाने जा रहे हैं।

वैशाली में भगवान बुद्ध का अस्थि कलष मिला है, वहां भी बहुत बड़ा केंद्र बनेगा। इस प्रकार पूरे बिहार में जो भी ऐतिहासिक स्थल है, उसे विकसित किया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्य ग्रंथी एवं तख्त हरमंदिर साहिब के मुख्य जत्थेदार ज्ञानी इकबाल सिंह ने मुख्यमंत्री को सिरोपा भेंटकर अभिनंदन किया।

Next Story
Top