Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पीएम मोदी ने बिहार में भरी हुंकार, बोले- आतंकी हो या फिर आतंक के मददगार, घर में घुस कर मारा जाएगा

लोकसभा चुनाव में भाजपा को पिछले चुनाव की तरह की प्रचंड बहुमत दिलाने के लिए पीएम मोदी इस समय धुंआधार रैलियां कर रहे हैं। पीएम शनिवार को बिहार के चम्पारण में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए महागठबंधन और कांग्रेस को जमकर कोसा।

पीएम मोदी ने बिहार में भरी हुंकार, बोले- आतंकी हो या फिर आतंक के मददगार, घर में घुस कर मारा जाएगा

लोकसभा चुनाव में भाजपा को पिछले चुनाव की तरह की प्रचंड बहुमत दिलाने के लिए पीएम मोदी इस समय धुंआधार रैलियां कर रहे हैं। पीएम शनिवार को बिहार के चम्पारण, वाल्मीकिनगर व रामनगर में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए महागठबंधन और कांग्रेस को जमकर कोसा। उन्होंने नीतिश सरकार की सराहना करते हुए कहा कि नितीश जी ने बड़ी मेहनत करके लालटेन को हटाया है। घर-घर में बिजली पहुंचाई है। वो आपको फिर से लालटेन युग की और ले जाना चाहते हैं, लेकिन नितीश जी और उनकी टीम आपके घर में LED बल्ब की दूधिया रौशनी पहुंचाने के लिए लगातार मेहनत कर रही है। उनके चुनावी जनसभा की मुुख्य बातें इस प्रकार हैं...

पीएम मोदी के बिहार दौरे की मुख्य बातें

- आतंकवाद और नक्सलवाद को खत्म करने के लिए हमारी नीति साफ है। हमारी नीति और रणनीति का दम आज पूरी दुनिया देख रही है। वहीं कांग्रेस और RJD की नीति क्या है? वो उन्हें खुद मालूम नहीं है।

- आपने जो मजबूत सरकार बनाई है उसने स्पष्ट संदेश दुनिया को दिया है कि अब भारत चुप नहीं बैठेगा। हम पर जो बुरी नजर डालेगा उस पर उतनी ही शक्ति से वार किया जाएगा। आतंकी हो या फिर आतंक के मददगार, घर में घुस कर मारा जाएगा। वो अगर गोली चलाएंगे तो मोदी गोला चलाएगा।

- नितीश जी ने बड़ी मेहनत करके लालटेन को हटाया है। घर-घर में बिजली पहुंचाई है। वो आपको फिर से लालटेन युग की और ले जाना चाहते हैं, लेकिन नितीश जी और उनकी टीम आपके घर में LED बल्ब की दूधिया रौशनी पहुंचाने के लिए लगातार मेहनत कर रही है।

- साल 2022 तक किसान की आय दोगुनी करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। किसानों को लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य का वादा भी हम लोगों ने पूरा किया है।

- उसमें भी बाद में जो CAG रिपोर्ट आई, उससे पता चला की 40 लाख लोग ऐसे थे जो किसान थे ही नहीं और उन्हें पैसा बांट दिया गया।

- मत भूलिए जब 10 साल पहले कांग्रेस ने कर्ज माफ़ी का ऐलान किया था। उस समय किसानों का कर्ज था 6 लाख करोड़ रुपये और इन्होने माफ़ किया मात्र 52 हजार करोड़ रुपये।

- सत्ता इन लोगों के लिए अपने और अपने परिवार के लिए मेवा जुटाने का जरिया है। मेवा नहीं मिलना था इसलिए इन लोगों ने ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा मिलने में भी लगातार अड़ंगा लगया था।

- विचार और विजन से दिवालिया हो चुके ये महामिलावटी लोग गरीब, आदिवासी और किसान के साथ धोखे का जो खेल खेलते हैं उससे सावधान होने की जरूरत है। ये ऐसे शातिर हैं कि फर्जी स्कीम भी वोट के लिए बेच देते हैं।

- समाज में भेद पैदा करने के लिए ये बरसों से आरक्षण के नाम पर झूठ फैला रहे हैं। अटल जी की सरकार ने थारू समाज को उनका हक दिया था और वर्तमान एनडीए सरकार ने गरीब परिवारों को। हमने सामान्य वर्ग के गरीबों को 10% आरक्षण दिया, वो भी किसी दूसरे का हक छीने बगैर।

- इतिहास में ये पहला चुनाव है जब कांग्रेस कम सीटों पर चुनाव लड़ रही है। कांग्रेस और उसके साथियों की ये स्थिति क्यों हुई है इसका सीधा जवाब है विश्वसनीयता का संकट, वंश और विरासत से आपको एक कंपनी की कमान तो मिल सकती है लेकिन चलाने के लिए विजन कहां से लाओगे।

- इनका इरादा बिहार की और देश की सेवा करने का नहीं है। ये खुद को सेवक नहीं बल्कि लोकतंत्र का नया महाराजा समझते हैं।

- कांग्रेस हो, RJD हो, इनके पास सिर्फ नाम और दाम का ही विजन है। यही कारण है कि झूठ और प्रपंच की राजनीति इनके लिए वजूद बचाने का एकमात्र जरिया बन गई है।

- अपनी हार के लिए जमीन तैयार करने का उनका ये तरीका है। आज स्थिति ये हो गई है कि एक जमाने में जिस पार्टी का पूरे देश में एकछत्र शासन था, पंचायत से लेकर पार्लियामेंट पूरे हिंदुस्तान में एक ही दल था उस पार्टी के अहंकार को जनता ने चूर-चूर कर दिया है।

- अब 4 चरण के मतदान के बाद इनकी बंदूक की दिशा थोड़ी बदली है। अब आधी गाली मोदी को और आधी EVM को मिल रही है।

- 4 चरण के मतदान के बाद, सारे महामिलावटी दलों के झूठे दावों की पोल खुल गई है। वंशवाद और भ्रष्टाचार की काली कमाई से इन लोगों में जो अहंकार हुआ है, उसे बिहार के लोगों ने ठीक करने की ठान ली है। इसलिए ये हारे हुए लोग, अब इससे बाहर निकलने का रास्ता तलाश रहे हैं।

- बिहार की महान धरती के महान लोगों ने अन्याय और अत्याचार के खिलाफ हमेशा देश को दिशा दी है। भारत की चेतना को नई ऊर्जा दी है, शक्ति दी है। मैं गर्व के साथ कह सकता हूं कि देश में स्वच्छता के प्रति जनआंदोलन के लिए भी चंपारण और बिहार की धरती ने राह दिखाई है।

- चंपारण में अनेक बार आने का मुझे अवसर मिला है, हर बार मुझे आपसे असीम प्यार मिला है। आपके इस प्यार और सत्कार को मैं शीश झुकाकर नमन करता हूं।

Next Story
Top