Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Lok Sabha Elections 2019 : पाटलिपुत्र सीट पर है दिलचस्प मुकाबला , चाचा-भतीजी हैं आमने सामने

पाटलिपुत्र लोकसभा पर चुनाव प्रचार जोरों पर है। यहां से एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दे रहे हैं चाचा रामकृपाल यादव व भतीजी मीसा भारती। ये दोनों प्रत्याशी एक दूसरे के वोट बैंक पर सेंध लगाने की जुगत में हैं।

Lok Sabha Elections 2019 : पाटलिपुत्र सीट पर है दिलचस्प मुकाबला , चाचा-भतीजी हैं आमने सामने

पाटलिपुत्र लोकसभा पर चुनाव प्रचार जोरों पर है। यहां से एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दे रहे हैं चाचा रामकृपाल यादव व भतीजी मीसा भारती। ये दोनों प्रत्याशी एक दूसरे के वोट बैंक पर सेंध लगाने की जुगत में हैं। इसी गणित में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का रोड शो मसौढ़ी में कराया गया था वहीं 15 मई को पालीगंज में पीएम मोदी के चुनावी जनसभा की तैयारी हो रही है। इस सीट पर भतीजी यानि मीसा भारती के लिए राजद की स्टार प्रचारक पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी लगातार चुनावी रैलियां कर रही हैं।

कहां-कहां पिछड़ रही है भाजपा

साल 2008 के बाद की रिकॉर्ड देखें तो साफ पता चलता है कि मसौढ़ी, मनेर और पालीगंज विधानसभा सीट में भाजपा का प्रदर्शन बेहद खराब था। 2009 के आम चुनाव में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव इन सीटों पर काफी बढ़त बना ली थी, वहीं पिछले आम चुनाव की बात करें तो मीसा भारती को मसौढ़ी से 12 हजार, मनेर से 7 हजार और पालीगंज से डेढ़ हजार वोट मिले थे।

इस आम चुनाव में भाजपा कोशिश कर रही है कि राजद के इस गढ़ पर कब्जा कर ले। पार्टी सूत्रों की माने तो मोदी-शाह के रैलियों से प्रभावित जनता जातिगत बंधन को तोड़ राष्ट्रवाद के मुद्दे पर वोट देगी। इन सीटों पर कुर्मी, यादव व कुशवाहा जातियों की जनसंख्या अधिक है।

दानापुर-फुलवारी क्षेत्र

वहीं दानापुर-फुलवारी विधान सभा क्षेत्र में भी चुनावी प्रचार रोचक हो रहा है। यहां से भाजपा के रामकृपाल यादव पिछले आम चुनाव में दानापुर में 24 हजार से भी ज्यादा वोट पाए थे वहीं फुलवारी से 16 हजार वोट मिले थे। इसी वजह से राजद इस सीट पर जोरों से चुनाव प्रचार कर रही है। इसके लिए राबड़ी देवी लगातार चुनावी दौरे कर रही हैं।

Next Story
Top