Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लोकसभा चुनाव 2019: ये है बिहार में एनडीए के सीट बंटवारे का पूरा गणित

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के लिए बिहार में भाजपा लोक जनशक्ति पार्टी और जनता दल यूनाइटेड के बीच सीट बंटवारे को लेकर रविवार को आखिरकार सहमति बन गई है।

लोकसभा चुनाव 2019: ये है बिहार में एनडीए के सीट बंटवारे का पूरा गणित

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के लिए बिहार में भाजपा और उसके सहयोगी दलों के बीच सीट बंटवारे को लेकर रविवार को आखिरकार सहमति बन गई। सीटों की संख्या को लेकर हुए समझौते को अंतिम रूप देते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने घोषणा की है कि बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीटों में से भाजपा और जद (यू) 17-17 तथा लोजपा छह सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

अमित शाह ने यहां बिहार के मुख्यमंत्री एवं जनता दल यूनाइटेड (JDU) अध्यक्ष नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) अध्यक्ष एवं केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान की मौजूदगी में यह घोषणा की।

पासवान जाएंगे राज्यसभा

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लोजपा अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के साथ एक संक्षिप्त बैठक के बाद अमित शाह ने मीडिया को बताया कि जितना जल्दी हो सके पासवान को राज्यसभा भेजा जाएगा।

अमित शाह ने कहा कि सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) पिछली बार से अधिक यानि 31 से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेगा और इसके साथ ही उन्होंने पूर्ण विश्वास जताया कि यह गठबंधन 2019 में फिर से सत्ता में आएगा।

LJP को फायदा

बिहार में लोकसभा की कुल 40 सीट है। इस समझौते से लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) को फायदा पहुंचा है। पार्टी को कम सीटें मिलने के कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन गठबंधन से उपेंद्र कुशवाहा के नेतृत्त्व वाली रालोसपा के निकलने के बाद मौके का फायदा उठाते हुए लोजपा अपने तेवर कड़ा करते हुए भाजपा के साथ बेहतर सौदा करने में कामयाब रही, जिसके चलते उन्हें छह सीट मिल गयी।

नीतीश का जादू

उपेंद्र कुशवाहा के एनडीए से निकलने के बाद नीतीश कुमार भगवा पार्टी को अपनी महत्ता समझाने में कामयाब रहे, जिसका नतीजा यह हुआ कि बिहार में अब उनको भाजपा के बराबर खड़ा होने का मौका मिल गया, उनकी झोली में कुछ वे सीटें भी आ गई हैं, जिसपर 2014 में भाजपा ने जीत दर्ज की थी।

भाजपा को 5 सीट का नुक्सान

भाजपा को अब जीती हुई अपनी 22 सीटों में से कम-से-कम पांच सीटों को जदयू (JDU) के लिए छोड़ना पड़ेगा। जदयू (JDU) ने 2014 में अकेले लोकसभा चुनाव लड़ा था और सिर्फ दो सीटों पर ही जीत मिल पाई थी, जबकि लोजपा ने छह सीट अपने नाम की थी।

जल्द होगा लोकसभा क्षेत्रों का बंटवारा

अमित शाह ने कहा कि गठबंधन में शामिल सभी दल जल्द ही लोकसभा क्षेत्रों के बंटवारे पर निर्णय लेंगे। यहां से पार्टियां 2019 में लोकसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों को उतारेगी। रविवार को इस मौके पर राम विलास पासवान ने कहा कि गठबंधन में कभी कोई समस्या नहीं थी, वे मोदी के नेतृत्व में पांच सालों से 'राजग के पेड़' को सींच रहे हैं व उसको मजबूत बनाया है। उन्होंने कहा कि देश में फिर से मोदी के नेतृत्व में सरकार बनेगी।

जेटली को धन्यवाद

राम विलास पासवान ने लोजपा और भाजपा के बीच समझौता कराने में अहम भूमिका निभाने वाले केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली का भी धन्यवाद किया। सीट बंटवारे से खुश नजर आने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस अवसर पर कहा कि 2009 में जब परिणाम राजग के खिलाफ थे तब भी बिहार में राजग को 40 में से 32 सीटें मिली थी। उन्होंने कहा, कि इस बार तो हम उससे भी बेहतर प्रदर्शन करेंगे।

Share it
Top