Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Lok Sabha Elections 2019 Bihar Update : बिहार में चार सीटों पर मतदान संपन्न, 23 मई को आएंगे परिणाम

लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण (Lok Sabha Elections 2019 First Phase) के लिए बिहार की चार सीटों पर आज सुबह 7 बजे से मतदान शुरू हो गया है। पहले चरण में बृहस्पतिवार को बिहार के चार लोकसभा क्षेत्रो गया, नवादा, औरंगाबाद और जमुई में मतदान होगा। इनमें से कुछ सीटों पर शाम चार बजे तक, कुछ पर पांच बजे तक और कुछ सीटों पर छह बजे तक मतदान होगा। प्रथम चरण में कुल 44 प्रत्याशी चुनावी मैदान में है। उन्होंने कहा कि इन क्षेत्रों में मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। अर्धसैनिक बलों की 104 कंपनियां मतदान केन्द्रों पर तैनात हो चुकी हैं। इन चारों लोकसभा क्षेत्रों में 70,37,966 मतदाता हैं, जिनके मतदान के लिए कुल 7,486 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इस चरण में 70,37,966 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर अपने लोकसभा क्षेत्र का नेता चुनेंगे, जिनमें 36,83,885 पुरुष और 33,53,809 महिलाएं हैं जबकि थर्ड जेंडर मतदाताओं की संख्या 272 है।

Lok Sabha Elections 2019 Bihar Update : बिहार में चार सीटों पर मतदान संपन्न, 23 मई को आएंगे परिणाम

लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण (Lok Sabha Elections 2019 First Phase) के लिए बिहार की चार सीटों पर आज सुबह 7 बजे से मतदान शुरू हुआ था जो शाम 7 बजे तक चला। पहले चरण में बृहस्पतिवार को बिहार के चार लोकसभा क्षेत्रो गया, नवादा, औरंगाबाद और जमुई में मतदान हुआ। इनमें से कुछ सीटों पर शाम चार बजे तक, कुछ पर पांच बजे तक और कुछ सीटों पर छह बजे तक मतदान हुआ। प्रथम चरण में कुल 44 प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतरे थे। इन क्षेत्रों में मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए थे। अर्धसैनिक बलों की 104 कंपनियां मतदान केन्द्रों पर तैनात थी। इन चारों लोकसभा क्षेत्रों में 70,37,966 मतदाता हैं, जिनके मतदान के लिए कुल 7,486 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इस चरण में 70,37,966 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर अपने लोकसभा क्षेत्र का नेता चुनेंगे, जिनमें 36,83,885 पुरुष और 33,53,809 महिलाएं हैं जबकि थर्ड जेंडर मतदाताओं की संख्या 272 हैं।

Lok Sabha Elections 2019 Bihar Live Update

शाम 6 बजे तक बिहार की चारों लोकसभा क्षेत्रों में 53 प्रतिशत मतदान हुआ। औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई में शाम छह बजे तक क्रमश: 49.85 प्रतिशत, 56.00 प्रतिशत, 52.50 प्रतिशत और 54.00 प्रतिशत मतदान के साथ प्रथम चरण का मतदान संपन्न हुआ। चुनाव परिणाम 23 मई को आएंगे।

पहले चरण में बिहार की चार लोकसभा सीटों पर हो रहे चुनाव में शाम पांच बजे तक 50.26 प्रतिशत मतदान हो चुका है। इनमें औरंगाबाद में 49.50 प्रतिशत, गया में 46.66 प्रतिशत, नवादा में 49 प्रतिशत और जमुई में सर्वाधिक 54 प्रतिशत मतदान हुआ।

बिहार के जमुई लोकसभा में EVM और VVPAT को स्ट्रांग रूम में ले जाया जा रहा है। यहां पहले चरण का मतदान संपन्न हो गया है।

सायं 4 बजे तक गया में 46 प्रतिशत, नवादा में 47 प्रतिशत, जमुई में 53 प्रतिशत व औरंगाबाद में 48 प्रतिशत मतदान हुआ।

गया में वजीरगंज के हंसरा गांव के लोग अभी तक एक भी वोट नहीं डालें हैं। वे अपनी कई समस्याओं को लेकर धरने पर बैठे हैं।

नवाद में पचगांवा में बूथ संख्या 262 पर गोली चली, जिसमें कई लोगों के घायल होने की खबरे आ रही हैं।

नवादा के रोह में मरुई की बूथ संख्या 55-56 पर दो पक्षों में हुई जमकर मारपीट। सेक्टर मजिस्ट्रेट की गाड़ी भी तोड़े, सुरक्षा बलों ने मौके पर पहुंचकर मामले का लिया जायजा।

बिहार में 3 बजे तक कुल 42 प्रतिशत वोटिंग हुई। सबसे ज्यादा गया में में 44 प्रतिशत, नवादा में 43 प्रतिशत, जमुई में 42 प्रतिशत व औरंगाबाद में 39 प्रतिशत मतदान हुआ।

जमुई के कर्मा गांव में बूथ संख्या 129-130 पर ग्रामीणों ने मतदान का विरोध किया। मौके पर जिलाधिकारी व चुनाव अधिकारी पहुंचकर ग्रामीणों से वोट करने का आग्रह कर किए।

गया के थानापुर में ग्रामीणों ने सड़क की मांग को लेकर मतदान का विरोध किया है। ग्रामीण अपनी मांगों को लेकर सड़क पर धरना कर रहे हैं।

गया के बूथ संख्या-243 पर ग्रामीणों ने दोपहर 2:20 बजे तक एक भी वोट नहीं डाला है। ग्रामीणों का कहना है कि आजादी के बाद से ही गांव में पहुंचने के लिए सड़क नहीं बनवाई गई है। इस कारण हमनें तय किया है कि इस चुनाव में मतदान नहीं करेंगे।

नवादा में मतदान केंन्द्र-147 पर कुछ उपद्रवियों ने मतदान में बाधा डालने की कोशिश किए। जिलाधिकारी कौशल कुमार ने लाठी चार्ज करने का दिया आदेश।

नवादा में दोपहर 2 बजे तक 39 प्रतिशत मतदान, गया में 38 प्रतिशत मतदान, औरंगाबाद में 37 प्रतिशत मतदान और जमुई में 32 प्रतिशत मतदान हुआ।

जमुई के संग्रामपुर में एक पोलिंग एजेंट को सुरक्षाबलों ने हिरासत ले लिया है। बताया जा रहा है कि आरोपी मतदान केंद्र संख्या-36 पर व्यवधान डालने की कोशिश कर रहा था।

बिहार में चारों लोकसभा सीटों पर एक बजे बजे तक 33.25 प्रतिशत हुआ मतदात। नवादा में सबसे ज्यादा 37 प्रतिशत, औरंगाबाद में 34.60 प्रतिशत, गया में 33 प्रतिशत और सबसे कम जमुई में 29 प्रतिशत मतदान हुआ।

चुनाव अधिकारी के मुताबित गया के गुरारू प्रखंड में कुल 102 बूथों पर दोपहर 12 बजे तक 31 प्रतिशत मतदान हुआ है।

जमुई शहर में सुरक्षा को जवानों ने किया फ्लैगमार्च, चुनाव शांतिपूर्ण जारी।

जमुई विधानसभा के सिंगारपुर क्षेत्र में 37.6 फीसदी मतदाताओं ने किया मतदान।

चुनाव अधिकारियों के अनुसार नवादा के रजौली प्रखंड क्षेत्र में 12 बजे तक लगभग 25 फीसदी मतदान पड़ा।

नवादा के सिरदला थाने के ढाव गांव में मतदान के दौरान पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार चारो आरोपी मतदान केंन्द्र पर अराजकता फैला रहे थे।

नवादा के बूथ नंबर 261 पर 11:30 बजे से ही है ईवीएम खराब, ईवीएम ठीक करने मास्टर ट्रेनर अजय कुमार पहुंचे।

गया के परैया के सिकंदर पुर गांव में 373 मतदाताओं में से सिर्फ 4 लोगों ने मतदान किया। यहां ग्रामीण सड़क की समस्या को लेकर मतदान का बहिष्कार कर रहे हैं।

औरंगाबाद में 11 बजे तक 20 प्रतिशत मतदान हुआ।

गया में 11 बजे तक 22 प्रतिशत मतदान हुआ।

जमुई लोकसभा क्षेत्र में पुलिस ने नक्सलियों का पोस्टर बरामद हुआ है। पोस्टर में नक्सलियों ने मतदान का बहिष्कार किया।

नवादा के डीपीआरओ ने बताया 10:40 बजे तक जिले में 17 प्रतिशत मतदान हुआ।

गया के परैया के पिराचक, बदलचक, भतूचक गांव के 800 मतदाताओं ने मतदान का विरोध किया। 800 आबादी के गांव का बूथ तीन किलोमीटर दूर सलेमपुर गांव में बनाये जाने से नाराज मतदाताओं ने वोट न देने का फैसला किया है।

नवादा के सबइया गोपालपुर के है बूथ नंबर पर 270 को लुटने की कोशिश। बताया जा रहा है कि झड़प में कई लोगों के घायल भी हुए हैं।

10 बजे तक गया में 19 प्रतिशत, औरंगाबाद में 13.46 प्रतिशत, नवादा में 9 प्रतिशत व जमुई में 14 फीसद मतदान हुआ।

10 बजे तक बिहार की चारों सीटों पर कुल मतदान 13.73 प्रतिशत रहा।

जमुई में 9:40 बजे तक 12 फीसद मतदान हुआ।

सुबह आठ बजे तक औरंगाबाद एवं गया लोकसभा क्षेत्र में 5.60 प्रतिशत एवं 11.00 प्रतिशत तथा नवादा एवं जमुई में तीन-तीन प्रतिशत मतदान हुआ है।

बिहार के चार लोकसभा क्षेत्र में सुबह आठ बजे तक 5.57 प्रतिशत मतदान हुआ।

नवादा के हिसुआ में ईवीएम खराब होने की वजह से पिसवा के बूथ संख्या 57 पर मतदान लगभग 45 मिनट तक बाधित रहा।

सिकंदरा के मतदान केंद्र संख्या 109 पर ईवीएम में खराबी के कारण वोटींग अभी तक शुरू नहीं हो पायी है। सिकंदरा विधानसभा मतदान केंद्र संख्या 123 पर ईवीएम में गड़बड़ी के कारण मतदान बाधित।

झाझा के बूथ संख्या 245 अनुग्रह नारायण में कन्ट्रोलिंग मशीन ख़राब होने की खबर आ रही है। झाझा विधानसभा के बूथ संख्या-22 में मतदान नहीं हो पा रहा है।

गया के डुमरिया गांव में एक जिन्दा बम मिलने से हड़कंप मच गई है। बम को सुरक्षाकर्मी नाकाम करने की कोशिश कर रहे हैं।

बिहार के जमुई में दो पोलिंग पुथों पर EVM खराब होने की खबर आ रही है

नवादा लोकसभा सीट

नवादा लोकसभा सीट एक समय कांग्रेस और सीपीआई का गढ़ माना जाता था। लेकिन 1995 के आम चुनाव में भाजपा ने यहां बाजी मार ली। इस चुनाव में भाजपा और सीपीआई में सीधा मुकाबला था। भाजपा के कामेश्वर पासवान सीपीआई के प्रेमचंद राम को बड़े अंतर से हराया था। भाजपा यहां पर करीब 97 हजार वोट से पहली बार जीत दर्ज की। दो साल बाद ही लोकसभा चुनाव फिर हुआ उसमें भाजपा को अपनी सीट गवांनी पड़ी। राजद की मालती देवी ने बीजेपी के कामेश्वर पासवान को 14 हजार वोटों से शिकस्त दीं।

नवादा पर भाजपा 10 सालों से राज कर रही थी...

नवादा सीट 10 सालों से भाजपा के कब्जे में है। सामान्य सीट होने के कारण भाजपा की टिकट से भोला सिंह 2009 में जीत दर्ज किए। इसी क्रम में 2014 में गिरिराज सिंह भाजपा से दुबारा चुने गए।

इस बार भाजपा के गिरिराज सिंह को नवादा की जगह बेगूसराय सीट से चुनाव लड़ना है। इसी कारण से यह सीट काफी चर्चा में है। इस सीट से राजग के सहयोगी दल जनशक्ति पार्टी के उम्मीदवार चंदन सिंह को टिकट दिया गया है।

वहीं महागठबंधन ने आरजेडी के राजबल्लभ प्रसाद की पत्नी विभा देवी को टिकट दिया है। यहां कुल 13 प्रत्याशी मैदान में हैं लेकिन मुकाबला एनडीए और मुख्य विपक्षी महागठबंधन के बीच माना जा रहा है।

पिछले लोकसभा चुनाव 2014 में भूमिहार बहुल इस सीट से बीजेपी के गिरिराज सिंह विजयी हुए थे। उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के राजबल्लभ यादव को हराया था।

गिरिराज सिंह को जहां 3,90,248 मत मिले थे, वहीं राजबल्लभ यादव को 2,50,091 मतों से संतोष करना पड़ा था। जेडी(यू) के कौशल यादव 1,68,217 मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे।

जमुई लोकसभा सीट

2009 में यहां जदयू के भूदेव चौधरी विजयी रहे थे। 2014 में लोकजनशक्ति पार्टी के चिराग पासवान ने आरजेडी के शंभू शेखर भास्कर को 85 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था।

इस बार कुल नौ प्रत्याशी मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला चिराग पासवान और महागठबंधन में रालोसपा प्रत्याशी भूदेव चौधरी के बीच है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां रैली कर चुके हैं और पासवान को उम्मीद है कि राष्ट्रवाद के मुद्दे और उनके काम के आधार जनता एक बार फिर चुनेगी।

गया लोकसभा सीट

यह आरक्षित सीट है। यहां हर बार भाजपा और आरजेडी के बीच मुकाबला होता है। 1999 में भाजपा के रामजी मांझी जीते थे, लेकिन 2004 में लालू की पार्टी के राजेश कुमार मांझी को जीत मिली थी। 2009 में यह सीट फिर से भाजपा के पास चली गई और हरी मांझी संसद पहुंचे। 2014 में भी रामजी को जीत मिली थी।

इस बार कुल 13 प्रत्याशी मैदान में हैं। जदयू ने विजय कुमार, तो महागठबंधन की ओर से हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा ने जीतनराम मांझी को प्रत्याशी बनाया गया है। 2014 के चुनाव में जदयू से उम्मीदवार रहे जीतनराम मांझी तीसरे नंबर पर रहे थे। इस बार मुकाबला कांटे का माना जा रहा है क्योंकि विजय कुमार को भाजपा का समर्थन है तो लालू की पार्टी और कांग्रेस मांझी के साथ खड़े हैं। मांझी तीसरी बार लोकसभा लड़ रहे हैं तो विजय कुमार पहली बार मैदान में हैं।

औरंगाबाद लोकसभा सीट

1999 से 2009 तक यहां कांग्रेस का राज रहा, लेकिन 2009 में जेडीयू के सुशील कुमार सिंह ने लालू की पार्टी के शकील अहमद खान को हराया था। 2014 में सुशील सिंह ने भाजपा के टिकट से चुनाव लड़ा था और विजयी हुए थे। यहां राजपूत और मुस्लिम आबादी ज्यादा है।

इस बार कुल मिलाकर 9 प्रत्याशी मैदान में हैं। भाजपा-जदयू गठबंधन के अनुसार यह सीट भाजपा को मिली है, जिसने फिर सुशील कुमार सिंह पर भरोसा जताया है। वहीं महागठबंधन ने जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) से उपेंद्र प्रसाद को उतारा गया है। प्रसाद को कांग्रेस और आरजेडी का समर्थन प्राप्त है।

Next Story
Top