Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लालू करेंगे विधायकों के साथ माथापच्ची, नीतीश ने बुलाई कार्यसमिति की बैठक

मंगलवार से ही संसद का मॉनसून सत्र शुरू हो रहा है।

लालू करेंगे विधायकों के साथ माथापच्ची, नीतीश ने बुलाई कार्यसमिति की बैठक

बिहार के महागठबंधन में आई दरार बड़ी होगी या उसे पाटा जाएगा, इसकी संभावना दो दिनों में साफ हो जाएगी। सोमवार को राजद विधायक दल की बैठक राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद ने बुलाई है। सीबीआई के छापे और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर एफआईआर दर्ज किए जाने के बाद की रणनीति पर चर्चा होगी।

सूत्रों ने बताया कि यह तय कर दिया जाएगा कि तेजस्वी पर सीबीआई ने चार्जशीट किया और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस्तीफा मांगा तो ऐसे में तेजप्रताप को आगे किया जाएगा। राजद अपनी ओर से गठबंधन तोड़ने का कोई प्रयास करेगा, मगर विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री का समर्थन 80 सीटों वाले गठबंधन दल के ‘बड़े भाई’ को अब तक नहीं मिला उस पर सवाल उठने की पूरी संभावना है।

इसे भी पढ़ें: लालू के घोटालों-विवादों का अंतहीन सिलसिला

बैठक हंगामेदार होगी, यह भी तय है। राजद महासचिव ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, महागठबंधन बनाकर हमने अगर मिलजुलकर नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार बनाई तो क्या बतौर सरकार के मुखिया उनका कर्तव्य नहीं बनता है कि वे भी गठबंधन बचाते हुए दिखें। कम से कम फोन कर ही लालू यादव के साथ अपनी एकता दिखाते। उक्त नेता ने कहा, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें फोन किया।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लालू यादव को फोन कर समर्थन दिया तो क्या हमारे मुख्यमंत्री को ऐसा नहीं करना चाहिए! आखिर वे चाहते क्या हैं? तो फिर जदयू कार्यसमिति की बैइक में गठबंधन की गांठें खोले जाने पर विचार होगा ? इस प्रश्न पर प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा, गठबंधन पर नहीं दलगत बातचीत के लिए पूर्व निर्धारित बैठक नीतीश कुमार जी ने बुलाई है। इसका मायने-मतलब कुछ और नहीं निकाला जाना चाहिए। पूरे मामले में मुख्यमंत्री ने न सिर्फ खामोशी ओढ़ ली है बल्कि 104 किमी दूर राजगीर में वे आराम फरमा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: रिक्शा चलाकर और चाय बेचकर लालू ने कैसे तय किया राजनीतिक सफर

उल्लेखनीय है कि पहले भूमि घोटाले पर एक के बाद एक भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी के लालू यादव पर आरोप लगाने के बाद मुख्यमंत्री खामोश रहे और अब जब सीबीआई ने 2006 में बतौर रेलमंत्री लालू यादव ने रेलवे के अंतर्गत आने वाले आईआरसीटीसी के दो होटलों को चलाने के लिए अपने खासमखास लोगों को अनापशनाप तरह से ठेका देने और उनसे भूमि लिखवाने के मामले में दनादन छापे मार रही है।

पूछताछ कर रही है। एफआईआर दर्ज कर रही है तब भी नीतीश कुमार चुप हैं। उम्मीद की जा रही है कि मंगलवार को पार्टी में विचार विमर्श के बाद वे मंगलवार को कुछ बड़ा एलान कर सकते हैं। वे राजद के साथ महागठबंधन में बने रहे तब भी सुर्खियां बटोरेंगे और अगर अलग राह लेंगे तब भी खबरों की सुर्खियां उन्हीं के नाम रहेगी। मंगलवार से ही संसद का मॉनसून सत्र शुरू हो रहा है। उसी दिन नीतीश ने कार्यसमिति की बैठक बुलाई है।

Next Story
Top