Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

VIDEO: बेटे तेज प्रताप की शादी में शामिल होने के लिए तीन दिन की पैरोल पर पटना पहुंचे लालू

करोड़ों रुपये के चारा घोटाला के मामले में सजायाफ्ता राजद प्रमुख लालू प्रसाद अपने बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के शादी समारोह में भाग लेने के लिए तीन दिन की पैरोल पर आज शाम पटना पहुंचे।

VIDEO: बेटे तेज प्रताप की शादी में शामिल होने के लिए तीन दिन की पैरोल पर पटना पहुंचे लालू

करोड़ों रुपये के चारा घोटाला के मामले में सजायाफ्ता राजद प्रमुख लालू प्रसाद अपने बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के शादी समारोह में भाग लेने के लिए तीन दिन की पैरोल पर आज शाम पटना पहुंचे।

चारा घोटाला मामले में सजा सुनाए जाने के बाद से पिछले वर्ष दिसंबर से न्यायिक हिरासत में चल रहे लालू के आज शाम पटना हवाई अड्डे पर पहुंचने पर हजारों की संख्या में उनके समर्थक भी पहुंच गये और उन्होंने फूलमालाओं से उनका स्वागत किया।

पटना के जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डे पर शाम करीब 6.40 बजे पहुंचे लालू का स्वागत उनकी बड़ी पुत्री और सांसद मीसा भारती, बड़े पुत्र तेज प्रताप यादव, छोटे पुत्र और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, दामाद शैलेश, राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे और भाई वीरेंद्र सहित पार्टी के कई अन्य विधायकों और नेताओं ने किया।

हवाई अड्डे पर पहुंचने पर लालू को भारी सुरक्षा के बीच व्हील चेयर के जरिए गाड़ी पर बिठाकर दस सर्कुलर रोड स्थित उनकी पत्नी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास के लिए रवाना किया गया।

यह भी पढ़ें- कर्नाटक चुनाव: जुबानी जंग खत्म, अब मतदाताओं के पाले में गेंद- 12 मई को 224 सीटों पर होगा मतदान

पटना के वीरचंद पटेल स्थित राजद के प्रदेश मुख्यालय में भी पार्टी समर्थक लालू के पैरोल पर पटना आने से उत्साहित दिखे और उन्हें एक दूसरे को गुलाल लगाते देखा गया।

हालांकि, कई राजद कार्यकर्ता लालू को छोटी अवधि के लिए पैरोल पर रिहा किए जाने से दुखी दिखे और उनका कहना था कि पूर्व मुख्यमंत्री को इस तरह के अवसर पर अपने परिवार के बीच रहने के लिए कम से कम एक महीने का समय दिया जाना चाहिए था।

राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद मनोज झा ने आरोप लगाया कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि लालू के साथ अन्याय हो रहा है और इसके लिए जिम्मेवार लोगों को बिहार की जनता सबक सिखाएगी। वर्तमान समय उत्सव का है और ऐसे समय में हम सभी शिकवा-शिकायत को भूल जाना चाहते हैं।

इनपुट भाषा

Next Story
Top